Hindi Porn Stories

Sex stories in Hindi

मेरे दोस्त की प्यासी फेसबुक फ्रेंड

हेलो दोस्तों मेरा नाम प्रतीक है और मैं मुंबई से हूं. मैं एक बार फिर से अपना एक नया और रियल इंसिडेंट आपके साथ शेयर कर रहा हूं. यह चुदाई स्टोरी करीबन 10 महीने पुरानी है. कहानी की हीरोइन का नाम है सपना. उसका का रंग गोरा था. उम्र 29 साल थी. उसकी हाइट 5 फुट 6 इंच थी. और फिगर 38-34-40 था. मेरे लंड का साइज किसी को भी सेटिसफाइड कर के खुश कर सके इतना लंबा है.

मेरा एक दोस्त फेसबुक का बहोत बड़ा कीड़ा था, और उसके अकाउंट में बहुत सारी लड़कियां एड थी. वह सब लडकियों से बात करता था और हम कई लड़कियों को मिलने भी जाते थे. ऐसे ही हम सपना को मिलने अंधेरी गए हुए थे. और हम अंधेरी स्टेशन पर उसका इंतजार करने लगे. थोड़ी देर में वह जब आई तो एकदम मस्त ब्यूटी लग रही थी उस ने टॉप और लेगी पहन रखी थी और गले में मंगलसूत्र था. उसको देखते ही पेंट में टेंट बन गया.

फिर हमने बातचीत की और 15-20 मिनट बाद वह वहां से निकल पड़े अपने अपने घर. दोस्त ने मुझे ड्रॉप कर दिया. मैं सपना को याद करके मजे ले रहा था. उस दिन तो रात को सपना के नाम की मुठ मार कर सो गया. सपना को चोदने का सपना कब पूरा होगा यही सोचता रहता था.

फिर मैंने सपना को चोदने का प्लान बनाना चालू किया. पहले तो मैंने भी फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज दी. एक दिन बाद उसने भी फ्रेंड रिक्वेस्ट एक्सेप्ट कर ली. अब मेरा काम ईजी हो गया था हम अक्सर पूरे दिन फेसबुक पर बातें करने लगे थे, और मुझे उसके साथ बातें करने में बहुत मजा आ रहा था, और उसे भी मुझसे बातें करना बहुत पसंद आ रहा था.

करीब एक महीने तक ऐसे ही हमारी बातें हुई और अब वह मुझ पर भरोसा करने लगी थी जैसे दिन निकलते गए वैसे हमारी दोस्ती और गहरी होने लगी और मेरे साथ ज्यादा से ज्यादा टाइम चैटिंग में आने लगी. हम लोग रात को भी बातें करने लगे और धीरे धीरे अपने फोन नंबर भी एक्सचेंज कर लिए थे.

हमारी फेसबुक और व्हाट्सअप पर चैटिंग हो रही थी और हमें बहुत मजा आ रहा था

धीरे धीरे वह मेरे साथ उसकी सारी बातें शेयर करने लगी थी.

फिर मुझे पता चला उसको एक 4 साल का बच्चा भी है और उसके हसबैंड बिजनेसमैन है और सेल्स के लिए दिनभर मुंबई में घूमते रहते हैं और दिन भर थकान की वजह से रात को खाना खा कर सो जाते हैं, और वह सोने के बाद हम बातें करते रहते थे. अब वह मुझ से खुल कर बात करने लगी थी उसके हस्बैंड और उसके सेक्स लाइफ पर ध्यान नहीं दे रहे थे. अब वह सेक्स करने के लिए भूखी रहती थी.

अब हम इतने क्लोज हो गए थे कि अब वह मुझसे अपने हस्बैंड की जगह पर महसूस कर रही थी. उसका अकेलापन देखा नहीं जा रहा था. तो मैंने उसे सेटिस्फाय करने के लिए पूछा, पहले तो उसने ठीक नहीं समझा पर जैसे ही ज्यादा दिन निकलते गये वह मुझसे ज्यादा क्लोज हो गई. अब मुजे उस का अकेलापन सेक्स चैट से नजर आ रहा था. ऐसा ही सिलसिला एक महीने तक चलता रहा.

अब हम मिलने लगे थे, मुंबई में कई जगह पर घूमने लगे थे, साथ साथ में मूवी देखने लगे थे.

मूवी के दौरान लौंज में वह मेरे साथ सोने लगी और मैं उसको लिपट कर मूवी देखा करता और उसके बूब्स दबा देता. वह भी स्मूच कर देती और लंड की मास्टरबेट भी करती थी.

अब वह मेरे लंड की दीवानी हो रही थी. और सामने से ही चुदाई के लिए इनवाइट करती थी पर हमें प्राइवेसी नहीं मिल रही थी.

फिर एक दिन हम दोनों ने डिसाइड किया कि बदलापुर  में रिसोर्ट में जाएंगे, मैं वहां पर एक रिसोर्ट में ऐसी वाला रूम बुक कर दिया.

अब वह दिन भी आ गया था सपना को चोदने का सपना पूरा होने वाला था. हम बदलापुर में रिसोर्ट में पहुंच गए, जाते ही हम रूम पर गए और चेंज कर के पूल में स्विमिंग के लिए निकल गए.

अब हम पानी में पुरे भीग चुके थे और सेक्स की आग दोनों तरफ से  लगी हुई थी. अब हम पानी में एक ही दूजे को चिपक गए. सपना के बॉडी की गर्मी अब मैं महसूस कर पा रहा था.

हमने वहीं पर एक लॉन्ग स्मूच किया और पानी में ही उसके बूब्स के ऊपर हाथ फेरने लगा और वहां मदहोश होने लग गई थी.

अब मैंने एक उंगली उसकी स्विम सूट में से उसकी चूत में घुमाने लगा. अब वह आउट ऑफ कंट्रोल हो रही थी पूल साइड में होने की वजह से मैंने कंट्रोल किया और उसे अपने रूम में लेकर आया. और सपना मुज पर टूट पड़ी और मैं भी पूरी तरह गर्म हो गया था. अब हमने 10  मिनट तक किस किया और एक हाथ से उसके बूब्स और दूसरे हाथ से फिंगरिंग कर रहा था.

फिर मैंने उसे बैड पर धक्का देकर गिरा दिया और उसका स्विमसूट निकाल दिया वह सिर्फ ब्रा और पैंटी में थी पहली बार इतनी गजब की फिगर देख रहा था. देख कर आंखे फटी रह गई थी मैंने उसके कपड़े जट से निकाल दिए. अब हम टाइम वेस्ट नहीं करने वाले थे. उसने भी मेरे पूरे कपड़े निकाल दिए. हम दोनों ही नंगे थे.

मैंने उसके ऊपर चढ़ गया और उसके बूब्स दबाते हुए चूसने लगा उसके बूब्स एकदम कोटन की तरह सॉफ्ट थे. 10 मिनट चूसने के बाद अब उसकी चूत चाटने की बारी आ गई थी.

मेने उस के दोनों पैर फैला दिए, अपना मुंह उसकी चूत पर रख दिया. अब उसकी चूत में धीरे धीरे अपने जीभ से चाट रहा था, उसे गुदगुदी हो रही थी. वह मजा ले रही थी, अब उससे रहा नहीं गया, उसने मेरा मुंह उसके चूत में दबाना चालू किया.

अब मैं भी कहां सुनने वाला था, मैंने अपनी दो उंगली चूत में डाल दी और अंदर बाहर करने लगा अब वह आहें भरने लगी और बेड पर ही उछलने लगी और मेरा साथ देने लगी. 10 मिनट तक उसकी चूत को मैंने अपनि जीभ से चाटा, अब उसकी चूत अच्छी तरह से गीली हो गई थी.

अब मैं उठा और अपना लंड उसके मुंह में डाल दिया अब वह उसे लॉलीपॉप की तरह चूस रही थी.

15 मिनट लंड को चूसने के बाद लंड एकदम हार्ड हो गया. वह भी लंड चूत में लेने के लिए रेडी हो गई थी और खुद ही लंड को चूत पर सेट करने लगी. मैं भी अपनी पोजीशन में आया और थोड़ा धक्का दिया. लंड करीब 1 इंच चूत में घुसा और वह चिल्लाने लगी और बाहर निकालने लगी.

लेकिन अब मैं उसकी नहीं सुनने वाला था मैंने उसके हाथ पकड़ लिए और वापस एक हल्का सा झटका दिया पर अब भी पूरा अंदर नहीं गया और वह तड़पने लगी थी.

उस तडप से मेरी बॉडी में और तड़प बढ़ने लगी. अब मेने और धक्का मारा और लंड उसकी चूत में चला गया और वह तिलमिला उठी.

अब मैं थोड़ा रुका और उसे शांत किया और वापस धीरे धीरे धक्के मारना चालू किया. अब वह एंजॉय करने लगी और गांड उठा कर साथ देने लगी.

१५-२० मिनिट तक ऐसे ही चुदाई चलती रही. उसके बूब्स दबाते दबाते पूरा लाल हो गए थे. पूरा फेस चुदाई की वजह से लाल हो गया था. एसी रुम में भी बॉडी की गर्मी की वजह से हम गीले हो गए थे.

अब मैं उसे डॉगी स्टाइल में चोदना  चाहता था वह पट से हो गई डॉगी स्टाइल में पलट गई. अब लंड पीछे से उसके चूत में डालना चालू किया. पहले तो थोड़ा हार्ड लगा चूत में जाने के लिए, बाद में चूत में जाते ही मजा देने लगा. अब वह किसी कुत्तिया से भी ज्यादा चुद रही थी.

अब मैंने उसकी चूत से लंड निकाल कर उसकी गांड पर रख दिया. वह गांड मरवाने के लिए मना करने लगी.

लेकिन मै कहा सुनने वाला था? मैं उसके बैग से वेसेलिन निकाला और अपने लंड पर और उसकी गांड के होल पर लगाया और अपनी दो उंगलियों से उसकी गांड में भर दिया.

अब लंड गांड में घुसने के लिए तैयार था.

मेने लंड गांड पर रखा और एक हल्का सा धक्का दिया. लंड का सुपारा गांड में चला गया लेकिन सपना चिल्लाने लगी और लंड बाहर निकालने को कहने लगी.

मैंने उसके मुह को दबाया और धीरे धीरे लंड गांड में दबाना चालू किया. अब वह और भी चिल्लाने लगी और मेरे हाथ की वजह से चिल्ला नहीं पा रही थी.

उसने मेरे हाथ को काट लिया अब मेरा लंड तो नहीं सुनने वाला था. लंड अंदर बाहर करना चालू किया पहले सपना को दर्द हुआ पर थोड़ी देर बाद अच्छा फील हो रहा था. अब मैं जोर का झटका दिया और लंड पूरा गांड में चला गया.

अब सपना को भी मजा आ रहा था. १५-२० मिनट के बाद मैं झड़ने वाला था तो सपना ने कहा कि गांड में ही जड जाओ. थोड़ी देर के  बाद मैंने उसके गांड में अपना पूरा कम छोड़ दिया.

अब मैं और सपना पूरा भीग चूके थे और बेड पर गिर गए. वह मेरे लंड को अपने टंग से साफ करने लगी. और 5 मिनट बाद मेरे साथ आकर बेड पर सो गई.

उसके चेहरे पर पहली बार इतनी खुशी देखकर मैं खुश हो गया. उसने भी बताया कि उसके पति इतनी अच्छी तरह से सेक्स कभी नहीं करते, और पहली बार गांड मरवा कर वह खुश हो गई. और हम अगले एक घंटे बाद वापस अपने अपने घर निकल गए.

1 Comment

Add a Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Hindi Porn Stories © 2016 Frontier Theme