Hindi Porn Stories

Sex stories in Hindi

मामी को चोद के ख़ुशी दी

हेलो दोस्तों, मेरा नाम सैम है. मैं १९ साल का लड़का हूं. मैं दिल्ली से बिलोंग करता हूं. मेरी हाइट ६ फुट है. मेरे लंड का साइज़ ६.५ इंच हे. मैं काफी टाइम से कहानियां पढ़ रहा हूं तो आज मैंने सोचा कि मैं अपनी भी कहानी के बारे में आपको बताऊं.

यह कहानी मेरी और मेरी प्यारी मामी के बीच की है, उनका नाम संगीता है, उनकी उम्र ३८ साल है, और उनका सेक्सी फिगर ३८-२८-३८ है. वह दिखने में बहुत क्यूट और हॉट हे. में उनको चोदने के सपने करीब एक साल से देख रहा हूं और आख़िर में वह सपना पूरा हो ही गया, तो यह बात है कुछ चार पांच महीने पहले की, जब मैं अपने मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम देकर फ्री हुआ ,था तो कुछ दिन बाद मेरी मम्मी के पास मेरी मामी का फोन आया, उन्होंने कहा कि मेरे मामा कुछ दिनों के लिए बाहर जा रहे हे तो उन्होंने मम्मी से मुझे वहां बुलाने के लिए पूछा, तो मम्मी ने हां कर दिया, मुझे भी कोई प्रॉब्लम नहीं थी क्योंकि मैं ऑलमोस्ट फ्री ही रहता था.

अगले ही दिन में अपना सामान लेकर वहां पहुंचा तो मामी ने दरवाजा खोला, मैंने देखा की मेरी मामी पिंक सूट में इतनी हॉट लग रही थी, उसका गला भी बहुत डीप था, उन्होंने जैसे ही मेरी तरफ देखा उनकी आंखों में एक चमक सी आ गई थी. मेरे मन में तो लड्डू फूट रहे थे की वाह क्या मौका मिला हे मेरा सपना पूरा करने का.  फिर उन्होंने मुझे अंदर आने को कहा और में सोफे पर बैठ गया, अब सच में अपना सारा टाइम यही सोचने में लगा रहा था कि उनको मैं कैसे चोद सकता हूं, बस एक प्रॉब्लम थी की उनके २ बच्चे भी थे.

फिर मेरे दिमाग में एक आइडिया आया कि क्यों न उन्हें अपने ६.५ इंच के पाइप के दर्शन कराएं जाए, तो उस रात में खाना खाकर अपने रूम में सोने चला गया, सोने से पहले एक बार मामी के नाम का मुठ मारा.

फिर सुबह जब मामी उठी तो मेरी भी हलकी सी नींद खुल गई, क्योंकि वोशरुम मेरे रुम के साथ था इसलिए जैसे ही वह मेरे रूम से हो कर गई मैंने अपना लंड बाहर निकाल कर पूरा खड़ा कर दिया और उसके ऊपर चादर ढक दी ताकि एक टेंट सा बन जाए और में सोने का नाटक करने लगा. अब जैसे ही वह बाहर आई उन्हों ने मेरा टेंट देखा और देखती रही थोड़ी देर तक फिर वह चली गई क्योंकि उनके बच्चों के स्कूल जाने का टाइम हो रहा था, अब आधे दिन पुरे घर में सिर्फ हम दोनों की रहने वाले थे, मैं फ्रेश होने के बाद ड्राइंग रूम में गया और मैंने मामी से ब्रेकफास्ट लगाने को कहा और मैंने उन्हें भी साथ खाने को कहा.

फिर हम दोनों ब्रेकफास्ट कर के बैठ गए वैसे ही कुछ बातें करने लगे, मामी एक मैगेजीन पढ़ रही थी तो वह उनके हाथ से नीचे गिर गई. उस को उठाने के लिए जैसे ही नीचे झुकी तो उनके मोटे दूध का नजारा देख कर मेरा लंड तो पागल सा हो गया था. अब वो धीरे धीरे बाहर आना चाह रहा था, लेकिन मैंने किसी तरह अपने आप को कंट्रोल किया.

फिर मामी ने मुझसे कहा कि जरा किचन में मेरी कुछ हेल्प कर दो, मैंने कहा ठीक है क्या करना है? उन्होंने कहा कुछ वाटर बोटल फिल कर के फ्रिज में रख दे, तो मैं अपना काम करने लगा और मामी भी साथ खड़ी होकर अपना काम कर रही थी. उन्होंने उस दिन जो सूट पहना था उसकी बेक बहुत डीप थी तो उनकी पूरी बैक में देख पा रहा था और मेरा लंड पूरा टाइट हो चुका था.

मैंने किसी तरह से छुपाने की कोशिश की फिर सडनली मामी मेरे तरफ आई और उन्होंने ग्लास ड्रोवर खोला, ग्लास द्रोवर बिल्कुल ही मेरे लंड के सामने था, तो उसे खोलते टाइम उनका हाथ सीधा मेरे लंड पर गया, हम दोनों को जैसे करंट लग चुका था, दोनों घबरा गये और मेरी मामी ने मुझे कहा मैं नहा कर आती हूं, और एक छोटी सी स्माइल देकर वह चली गई, उनकी यह स्माइल देख कर मैं समझ गया कि वह धीरे धीरे गरम हो रही है, वह मुझसे कुछ चाहती है और मैं उन्हें सब देने के लिए तैयार हूं.

फिर मैं अपने रूम में चला गया तो वहां बस बैठा ही था की मामी ने आवाज लगाई कि सेम जरा टॉवल देना, मेरे मन में तो लड्डू फूट गए, मैं टॉवेल लेकर बाथरूम के बाहर खड़ा हुआ तो मामी ने अंदर से हाथ बढ़ा कर टॉवेल पकड़ लिया, अंदर का नजारा देखने के लिए मैं आगे झुका तभी मामी ने दरवाजा पटक से बंद कर लिया. और मैं चला गया, अब उनके बच्चों का आने का टाइम हो गया था, तो वह खाना बना रही थी. फिर उन्होंने बच्चों को लंच कराने के बाद मुझे सुला दिया और मेरे रूम में आकर बैठ गई, फिर हमें ऐसी ही बातें करने लगे.

मामी ने कहा : सैम कोई दिक्कत तो नहीं हो रही?

मैंने कहा : नहीं मामी सब ठीक है.

मामी ने कहा : पक्का, रात को सोने में कोई दिक्कत तो नहीं आती ना??

(मैं अब समझ चुका था मामी सुबह वाली बात कर रही है)

मैंने कहा : नहीं मामी कोई टेंशन वाली बात नहीं है, सब ठीक है.

मैंने कहा : ठीक है.

मैने कहा : मामी आप कितनी स्वीट हो सब का कितना ख्याल रखती हो, आप जैसी बीवी हर बंदे की लाइफ में हो तो उसका तो वह बंदा कभी दुखी ना रहे.

मामी ने कहा : हां बेटा तू तो समझदार है, पर इस घर में कुछ लोग ऐसे भी है जिन्हें दूसरों की कोई चिंता नहीं.

मैंने कहा : कौन है वह मामी? क्या आप मामा की बात कर रही हो?

फिर वह बहुत उदास होकर बोली : हां.

वह बोली : तेरे मामा तो मुझे टाइम ही नहीं देते मैं अकेले पड़ी सडती रहती हूं.

मेने कहा : मामी आप टेंशन मत लो, मैं आपके साथ हूं.

मामी ने कहा : बेटा तुम वह खुशी नहीं दे सकता जो में चाहती हूं, फिर वह रोने लगी मैंने कहा मैंने आप एक बार बोल कर तो देखो मैं आपको रोता हुआ नहीं देख सकता.

फिर उन्होंने मेरे कंधे पर सर रख कर रोने लगी, मैंने मामी को किसी तरह चुप कराया और कहां जाव जाकर मुंह धो कर आओ, जब वह बाथरुम में गई तो मैं उनके पीछे पीछे गया और उनकी मोटी गांड और बेकलेस सूट देख कर मैं खुद को रोक नहीं पाया और उनके पीछे से जाकर हग कर लिया, उनकी स्मेल को सुघने लगा, मैंने कहा मामी मैं प्रॉमिस करता हूं, आज के बाद आपको इस बात पर रोने नहीं दूंगा, और उन्हें पलटकर उनका फेस अपनी तरफ  कीया फिर उन्होंने कहा सच्ची? मैंने कहा आप की कसम मामी आई लव यू.

यह कहते ही मैंने उन्हें किस करना शुरु कर दिया और वह भी मेरा साथ दे रही थी. मैं ५ मिनट तक किस करने के बाद उन्होंने मेरे और मैंने उनके कपड़े एक एक कर के सारे कपड़े उतारे, अब हम दोनों पूरे नंगे थे, और उनके बड़े बूब्स देख कर किसी का भी रस निकल जाए, अब वह नीचे बैठी थी और मेरा लंड पकड़ कर सहलाने लगी.

फिर उन्होंने पूरा लंड मुंह में ले लिया और चूसने लगी, ५ मिनट तक चूसने के बाद भी नहीं जडा तो उन्होंने कहा क्या बात है बहुत एक्सपीरियंस लगता है? मैंने कहा हां सब कुछ आपके लिए ही तो बचा कर रखा था. वह अपने बूब्स मेरे मुंह के पास ले आई और उन्हें चूसने को कहा, उनके खड़े हुए निपल और गर्म बूब्स चूस कर मजा ही आ गया. मेने चूसना और तेज कर दिया, अब वह सिसकिया लेने लगी थी और गर्म हो चुकी थी. फिर मैं नीचे बैठे उनके लेग उठा कर अपनी गर्दन पर रखी और उनकी चूत  चाटना शुरू किया. १० मिनिट तक चाटने के बाद वह जड़ गई.

मैंने उनका सारा पानी पी लिया. फिर मैंने अपनी दो उंगली उनकी चूत में डाली तो वह कापने लगी, कहने लगी बस और मत तड़पाओ सीधा डाल दे, और मोन करने आः हो अहह हुऔउ ओह अहह आयी ह ओइअह्ह आज दिखा तुझमें कितना दम है.  फिर मैं खड़ा हुआ और उनकी एक टांग हाथ में उठाई और धीरे से अपना लंड अंदर डाला, उनकी चूत बहुत टाइट थी, तो एक बार में थोड़ा अंदर नहीं गया. फिर मैंने धक्के मारने शुरू कीये. अब उन्हें भी मजा आने लगा था वह धीरे धीरे चीखने लगी थी.

१० मिनट के बाद मैंने अपना लंड बाहर निकाला और उन्हें दीवार के सहारे उल्टा खड़ा कर के उनकी चूत में लंड डाला, फिर धक्के मारना शुरू किया, अब वह पूरी तरह से सेटिस्फाय हो रही थी और चीख रही थी. मैं झड़ने वाला था तो मैंने जल्दी से अपना लंड निकाला और उनके मुंह में डाल दिया, वह मेरा सारा दूध पी गई. फिर हम दोनों साथ में बेड पर आकर एक ही ब्लैंकेट के नीचे नंगे लेट गये. आधे घंटे तक मैं उनके बूब्स और गांड सहलाता रहा और वो मेरे लंड को सहलाती रही, अब हम जब भी मिलते हैं कोई ना कोई आइडिया तो निकाल ही लेते है सेक्स करने का.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Hindi Porn Stories © 2016 Frontier Theme