Hindi Porn Stories

Sex stories in Hindi

टूरमें अम्मी कि चुदाई देखी

हाय दोस्तों यह मेरी पहली चुदाई की कहानी है, और इस कहानी में मैं अपने अम्मी की चुदाई कैसे हुई वह बताऊंगा. उससे पहले मैं अपना इंट्रोडक्शन देता हूं. मैंरा नाम साहिल हे और मेरी उमर १८ साल है. मेरे घर में मेरी रंडी अम्मी, अब्बू और मैं रहते हे. यह सब सुन कर आप लोग हैरान हुए होंगे कि मैं अपनी अम्मी को रंडी क्यों कह रहा हूं, लेकिन यह कहानी पढ़ने के बाद आप लोग भी मेरे अम्मी को रंडी  ही बोलेंगे.

मेरी अम्मी का नाम नाजिया हे और उसकी उमर ३६ साल है. मेरी अम्मी की  हाइट ५ फुट ९ इंच है और उसका वजन ७० किलोग्राम है. मेरी अम्मी की बदन को सोच के न जाने कितने लोग अपना मुठ मारते होंगे, यहां तक कि मैं और मेरे ग्रुप के 4 दोस्त भी अम्मी को याद करके मुठ मारते हैं

पहले मैं मेरे अच्छे और सच्चे दोस्तों पर गुस्सा होता था कि अम्मी के बारे में सही बोलो, लेकिन अब मैंरी भी अम्मी के बारे में सोच बदल गई हे. अम्मी हर वक्त नाईटी में पहन के  होती है. और वह ज्यादा घर से बाहर नहीं जाती हे और उसे अगर जाना हो तो साड़ी या फिर सलवार पहन लेती है. और कभी तो बुरखा भी पहन लेती  है.

अब्बू एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करते हैं. यह कहानी पिछले महीने की है जब हम सब रिश्तेदार के निकाह में जा रहे थे, मेरे खाला के बड़े बेटी का निकाह था. मैं और अम्मी १० दिन पहले जा रहे थे और अब्बू को ऑफिस के काम से इतना दिन छुट्टी लेना मुमकिन नहीं था इसीलिए वह तो निकाह के वक्त ही आने वाले थे.

उस दिन शुक्रवार था और सब प्राइवेट बस, ट्रेवल्स फुल थे. हम लोगो ने एक घंटे बस स्टॉप पर रुके थे, मैं और अम्मी हमारे सामान के साथ एक साइड में बैठे हुए थे, और मेरे अब्बू यहाँ वहा घूम घूम कर हमारे लिए बस ढूंढ रहे थे. उनको सीट मिल रही थी लेकिन बाजू वाली सीट पर आदमी मिल रहा था मैं तो एडजस्ट कर सकता था लेकिन अम्मी को औरत साइड पैसेंजर चाहिए ऐसा अब्बू सोच रहे थे, इसीलिए बहुत टाइम लग रहा था. हमारे सफर में कम से कम १६ से १७ घंटे लगने वाले थे.

शुक्रवार रात के ९:३०  बज गए थे. फिर मैने अम्मी को कहा आप यहां बैठिए मैं ज़रा वॉशरूम होकर आता हूं. अम्मी बोली ठीक है. मैं वाशरूम से आकर जरा दूसरी तरफ रुक गया. तभी मुझे दो तीन लोग अम्मी की तरफ देख के गंदी बातें करते और हंसते हुए दिखे और अम्मी भी उन लोगों को लाइन दे रही थी. अम्मी ने उस वक्त पिंक कलर की साड़ी और सिल्वर कलर का सिवलेस ब्लाउज पहना हुआ था. साड़ी नवल के बहुत नीचे तक बंधी हुई थी. पैरों में पायल, आँखों में काजल, बहुत सारा मेकअप करके अम्मी एक टॉप क्लास  की रंडी दिख रही थी, जैसे अपने यार से चुदने जा रही हो. वह सब मैं देख रहा था. तभी अब्बू वहां अम्मी के पास आए.

तब भी अम्मी उन लोगों के पास चुप चुप के देख रही थी. उन लोगों के बातों से मुझे पता चला कि वह भी हमारे गांव ही जा रहे थे. मैं अम्मी और अब्बु के पास गया, अब्बू बोल रहे थे कि सारी बसे एकदम फुल हे तो हम नहीं जा सकते और उन्होंने कहा की चलो घर चलते हैं. अम्मी बोली नहीं अब आए हैं तो किसी ना किसी बस में निकल ही जाते हैं, आपकी वजह से सीट नहीं मिली. अम्मी गुस्सा थी अब्बू पे.  इस लिए मेरे अब्बू  फिर से जाकर हमारे लिए बस ढूंढने लगे. मैं और अब्बू बैठे थे. हम भी बैठे थे फिर १०:३०  बजे एक आदमी को बजे लेकर आए.

अब्बू ने कहा नाजिया, यह मनोज है और उनकी गाड़ी भी अपने गांव जा रही है, इनकी गाड़ी में और २ लोग हैं यह अपने ही एरिया में रहते हैं.

अम्मी ने कहा : ठीक है आप ढूंढ के लाये हो तो  अच्छा ही होगा.

मैंने कहा : कौन सी गाड़ी है अब्बू?

मनोज ने कहा : मरे पास महिंद्रा xuv 500 हे. मैने उसे लिए हुए  २ महीने ही हुए हैं.

मैंने यह सुनकर कहा बहुत अच्छी गाड़ी है.

( हम लोग उस गाड़ी के पास गए तो देखा के वह वही लोग है जो अम्मी को घुर कर देख रहे थे.

अब्बू और मैंने गाड़ी में सामान रख दिया.

मैंने कहा : अंकल क्या मैं आगे बैठा जाऊ, अब्बू प्लीज?

अब्बू ने कहा : अम्मी को बैठने दे आगे, और तू पीछे बैठ जा.

मैंने कहा प्लीज मैंने बहुत रिक्वेस्ट की प्लीज़ अब्बू प्लीज़ अम्मी प्लीज़ मुझे आगे बैठना हे. मुझे सब देखना हे.

अम्मी ने कहा : ठीक हे बैठो तुम आगे. मैं पीछे बैठ जाती हूं.

मैं यह सुनकर बहुत खुश हुआ

अब्बू ने कहा नाजिया, पैसे मनोज को दे दिए हैं. तुम वहां जाते ही मुझे कॉल कर दो. मनोज भाई कब तक जाएगी गाड़ी?

मनोज ने कहा कल शाम ५ से ६ बजे तक पहुंच जाएंगे.

अब्बू ने कहा : ओके, अच्छे से जाना, मैं चलता हूं, बाय.

और हमारी भी गाड़ी चल दी.

गाड़ी में मनोज, अजय, रोहन यह सब हमारे एरिया में रहने वाले थे और मुझे पता है कि यह सब अम्मी को जानते होंगे. सबकी सब की उम्र 25 साल के आस पास होगी ऐसा मुझे उनको देख के लग रहा था और मुझे लग रहा था की वह लोग कही घुमने के लिए जा रहे हे.

थोड़ी देर गाड़ी चलती रही उसके बाद

अम्मी ने कहा : तुम्हारी गाड़ी बहुत अच्छी है.

मनोज ने कहा : हां आंटी जी अभी २ महीने ही हुए हैं इसको लिए हुए.

अम्मी ने कहा : अरे मेरा नाम नाजिया है. तुम लोग मुझे आंटी मत कहो.

मनोज ने कहा : आप उम्र में मुझसे बड़ी है इसीलिए मैं आपको आंटी बुला रहा हूं.

अम्मी ने कहा :  कुछ नहीं, और तुम्हारे नाम क्या है?

मनोज ने कहा : मैं मनोज, यह ब्लैक टी शर्ट वाला अजय, और आप के बाजू वाला रोहन हे हम सब अच्छे दोस्त हे.

अम्मी ने कहा : ओके यह मेरा बेटा शाहिल. आप सब टूर पर हो क्या? हमने आप का टूर खराब तो नहीं किया ना?

रोहन ने कहा : हम सब लोग टूर पर हैं मनोज का प्रमोशन हुआ है इसलिए सेलिब्रेशन है. लेकिन हमारा टूर खराब क्यों होगा?

अम्मी ने कहा : ओह मनोज कांग्रेचुलेशन. नहीं आप सब इंजॉय करते हुए जा रहे थे लेकिन अब हम आ गए. तो आप को अच्छे से आपकी सफर में इंजॉय करने को नहीं मिलेगा ना.

अजय ने कहा : तो इसमें क्या हे बहनचोद आप भी हमारे साथ इंजॉय कर लो.. औहह ओह्ह  सॉरी…  वैसे आप किधर जा रहे हो?

मनोज ने कहा : है अजय डोंट..

रोहन ने कहा : सॉरी नाजीया, यह पागल हे यह ऐसे ही बातें करता है.

अजय ने कहा : सॉरी आंटी जी

अम्मी ने कहा : फिर से आंटी?

अजय ने कहा : हस्ते हुए सोरी आंटी जि.

मनोज ने कहा : नाजिया यह कभी नही सुधरेगा, तुम्हें तंग कर रहा है वह.

अम्मी ने कहा : अच्छा अगर अब आंटी बोला ना मैं तेरा गला दबा दूंगी समझे?

अजय ने कहा : ठीक है आंटी जी. अम्मी उसका गला दबाने लगी मैं भी देख रहा था अम्मी के बोल रोहन के कंधे पर दब रहे थे.

अम्मी ने कहा : अब बोल आंटी.

अजय ने कहा : ओह्ह  सॉरी नाजिया ( हंसते हुए )

ऐसे ही मजाक मस्ती करते हुए हम एक ढाबे पर रुक गये.

मनोज ने कहा चलो नाजिया, साहिल खाना खाने

मैं और अम्मी ने कहा नहीं हम खा कर निकले हैं

अजय ने कहा थोड़ा तो खाओ हमारे साथ यह पर अकेले बैठ कर क्या करोगे?

फिर में और अम्मी भी उठ गये और उनके साथ टबल पर बैठ गये.

हम सब खाना खाने बैठ गए और बातों बातों में आगे

अजय ने कहा : आप ने लव मैरिज की है या अरेंज मैरिज?

अम्मी ने  कहा : अरेंज मैरिज.

रोहन ने कहा : ओह माय गॉड

अम्मी ने कहा ; क्या हुआ?

रोहन ने कहा : आप जैसी हॉट हो आई मीन सुंदर  लड़की हो फिर भी आपने अरेंज मैरेज की हे?

अम्मी ने कहा : हम्म, और तुम सब का बताओ, हूं कोई गर्लफ्रेंड तो होगी, क्यों और अजय की तो ३ से ४ गर्ल फ्रेंड होंगी. क्यों अजय?

सब हंसने लगे

मनोज ने कहा : सही पहचाना नाजिया. चार गर्लफ्रेंड है, हमसे एक नहीं संभलती है.

अम्मी ने कहा : तो गर्लफ्रेंड को साथ क्यों नहीं लाए? अकेले मजे कर रहे हो.

अजय ने कहा : बहनचोद उन  रंडियों का नाम मत लो साली छिनाल पैसे वाला लड़का दिखा क्या पैर फैला देती हे उनके सामने.

अम्मी ने कहा : ओह्ह क्या?

मनोज ने कहा : उसका ब्रेकअप हुआ है सीरियस वाली गर्लफ्रेंड के साथ तब से वह ऐसे ही है

मैंने कहा : सभी लड़कियां ऐसी नही होती है.

रोहन ने कहा : ओह्ह्ह, तो  बेटा बताओ आपकी गर्लफ्रेंड कैसी है?

मैंने कहा : नहीं हे,  मैं तो ऐसे ही बोल रहा था.

कुछ देर बाद हम सब गाड़ी में बैठ गए मेरी तो नींद लग गई अम्मी और वह सब बातें कर रहे थे मेरी आंखें सुबह ७ बजे खुल गई.

सब सोए हुए थे और रोहन गाड़ी चला रहा था और अम्मी मनोज और अजय के बीच में बैठी हुई थी.

मैंने कहा : गुड मॉर्निंग

रोहन ने कहा : गुड मॉर्निंग

मैंने कहा : कहां हैं हम सब

रोहन ने कहा : अभी बहुत दूर है, तुम्हारी नींद कैसे रही?

अजय ने नींद से उठते हुए रोहन को कहा की साइड में अच्छी जगह देख कर गाड़ी रोक दो मुझे सूसू करनी है.

रोहन ने कहा ठीक है

अम्मी और मनोज को अजय जगा देता है

अजय कहता हे उठ जाओ.

मैंने कहा : रोहन भैया बाजु से  नदी जा रही है. यहीं पर हम लोग नहा लेते हैं, लोज से अच्छा.

मनोज ने कहा : हां बहुत अच्छा आईडिया है तुम्हारा.

अम्मी ने कहा और मैं क्या करूं?

अजय ने कहा तुम भी नहा लो वहां, उसमें क्या है?

अम्मी ने कहा नहीं तुम सबके सामने?

मनोज ने कहा : कुछ नहीं होता कितना पुराने खयालात रखती हो. हम लोग कुछ नहीं करेंगे. अगर आपको ऐसा लग रहा है तो आप पहले नहा लो अम्मी ने कहा ठीक है चलो देखते हैं.

थोड़ी देर बाद गाड़ी कच्ची सड़क से एकदम नदी के साइड में चला दी. करीब करीब ३० मिनट चलने के बाद एक अच्छी जगह स्विमिंग के लायक दिखी वहां गाड़ी रुकवा दी.

सब लोग उतर गए और अपने कपड़े बैग से निकालने लगे.

मनोज ने कहा : नाजिया पहले तुम नहा रही हो के हम जाये?

रोहन ने कहा : एक काम करो. हम इस साइड नहाते हैं और उस साइड तुम नहा लो.

मैंने कहा : अम्मी आपको स्विमिंग आती है

उसने कहा हा.

मनोज ने कहा : अरे हमारे साथ कर लो स्विमिंग, पानी के अंदर कुछ नहीं दिखेगा.

अम्मी ने कहा :  नहीं पहले मैं नहा लूं फिर तुम लोग नहा लेना.

अम्मी उस साइड चली गई और वहां नहाने लगी हम सब गाड़ी के यहां रुक गए.

१५ मिनट के बाद अम्मी आ गई. अम्मी को देख कर सब की आंखें खुली ही रह गई. अम्मी ने काले कलर का लूज नाईटी पहना हुआ था.

अम्मी ने कहा : जाओ तुम लोग स्विमिंग करने

सब चले गए स्विमिंग करने. लेकिन मुझे स्विमिंग आती नहीं इसलिए मैं साइड में नहा कर बाहर आ गया. मुझे पता था कि अगर मैं यहां रुका तो कुछ नहीं होगा. इसलिए मैंने अम्मी से कहा कि मैं गाड़ी में जा के गाने सुन रहा हूं

सब बोले ठीक है.

और थोड़ी ऊपर जाकर में चुप के से  देखने लगा.

अम्मी और उन लोगों में बातें चल रही थी. वह पानी में मस्ती कर रहे थे.

तभी मनोज ने अजय की चड्डी निकाली और रोहन के पास फेंक दी. अजय रोहन के पास गया तो रोहन ने फिर मनोज के पास फेंकी. मनोज ने अम्मी के पास. अम्मी ने वह कैच कर ली. वह अजय को चिढ़ाने लगी तो अजय अम्मी की तरफ आने लगा.

अम्मी ने कहा आओ पानी के बाहर हिम्मत है तो

अजय ने कहा देखो चुप चाप दे दो नहीं तो..

अम्मी ने कहा : नहीं तो क्या?

इतना सुनते ही अजय पानी के बाहर आया और अम्मी को पकड़ लिया

अम्मी ने कहा बेशरम..

अजय ने अम्मी को कंधे पर उठाया और पानी में लेकर गया

अम्मी की गांड सिल्क की तरह चमक रही थी, क्या नजारा था?

अम्मी की नाइटी के अंदर अजय का मुह था और अम्मी को वह पानी में उठा लिया. अम्मी जाने दो कह रही थी. ऐसा लग रहा था कि अजय अम्मी को चूत चाट रहा हे. मनोज ने अम्मी की नाईटी ऊपर की. अजय अम्मी की चूत चाट रहा था. रोहन ने कहा अजय साले साइड में चल वहां रंडी को दिखाते हे की चोदना क्या होता हे.

अम्मी ने कहा साहिल आ जाएगा अम्मी मना कर रही थी.

रोहन अम्मी को साइड लेकर आया और नाईटी पानी में फेंक दी अब सब नंगे थे. अम्मी उनके बीच में खड़ी थी, सभी अम्मी को ही देख रहे थे. और अम्मी सभी को देखते हुए बोली नहीं अभी नहीं  कही रूम में जाकर करते हैं.

अजय ने अम्मी के बाल पकड़े और अम्मी के मुंह में उसका लंड घुसेड़ दिया. रोहन ने अम्मी की गांड उठाई और चूत चाटने लगा. मनोज लंड हिलाते हुए अम्मी के बोल दबा रहा था. लेकिन अजय अम्मी का मुंह जोर दार चोद रहा था. पूरा लंड अम्मी के मुंह में डाल कर निकालता और फिर से पूरा अंदर डाल देता.

मनोज ने कहा : साली बस स्टॉप पर बहोत देख रही थी.

रोहन ने चूसते हुए बोला साली एरिया की रांड जब से देखा है तब से तेरी गांड और चूत चोदने का इरादा था जो कि आज पूरा होगा. साली आज देख तुझे ऐसे चुदाई  मिलेगी जो  तूने देखी नहीं होगी. अजय ने कहा साली की चूत आज कम से भर देंगे. रंडी को फिर से अपने बच्चे की अम्मी बना देंगे.

अम्मी ने कहा आह हह्ह्ह ओह्ह्ह अह्ह्ह उम्म्म ओह्ह बस हो गया रोहन अह्ह्ह ओह्ह   और अंदर अपनी जीभ डाल दो.

अम्मी अब पूरे मजे से अजय का लंड चूस रही थी, जैसे कोई बच्ची लालीपॉप चूसती हो.

अम्मी अजय के लंड का आगे का हिस्सा जीभ से चाट रही थी. थोड़ी देर बाद अजय अम्मी के पीछे चला गया और चूत के ऊपर अपना लंड हल्का सा रख दिया. अम्मी मनोज के लंड को हाथ में लेकर एक हाथ से सहलाने लगी और एक हाथ से अजय के लंड को चूत के हाल में डाल दी.

अजय का मोटा लंड अम्मी की चूत में अपनी जगह बना रहा था, और जितना अंदर जाता उतना अम्मी की चींखे बढ़ती. लेकिन मनोज अम्मी के मुंह में लंड डाला था, इसीलिए चीखें इतनी सुनाई नहीं दे रही थी.

रोहन अम्मी के लटकते हुए बोल चूस रहा था कुत्ते की तरह. एक बार अम्मी के चूत में लंड अंदर बहार करने के बाद उसने एक हाथ से बाल जोर से पकड़ लिए और जोर से लंड अंदर बाहर करने लगा. इतने में अम्मी जोर जोर से चिल्लाने लगी, बॉल इधर उधर लटकने लगे, अम्मी के बाल पकड़े होने की वजह से अम्मी आगे भी नहीं जा सकती थी. बीच बीच में अम्मी की गांड पर तमाचा मार रहा था.

१० मिनट तक जोर जोर से चोदने के बाद अजय अम्मी की चूत में ही जड गया. फिर अम्मी नीचे बैठ  रही थी तभी रोहन ने अम्मी के बाल पकड़े और वहां से दूसरी तरफ ले गया. और नीचे सो गया और अम्मी कुत्तिया की तरह रोहन का लंड चूस रही थी. मनोज  अम्मी के चूत में लंड डाल दिया, और अम्मी फिर से चीखने लगी.

मनोज ने कहा कह क्या चूत हे साली की.

अम्मी ने कहा आह्ह हम्म्म्म  तुम सालों की गर्ल फ्रेंड मर गयी होगी, किसी कुत्तिया को चार पाच कुत्ते चोदते हैं वैसे चोद रहे हो.

अजय ने कहा हम सभी काम मिल कर करते हैं. साली तुझे भी मिलकर ठोकेंगे.

मनोज १०-१५ मिनट के बाद अम्मी की चूत में जड गया.

मनोज और अजय साइड में जाकर सो गए.

अब रोहन की बारी थी. रोहन ने अम्मी के गांड के छेद को थूक  लगाई.

अम्मी समझ गई थी उसकी गांड की बारी थी. मुह और चूत तो सहन कर लिया लेकिन गांड नहीं होगा.

तब तक रोहन ने अपना लंड गांड में घुसा दिया था अम्मी जोर जोर से छुटकारा पाने की कोशिश कर रही थी लेकिन में लंड गांड में डाल दिया था.

रोहन ने कहा बहनचोद गांड में भी तुम लंड लेती हो क्या? इतना टाइट नहीं लग रहा.

अम्मी ने कहा: अह्ह्ह ओह्ह्ह आह्ह आऊउ  बस हो गया, आह्ह ओह्ह्ह  मर गई

सब हंस रहे थे

रोहन ने लंड गांड में से निकाल दिया और नीचे सो गया और अम्मी को बोला आजा लंड पर बैठ जा. अम्मी ने थोड़ी थूक हाथ पे ली और गांड में लगा दी और लंड पे लगा दी और फिर रोहन के तरफ मुंह करके बैठ गई.

अम्मी ने कहा : कोई तो मेरे मुह में लंड दे दो ना प्लीज़ मुझे एक लंड मेरे मुह में चाहिए. मुझे दो प्लीज.

अजय लो तरफ अम्मी की बड़ी गांड ऊपर नीचे हो रही थी, वह देखकर मनोज और अजय का लंड फिर से टाइट होने लगा…  दोनों उठकर अम्मी के मुंह के पास लंड लेकर गए, अम्मी वह देख कर बहुत खुश हो गई, और दोनों का लंड एक एक करके चूसने लगी. ये कहानी आप हिंदी पोर्न स्टोरीज़ डॉट कॉम पर एन्जॉय कर रहे हो.

तब तक रोहन अम्मी के गांड में जड गया था लेकिन अब तक अम्मी की प्यास प्यास नहीं बुजी थी.

अम्मी ने : कहा अजय अपनी रंडी को चोद ना..  तब तक प्यासी रहू..

अजय ने कहा डर मत साली तेरी प्यासी आज से हम ही बुझा देंगे,  आ मनोज इसे देखाते हैं टू इन वन.

अजय फिर नीचे सो गया और अम्मी के चूत में लंड डाल दिया और मनोज अम्मी के गांड में लंड डाल रहा था.

अम्मी ने कहा : नहीं, नहीं होगा मुझसे.

लेकिन अम्मी की कोई नहीं सुनी

और दोनों चालू हो गए..

अम्मी दोनों के बीच में पिस रही थी मनोज जल्दी झड़ गया लेकिन अजय अम्मी की चूत में अभी भी धक्के दे रहा था. अम्मी अहह अहह ओह्ह अब तो बस हो गया और आह्ह ओह्ह्ह करके जड गयी.

अजय भी अम्मी की चूत में जड गया. चारों एक साथ नंगे  सोए हुए थे.

अजय ने कहा कैसी रही चुदाई नाजिया.

अम्मी ने कहा बहुत अच्छी ऐसी चुदाई अब तक देखी  नहीं थी.

ऐसा मजा मुझे सील टूटते वक्त आया था.

मनोज ने कहा : वो ठीक है चलो अब नहाते हैं और जाते हैं नहीं तो साहिल आ जाएगा

फिर वह सब नहा लिए और अम्मी ने रोहन का बड़ा शर्ट पहन लिया, जिससे अम्मी की गांड और बोल ढक गया था, और में चुपके से आकर  गाड़ी में सो गया.

सब लोग ने शॉर्ट्स पहनी और बनियान पहने और गाड़ी में बैठकर गाड़ी चल पड़ी.

हमारे गांव के पहले एक सुनसान सड़क पर चलती गाड़ी में अम्मी ने सलवार कमीज पहन ली.

और फिर उन लोगों ने हमें गांव में पहुंचा दिया.

अगली बार से अम्मी उनकी रंडी बन चुकी थी.

1 Comment

Add a Comment
  1. Mithlesh Raghuwanshi

    मुझे गान्ड मरानी है

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Hindi Porn Stories © 2016 Frontier Theme