Hindi Porn Stories

Sex stories in Hindi

विधवा भाभी का प्यार

हेलो दोस्तों सभी भाभी, आंटी और लड़कियों को मेरा प्रणाम. मेरा नाम रोहित है और मैं मुंबई का रहने वाला हूं.

आप लोगों ने बहुत सारी कहानियो में पढ़ा होगा जो कहते हैं कि उनका लंड ८ इंच, ९ इंच या १० का है पर दोस्तो यह सब झूठ होता है.

पर मैं यहा कोई फेक स्टोरी नहीं पोस्ट कर रहा हूं.

मेरे लंड का साइज ६.३ इंच है और मैं जिम लवर हूं इसलिए मैं रोज एक्सरसाइज करता हूं.

चलो अब स्टोरी पर आते हैं यह स्टोरी एक साल पहले की है.

में बैंक में जॉब करता था इसलिए बहुत से लोगों से रोज मिलना जुलना होता था.

एक भाभी वहां हर विक डिपॉजिट करने आती थी, तो धीरे धीरे मेरी उनसे बातचीत शुरु हो गई.

वह दिखने में बहुत सुंदर तो नहीं थी लेकिन उनका फिगर अच्छा था, क्योंकि मैं उनको हेल्प कर दिया करता था तो हमारे बीच अच्छी दोस्ती हो गई थी.

एक दिन उन्होंने मेरा नंबर मांगा तो मैंने उन्हें अपना नंबर दे दिया और फिर वह चली गई. रात को १२ बजे मुझे व्हाट्सअप पर मैसेज आया हाय, मैंने पूछा आप कौन? तब उन्होंने अपना नाम बताया कोमल और हमारी चैटिंग शुरू हो गई.

उन्होंने मुझे बताया कि उनका डायवोर्स हो गया है और वह अपने बच्चे के साथ अकेली रहती है मेरे मन में उनके लिए फीलिंग बढ़ती जा रही थी.

एक दिन मैंने उनको घुमने चलने के लिए बुलाया और वह मान गई फिर हम बस स्टैंड गए और वहां बैठकर हम बातें करने लगे, उन्होंने मुझे बताया कि उनका पती उनको बहुत मारता पीटता था और गाली गलौज करता था, इसलिए उन्होंने डाइवोर्स ले लिया और यह कहते ही वह रोने लगी.

सच कहता दोस्तों पता नहीं मेरे मन में क्या आया कि मैंने उनको गले लगा दिया, पर वो अलग होने लगी तो मैंने उनको छोड़ दिया और फिर हम दोनों १० मिनट तक शांत बैठे रहे.

मैंने उनको सॉरी कहा पर उन्होंने कुछ जवाब नहीं दिया. अचानक से उन्होंने मुझे पूछा क्या तुम मुझसे प्यार करते हो? मैंने कहा कि हां मैं तुमसे प्यार करता हूं.

दोस्तों मैं नहीं जानता कि मैं सच कह रहा था या झूठ, पर मेरे दिल में उनके लिए फीलिंग तो थी. उन्होंने भी कहा कि मैं भी तुम्हें पसंद करती हूं और वह मेरे करीब आ गई. मैंने फिर से उन्हें हग कर लिया, उनकी बॉडी की गर्मी मुझे बहुत अच्छी लग रही थी. मेरा हाथ उनके कमर और पीठ पर घूम रहा था.

मैंने उनके माथे पर किस कर दिया और वह शर्माकर मेरे सीने में छुप गई, हम दोनों बहक रहे थे पर साथ ही यह एहसास अच्छा भी लग रहा था. उसने कहा मुझे प्यार करो रोहित, और मुझे किस करने लगी. मैंने उसके कोमल होठों को अपने होठों में ले लिया और उनके होठों को चूसने लगा.

कभी मैं उनके ऊपर लिप्स को तो कभी लोवर लिप्स को बारी बारी से चूसने लगा. मेरा हाथ उनकी कमर से होते हुए कब उनकी गांड पर चला गया मुझे नहीं पता चला. पर मैं उनकी गांड सहला रहा था और वह खुल कर मेरा साथ दे रही थी.

फिर मैं उनके गले पर किस करने लगा और वह मुझसे चिपक गई मैं उनके कान को काट रहा था और अपनी जीभ से चाट कर रहा था. वह मदहोश हो रही थी और मैं पागल हुए जा रहा था. मेरा लंड टाइट हो गया था और अचानक मैंने अपना एक हाथ उनके बूब्स पर रख दिया और उनको दबाना शुरु कर दिया. वह मेरी आंखों में देखने लगी मैंने उनकी आंखों को किस कर लिया और वह मुस्कुराने लगी.

उन्होंने कहा तुम तो बहुत रोमांटिक हो.

मैंने कहा अभी तुमने देखा ही कहां है जान में बहुत वाइल्ड भी हूं.

भाभी ने कहा तब तो तुम मेरी जान लेकर रहोगे और यह कहकर वह मुझे फिर से किस करने लगी. मैंने अपना एक हाथ उनके कुर्ते के अंदर डाल दिया और उनके बूब्स सहलाने लगा.

मैंने कहा भाभी तुम्हारे निप्पल्स तो टाइट हो गए हैं.

उसने कहा हां रोहित वह तुम्हारे छूने से ही टाइट हो गए हैं.

मैंने कहा तो क्या किया जाए उनका

भाभी ने कहा रोहित दबाओ ना और अपना बना लो मुझे.

उनकी बातों से मैं जोश में आ गया और निपल्स को दबाने लगा.

भाभी कह रही थी औह्ह्ह रोहित, धीरे करो ना बाबा.

मैंने कहा करने दो जान आज, रोको मत. हम दोनों इतना खो गए कि कब अंधेरा हो गया पता ही नहीं चला. फिर हम अलग हुए हैं और घर के लिए निकले. उनके चेहरे में अलग सी चमक थी. उन्होंने मुझे आई लव यू कहा और  मैंने भी उनको आई लव यू टू कहा.

वह मुझे अपने घर चलने को कहने लगी पर मुझे कुछ जरुरी काम होने की वजह से मैं नहीं गया और अगले रविवार को घर पर मिलने का प्लान बनाया.

और संडे को मैं उनके घर पहुंच गया. मैंने बेल बजाई और कोमल ने दरवाजा खोला.

वह लाल कलर की साड़ी में थी. देख कर लग रहा था अभी अभी नहा के बाहर आई हो, भीगे बाल और चमकते चेहरे को देख कर मैं पागल हो गया था. कोमल ने मुझे अंदर बुलाया और दरवाजा बंद करने लगी, तभी मैंने उसे पीछे से पकड़ लिया और दरवाजे से चिपका दिया.

मेरा खड़ा लंड जो की पैंट फाड़ कर बाहर आने को बेताब था, उसकी गांड पर रगड़ मार रहा था, और मैंने उसके दोनों हाथों को पकड़कर उसे पीछे से किस करना शुरु कर दिया.

मैं उसके गले पीठ और कान पर किस करता, उसे चाटता और कभी कभी अपने दांतों से उसे काट भी लेता.

कोमल की सिसकियां तेज होने लगी उसके बदन की महक से मैं बहक रहा था. मेरा लंड  जेसे उनकी गांड में घुसने को बेताब था. वह भी अपनी गांड को मेरे लंड पर दबा रही थी.

फिर मैंने उसे अपनी और घुमाया और उसके होठों को चूसने लगा.

उसने अपना पल्लू हटा कर मुझे इन्वाइट किया और मैंने उसके बूब्स को ब्लाउज के ऊपर से ही अपने मुंह में भर लिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Hindi Porn Stories © 2016 Frontier Theme