आप का तो बहुत बड़ा हे देवर जी!

loading...

दोस्तों मैं अनिल, 27 साल का ठरकी लौंडा जयपुर से. मैं भाभियों को चोदने का सौखीन हूँ और आज अपनी ही भाभी को चोदने की कहानी आप लोगों के लिए ले के आया हूँ. मेरे लौड़े की साइज़ 7 इंच और मेरी हाईट 5 फिट 8 इंच हे. चलिए अब सीधे कहानी के किरदारों और सेक्स की बातों पर आते हे.

मेरे बड़े भाई हे जिनका नाम विनय हे और उनकी शादी आज से एक साल पहले हुई थी. भैया के काम में बड़ी तेजी हे पिछले कुछ महीनो से. और दुकान रात को 12 बजे तो कभी 12”30 को बंद होती हे. फिर दिनभर का हिसाब कर के भैया घर आते तो एक या डेढ़ हो ही जाता था. पहले पहले शादी के बाद भैया रोज रात को मेरी भाभी नैना की चूत मारते थे. मैंने खुद ने भैया को नैना भाभी चोदते हुए कितनी बार देखा था.  नैना भाभी 5 फिट 5 इंच लम्बी और करीब 24 साल की हे. उनका फिगर एकदम सेक्सी 36-32-36 का है.

loading...

नैना भाभी एकदम गोरी और अच्छे नाक नक़्शे की हे. उसके कुल्हे बहार की और उभरे हुए हे और बूब्स भी उठे हुए हे. एक बार मेरे भाई विनय को काम की वजह से सिटी से बहार जाना था और वो भी पुरे दो हफ़्तों के लिए. नैना भाभी बड़ी उदास रहने लगी थी पहले दिन से ही. मैं उनकी खिड़की से छिप के देखता था उन्हें. अब वो अक्सर अपनी चूत को खुजाती थी अपने हां थ से ही.

loading...

मैंने सोचा की यही सही मौका हे नैना भाभी की चूत में अपना बम्बू देने का. मैं अब उन्के पास ज्यादा ही बैठने लगा था. और जूठ मुठ का फोन पर बातें करता था गर्लफ्रेंड के साथ. भाभी ने जब पूछा तो मैंने बताया की मेरी माल हे कोलेज की. वो बहुत सब सवाल पूछ रही थी. और मैंने अपनी मतलब और सहूलियत वाली बात उन्हें. भाभी के दिमाग में मैंने ठंसा दिया की मेरे माल को मैं बहुत चोदता हूँ और वो मुझे मिलने के लिए बेताब रहती हे.

मेरा जादू काम कर गया. भाभी भी मेरे ऊपर मोहने लगी. वो अक्सर मेरी पेंट की तरफ देखती थी. और वो अपनी चूत मेरे सामने ही खुजला लेटी थी. और जब वो अपनी चूत को खुजलाती तो मेरे सामने बड़े ही सेक्सी ढंग से देखती थी. मैं जान गया था की भाभी की बुर मेरा लंड लेने के लिए ही मचल रही थी. पर मैं एकदम फास्ट नहीं  बढ़ना चाहता था.

एक दिन मैं सुबह जल्दी उठा. भाभी दूध का बर्तन ले के दूधवाले के पास खड़ी थी. और वो साली ने तो दूधवाले के सामने भी अपनी बुर खुजाई. मैंने मन ही मन कहा, अब इसकी बुर की गर्मी का कुछ करना पड़ेंगा वरना साला अपने हाथ कुछ नहीं आएगा और भाभी घर की इज्जत की माँ बहन एक कर देगी वो अलग से!

उसी रात को मैं भाभी के कमरे में जा पहुंचा. वो बिस्तर में सोयी हुई थी. मैंने धीरे से उसके कमरे की स्टॉपर लगा दी. और मैं उसकी बगल में लेट गया. भाभी की सांसो की आवाज आ रही थी मुझे. मैंने धीरे से अपने हाथ को भाभी के बूब्स के ऊपर रख दिया. वो नहीं हिली, मैंने धीरे से भाभी के चुन्चो को मसलना चालू कर दिया.

मैंने देखा की भाभी ने धीरे से अपनी आँख खोल के चोर नजरों से देख लिया था की मैं ही उसके बूब्स दबा रहा था. वो वापस आँखे बंद कर के सोयी रही. वो भी सेक्स के मूड में आ रही थी. मैंने अब हिम्मत कर के अपने हाथ को भाभी के टॉप के अन्दर डाल दिया. भाभी की ब्रा पेड़ वाली थी और उसके ऊपर से ही मैं डरते हुए उसके सेक्सी टिट्स को दबाने लगा. भाभी के बूब्स कडक थे और मजेदार दबाने में! मैं अपनी उँगलियों से ब्रा को हटाने जा रहा था तभी भाभी थोड़ी हिली.

मैंने डर की वजह से अपना हाथ हटा लिया.

पर तभी भाभी ने अपने हाथ को आगे बढ़ा की मेरे लंड पर रख दिया. वो मेरे लंड को मसल रही थी. मुझे तो एकदम से यकीन नही नहीं हुआ की भाभी ने मेरे लंड को पकड़ लिया था. लेकिन ये सच था सपना नहीं. मैंने फट से अपनी जिप खोल के अपने लंड को भाभी के हाथ में थमा दिया. लंड एकदम कडक और गरम हो गया था मेरा. भाभी मुठी में लंड को पकड़ के उसकी मुठ मार रही थी.

फिर मैंने भाभी के सब कपडे खोले और उन्होंने भी मुझे नंगा कर दिया. मैंने पहली बार किसी औरत को ऐसे नंगा देखा था. उनकी चूत के ऊपर एक भी बाल नहीं था. शायद आजकल में ही भाभी ने अपनी झांट बनाई थी. एकदम गोरी और चिकनी चूत थी नैना भाभी की. मैंने अपने हाथ को चूत पर रखा तो वो जैसे फिसल रहा था. मैंने भाभी से कहा, भाभी आप लेने के लिए रेडी हो?

वो बोली, देवर जी मैं तो कितने दिनों से रेडी ही हूँ, जल्दी से मुझे चोद के मेरी चूत की प्यास को बुझा हो!

मैंने भाभी को अपने दोनों हाथ से उठा लिया और उन्हें बेड के ऊपर टाँगे खोल के लिटा दिया. भाभी की चूत से पानी सा टपक रहा था वो इतनी सेक्सी हो गई थी. मैंने भाभी के दोनों बूब्स को अपने हाथ में पकड़ के दबाये और फिर उन्के निपल्स को भी चूसने लगा. भाभी ने मुझे अपनी तरफ खिंच के कहा, देवर जी मेरी चूत चाटो ना!

नैना भाभी की लेग्स को ओपन कर के मैंने अपने शोल्डर के ऊपर चढ़ा दी. फिर उनकी चूत के ऊपर अपने मुह को लगा के वजाइन के लिप्स को सक करने लगा. मैंने चूसते हुए उन पंखड़ियों सी लिप्स को खिंच रहा था अपने डदांत से. ऐसा करने से भाभी की चुदास और भी बढ़ रही थी. भाभी एकदम हॉट अंदाज में बोली, देवर जी आप को तो औरत को खुश करने के सब हुनर पता हे!

मैंने कहा, भाभी आप की चूत बड़ी रसीली हे!

मैं फिर से नैना भाभी की चूत को चाटने लगा. वो भी एकदम चुदासी हो के मुझे अपनी तरफ खिंच के चूत चटवा रही थी. फिर उसने मुझे कस के अपनी बुर पर दबा दिया. मैं समझ गया की वो झड़ने को हे. और फिर भाभी की चूत से पानी निकल गया. वो मुसलसल एक मिनिट तक अपनी चूत से पानी निकालती गई. और फिर नैना भाभी ने मेरे पेनिस को वापस अपने हाथ में ले लिया. वो बोली, लाओ मैं आप के लंड को चूस दूँ देवर जी.

फिर उसने मेरे लौड़े को सीधे अपने मुहं में ले लिया. करीब 4 इंच जितना लंड नैना भाभी के मुहं में था. और वो बड़े ही सेक्सी ढंग से मुझे ब्लोजोब दे रही थी. बाकी के आधे लंड को वो अपने हाथ से हिला रही थी. फिर भाभी ने पूरा लंड अपने मुहं में ले लिया और डीप सकिंग करने लगी. भाभी ने मेरी प्री-कम को चाटी और अब उसकी चुदास एकदम से बढ़ गई तो वो बोली, देवर जी अब नहीं रहा जाता हे जल्दी से अपना लंड मुझे दे दो चूत में! बहुत दिनों से मैंने लंड नहीं लिया हे!

मैंने नैना भाभी की गांड के निचे एक पिलो लगा दिया और भाभी ने अपनी टांगो को एकदम चौड़ी कर दी. फिर मैंने अपने लंड के ऊपर थूंक निकाल के मल दिया. लंड को चूत के होल पर रख के जैसे ही धक्का लगाया तो मेरा आधा लंड भाभी की बिल में घुस गया. भाभी की आँखे बहार आ गई जैसे. वो बोली, देवर जी आप का तो आप के भैया से भी बड़ा हे.

मैं: भाभी आप को दर्द तो नहीं हो रहा हे ना?

भाभी: दर्द में ही तो असली मजा हे देवर जी!

मैंने थोडा धक्का और लगा दिया और अपने लंड को पूरा भाभी के बुर में पेल दिया. और फिर मैंने अपने होंठो को भाभी के होंठो से लगा के चुम्बन दिया उन्हें. मैं लंड को अन्दर बहार कर के भाभी को मस्त चोद रहा था. भाभी ने मेरी गान को पकड ली और मैं जोर जोर से धक्के लगा के चूत को चोदता रहा.

भाभी: अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह, अन्दर ही रहने दो कुछ देर देवर जी, बड़ा मजा आता हे!

मैंने लंड को भाभी के बुर में पार्क सा कर  दिया और उन्के बूब्स को मसलने लगा.

भाभी दो मिनिट तक मचली और फिर बोलो, मारो इसे अब जोर जोर से देवर जी!

मैंने भाभी के निपल्स को मुहं में दबा के दांत से काटे और अपने लंड की राजधानी एक्सप्रेस के धक्के चालू कर दिया. भाभी भी बेड में पड़ी पड़ी अपनी गांड को उठा उठा के चुदवा रही थी. वो बोली, आप के भैया ने भी कभी ऐसे नहीं चोदा हे मुझे.

मैंने कहा: मुझे पता हे भाभी.

वो बोली कैसे?

मैंने कहा. मैंने बहुत बार आप को और भैया को चोदते हुए देखा हे..

भाभी ने मुझे एक मारा

और  बोली, आप बड़े नोटी हो देवर जी!

मैंने और भी जोर जोर से धक्के मारे भाभी को और उसे चोदता रहा.

कुछ देर के बाद मैंने भाभी को कहा, भाभी मुझे डौगी स्टाइल- में करना हे.

भाभी बोली, मेरे देवर जी के लिए कुछ भी!

और वो बेड में ही कुतिया बन गई. मैंने पीछे से अपने लंड को भाभी की बुर में पेल दिया. चिकनी बुर को इस पोजीशन में चोदने में बड़ा ही मजा आ रहा था. मैंने भाभी की गांड को दोनों हाथ से पकड़ लिया और उसे ठोकने लगा. वो भी चरम बिंदु पर थी और गांड हिला रही थी.

बड़ा मजा आया जब हम दोनों साथ में झडे!

दोस्तों उस रात को भाभी ने मुझे 3 बार चोदने दिया और एक बार तो हमने एनाल भी किया.

भाभी मुझे बड़ा खुश रखती हे. और मैंने उन्हें की आप सब सुख देती हे इसलिए मैंने अपनी गर्लफ्रेंड को छोड़ दिया हे. भाभी को ये सुन के बहुत अच्छा लगा और बोली, अब मैं ही आप की गर्लफ्रेंड और वाइफ हूँ देवर जी. देवरानी आ जायेगी फिर भी आप को मुझे चोदना  पड़ेगा!

loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age