आंटी ने माँ का फायदा लिया

हेलो दोस्तों, मैं राहुल आज आपको अपनी मां की हिंदी सेक्स कहानी बताने जा रहा हूं. मेरी मां का नाम सुमन है वह दिखने में बड़ी ही कामुक औरत है. मेरी मां का बदन कातिलाना है, उनके मोटे मोटे  बूब्स और पतली कमर और मटकती गांड को देखकर किसी का भी मन मचल जाए और लंड खड़ा हो जाए.

यह कहानी ६ महीने पहले शुरू हुई जब हमारी कॉलोनी में सविता आंटी आई और उन्होंने आते ही माँ से दोस्ती कर ली. माँ को भी सविता आंटी से बात करने में अच्छा लगता था इसका कारण यह था कि पापा हमेशा काम के कारण आउट ऑफ सिटी रहते थे.

और आंटी कभी भी घर आ कर मां से बात करने लगती थी, सविता आंटी भी मां की उम्र की ही है. और उनका बदन भी बहुत ही सेक्सी है. धीरे धीरे वक्त गुजरता गया और सविता आंटी माँ के बारे में वह बातें भी जानने लगी जो कि पर्सनल होती है.

वह जान चुकी थी मेरे पापा मां की तरफ ध्यान ही नहीं देते और उनकी चुदाई भी नहीं करते हैं और इस बात का उन्होंने फायदा उठाया. उन्होंने मां को धीरे धीरे कर के वह मजा देना शुरू कर दिया जो एक औरत दूसरी औरत को देती है, एक दिन जब मैं स्कूल से जल्दी घर आया.

तो मैं खुद देखा कि आंटी ने मां को पूरा नंगा किया हुआ था और वह उनकी बूब्स को मुंह में लेकर चूस रही थी और एक हाथ से मसल रही थी, और मेरी मां बहुत ही कामुक आवाजे निकाल रही थी.

उनकी आवाज सुनकर मेरा भी लंड खड़ा हो गया, लेकिन मैं ज्यादा देख नहीं सका क्योंकि आंटी बार बार गेट की तरफ देख रही थी. लेकिन यह खेल यहीं खत्म नहीं हुआ. आंटी अब रात को भी हमारे घर रुकने लगी जब अंकल काम के चलते घर पर नहीं रहते

तब आंटी, मां और मैं एक साथ रूम में सोते और रात को कभी कभी मुझे माँ की आवाज ही सुनाई देती मां आह्ह अग्ग्ग अह्ह्ह अज्ज्ज औउ इई दीदी करो ऐसी आवाज निकालती. एक बार तो मैंने देखा कि मैं बिस्तर पर नहीं है बल्कि जमीन पर कंबल लगाकर नंगी लेटी हुई है.

और आंटी मां की चूत को चाट रही थी और माँ मचलती जा रही थी. यह सब देख मैं बहुत गर्म हो जाता और अपना लंड हिला कर सो जाता. धीरे धीरे वक्त और बीतता चला गया और आंटी की पकड़ मां पर और भी मजबूत होने लगी. अब आंटी मां को गर्म करने के लिए उन्हें अक्सर अपनी चुदाई की कहानी सुनाती की कल कैसे कल रात अंकल ने उन्हें चोदा जिसे सुनकर मां और भी गरम हो जाती.

फिर एक दिन तो मैंने देखा आंटी माँ को अपनी चुदाई की वीडियो दिखा रही थी और उनके बूब्स भी दबा रही थी. मुझे लगा यह सब बस इसके आगे नहीं जाएगा, लेकिन मैं गलत निकला. धीरे धीरे यह बात और बढ़ने लगी आंटी माँ को यह बताने लगी कि कल रात कैसे उनके पति ने उनका नाम लेकर उन्हें चोदा.

फिर धीरे धीरे आंटी माँ की नंगी तस्वीरें लेने लगी पहले तो मां ने मना किया. लेकिन आंटी के कहने पर मां ने पोज बना बना कर आंटी को फोटो लेने दी और आंटी वह फोटो लेकर अंकल को दिखाती और मां को बताती अंकल कैसे उनकी फोटो देख कर पागल होने लगे और कल कैसे उनकी फोटो देखकर उनकी जबरदस्त चुदाई हुई.

मा यह सब सुनकर गर्म और खुश हो जाती. अब आंटी ने एक और चाल चली, अब वह मां के सामने फोन पर अंकल से गंदी गंदी बात करती और मां को सुनाती. धीरे धीरे मां की उन लोगों की बातों से शामिल होने लगी और मां और अंकल आंटी के सामने ही गंदी बात करते और एक दिन तो मैंने उनकी बातें भी सुनी.

अंकल : सुमन मुझे भी पिलाओ अपना दूध, क्या सब मेरी बीवी को भी पिला दोगी?

मां ने कहा : आपकी बीवी छोडती ही कहां है आपके लिए, वरना आपको भी पिला देती.

अंकल ने कहा : अच्छा तो यह बात है.

तो तेरी दीदी को भेज दूं मायके.

तब तू आ जाना मुझे अपना दूध पिलाने और फिर सब इस बात पर हंस देते.

अब मैं बताता हूं एक महीने पहले की बात है जब आंटी ने मां को बताया कि उनका बर्थडे और मैरिज एनिवर्सरी कल है, और आज रात १२ बजे वह लोग सेलिब्रेट करेंगे.  पहले तो यह बात सुनकर मैं बहुत खुश हुई है बाद में दुखी हो गई.

वह आंटी से लड़ने लगी कि तुमने मुझे पहले क्यों नहीं बताया? मैं कुछ गिफ्ट खरीद लेती इस पर आंटी ने कहा यार मुझे भी ख्याल नहीं रहा.

मां ने कहा अब बता तेरे कारण जीजू क्या सोचेंगे कि मैंने उनके लिए कोई गिफ्ट भी नहीं रखा उनकी मैरिज एनिवर्सरी पर..

आंटी ने कहा कुछ नहीं होता जान तू फिकर क्यों करती है.

मां ने कहा फिर भी यह गलत है देख अभी जल्दबाजी में तो मुझे समझ नहीं आएगा तू बता तुझे क्या चाहिए और जीजू को क्या दूं?

आंटी कुछ टाइम सोच कर बोली.

सुमन देखो अगर तो कुछ देना चाहती हो तो मेरी एक बात मानेगी जिससे तुम मुझे गिफ्ट भी दे देगी बर्थडे का और हमारी मैरिज एनिवर्सरी भी तुम्हारे कारण बहुत यादगार बन जाएगी.

मां ने कहा अच्छा तो मैं वादा करती हूं जो तुम कहेगी मैं वह करूंगी, लेकिन तू बता तो सही.

आंटी मुझे देखती है और कहती है यहां नहीं ऊपर चल.

वह मां को लेकर ऊपर चली जाती है और मैं भी उनके पीछे.

आंटी ने कहा देख सुमन में चाहती हूं कि आज रात के लिए तू अपना बदन हमें दे दे.

माँ ने कहा : मैं कुछ समझी नहीं.

आंटी ने कहा यही कि आज रात के लिए तुम मेरे पति की बीवी बन जा और उनके साथ सुहागरात मनाले. देख यह बात तुझे थोड़ी अजीब लगेगी, लेकिन सच कहती हु यह मेरे और तेरे जीजू के लिए बेस्ट गिफ्ट होगा.

मां ने कहा यह क्या कह रही है तू? ऐसा नहीं हो सकता. तू जानती है ना मैं शादीशुदा हूं.

तू उसने कहा हां जानती हूं और यह भी तेरा पति किसी काम का नहीं, उसने आज तक तुझे औरत बनने का सुख तक नहीं दिया और आज मैं तुझे मौका दे रही हूं जवानी का मजा लूटने का वह भी अपने पति के साथ, तो तू ले नहीं रही इसमें तेरा भी फायदा और हमारा भी. मैं नहीं चाहती कि मेरी बहन ऐसे ही प्यासी जिंदगी बिताएं और अब तु सोच ले तू बर्थडे वाले दिन अपने दीदी को खुश करना चाहती है या नहीं?

अगर तु हां करती है तो विश्वास रखना आज की रात तेरी जिंदगी की सबसे हसीन रात होगी और हमारा रिश्ता और मजबूत होगा, और ना करती है तो शायद फिर कभी मैं तुझे बहनों वाला प्यार ना दे सकूं. तू फैसला कर की तुझे अपनी जिंदगी प्यासी बितानी है या हमारे साथ मौज ले कर.

मैं तेरे जवाब का इंतजार करुंगी आज शाम तक.

आंटी ऐसे अब बोल कर वहां से निकल जाती है और मेरी मां बेड पर बैठकर सोचने लग जाती है और फिर ४ बजे वह आंटी को फोन करके उंहें घर पर बुला लेती है और उन्हें बता देती है कि उन्हें भी उनके साथ मजा करना है एक औरत बनने का मजा उठाना है और अपनी प्यास मिटानी है.

आंटी से सब सुन मां को चूम लेती है और कहती है मुझे पता था तू मुझे धोखा नहीं देगी. अब देख तेरी जिंदगी भी मेरी तरह रंगीन कैसे होती है और राहुल की चिंता मत करना मुझसे मैं संभाल लूंगी.

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age