भाभी एक रात के लिए मेरी हुई

loading...

हाय दोस्तों, यह कहानी है मेरी और मेरी भाभी की. मेरा नाम मोहित है और मेरी भाभी का नाम सुनीता है. सुनीता भाभी की उम्र २३ साल है और उनका फिगर २६-२८-२८ होगा. हरियाणा के एक गांव में रहने वाली सीधी सादी लड़की जिसने फैशन के नाम पर सिर्फ जींस और कुर्ता पहना था ऐसी सुनीता को यह नहीं मालूम था कि उसकी चूत कितनी भूखी है.

मेरी कजिन भैया की शादी नहीं हो रही थी, और सब घर वाले परेशान थे. ३३ साल की उम्र में वह खुद भी परेशान थी, किसी तरह मेरे भइया को पता चला सुनीता के बारे में, और उन दोनों का रिश्ता पक्का हो गया. मेरे भैया साल में ६ महीने USA में रहते हैं और मेरी भाभी को usa का वीजा नहीं मिला, क्योंकि वह हिंदी मीडियम से पढ़ी हुई थी और उनकी इंग्लिश बहुत कमजोर थी, तो उन को बोला गया कि उनको toefl का एग्जाम देना पड़ेगा, शादी को एक साल हो गया था और मेरी भाभी toefl में पास नहीं हो पाई, फाइनली भैया ने भाभी को पुणे भेजा इंग्लिश का क्लास के लिए, और मुझे बोला कि अगर कुछ जरूर पडे तो मैं भाभी की मदद कर दूं, मैं मुंबई में रहता हूं और अपना MBA कर रहा हूं. भाभी की ३ मंथ की क्लास थी पुणे में. और मुंबई के एक सेंटर में एग्जाम थी, ३ मंथ में अपनी क्लास की वजह से नहीं जा पाया.. एग्जाम की वजह से भाभी को मुंबई आना था.

loading...

जुलाई २०१५ मुंबई

loading...

मेरी भाभी ने एक्जाम के २ दिन पहले मुझे कॉल किया और बोला कि उनको एग्जाम के लिए मुंबई आना है, मैं और मेरी भाभी दोनों एक दूसरे के साथ कंफर्टेबल है, क्योंकि शादी के वक्त मैंने बहुत काम किया था. और भाभी के साथ फ्रेंक हो गया था.

भाभी ने मुझे कॉल किया और बताया कि उनका एग्जाम ९ बजे है और वह किसी भी हाल में मिस नहीं कर सकती, मैं उनके लिए कोई वुमन हॉस्टेल या सस्ता रूम बुक कर दूं…. मैंने उनके कहने पर उनके एक्जाम सेंटर के पास एक ओयो रूम बुक कर दिया.

अगले दिन मेरे भैया का कॉल आया कि मेरे होते हुए मैंने भाभी को होटल में कैसे जाने दिया? मैंने भैया को बोला कि मैंने वैसा किया जैसे भाभी ने कहा..

यहा से शुरू होता है किस्सा

भाभी जिस दिन मुंबई में आई उनको लेने स्टेशन गया और होटल की जगह सीधा घर ले गया.

भाभी बोली हम पहले होटल जाते हैं और फिर हम कहीं घूमेंगे.

मैं – नहीं अभी होटल नहीं, भइया ने बहुत डांट लगाई थी आपको होटल कैसे जाने दिया.

भाभी – तुम और तुम्हारे भैया दोनों पागल हो, तुम्हें फालतू में तकलीफ होगी.

मैं – नहीं भाभी बिल्कुल नहीं.

हम जब घर आए तो उन्होंने देखा कि छोटा सा स्टूडियो अपार्टमेंट है.. उनके दिमाग में कोई बात आए उससे पहले ही मैंने भाभी को बोला कि बेड पर आप सो जाना और मैं सोफे पर सो जाऊंगा. वह कुछ नहीं बोली और बोली चाय बना लेते हैं. मेरे घर में बहुत सारी बियर की बोतल रखी रहती है, भाभी को भी मालूम था कि मैं ड्रिंक करता हूं.. उन्होंने देखा और कुछ नहीं बोली. और चाय बनाने लग गई. मैंने भाभी को बताया कि आज मैंने क्लास से छुट्टी ली है. ताकि उन्हें मुंबई घुमा सकु, वह खुश हो गई, लेकिन बोली कि उनको रेस्ट करना है थोड़ी देर. में उनको रजाई दी और अपना लैपटॉप लेकर बैठ गया.

वह सो रही थी रजाई ओढ़ कर और मैं लैपटॉप पर काम कर रहा था, रजाई के बाहर से मुझे भाभी के पाँव दिखे. पहली बार उनके लिए मेरे दिमाग में ऐसे ख्याल आया अचानक मैं सोचने लगा उनका वह सेक्स में कितनी अनएक्सपीरियंस है, मैंने लैपटॉप  पर पोर्न लगाया थोड़ी देर बाद देखा और सोचा की मूठ मार कर सो जाऊंगा, लेकिन अचानक भाभी उठ गई और मैं नाटक करने लगा कि मैं सो रहा हूं.

वह उठ के मेरे पास आई और मेरा लैपटॉप मेरे लेप से उठाया और उन्होंने देखा मेरा खड़ा हुआ लंड जो मेरे शोर्ट में से साफ दिख रहा था, क्योंकि मैंने अंडर वियर नहीं पहनी थी. भाभी ने कुछ देर तक देखा और लैपटॉप देखने लगी, मेरी किस्मत अच्छी थी उस टाइम में पोर्न का ऐसा पार्ट देख रहा था जहां लड़का लड़की की चूत चाट रहा था, भाभी ने वह देखा और साइड में रख दिया, उन्होंने फिर मुझे रजाई ओढाई और मैंने ऐसा किया जैसे मेरी नींद खुल गई हो, और मैं उठ कर बैठ गया.

भाभी ने सॉरी बोला और कहां सो जाओ.. मैंने कहा नहीं भाभी कहीं बाहर चलते हैं, वह बोली हां थोड़ी देर में.. यह कहते वह बाथरुम चली गई और मुझे मालूम था कि उनका मन भी कुछ मचल रहा है, वह जब बाहर आई तो मैं अपना लैपटॉप बंद करके रख रहा था. दोनों ने एक दूसरे से कुछ नहीं बोला और भाभी किचन में कुछ करने लगी, और मैं ऐसे नाटक करने लगा जैसे मैं फ्रिज में कुछ ढूंढ रहा हूं. कुछ देर बाद मैंने देखा भाभी अनकंफर्टेबल फील कर रही थी, मैंने उससे पूछा.

मैं – भाभी क्या हुआ? सब कुछ ठीक है ना?

भाभी – नही सब कुछ ठीक है.

मैं – ओके भाभी आप मुझे बता सकते हो.

भाभी- नहीं, ऐसा कुछ नहीं है, रहने दो.

मैं – लेकिन भाभी अगर आपको कोई प्रॉब्लम है तो आप मुझे शेयर कर सकते हो.

भाभी – मैंने तुम्हारे लैपटॉप पर कुछ देखा था, जब तुम सो रहे थे.

मैंने कहा ओह्ह शिट भाभी, आय एम सो सॉरी, एक्चुली कभी-कभी पॉप्स अप आ जाते हैं.

भाभी – अगर तुम किसी से नहीं बोलो, तो एक बात पूछ सकती हूं?

मुझे लगा यह सही मौका है, अगर सब ठीक रहा तो शायद आज उन्हें अच्छे से चोद पाऊं.

मैं – ऑफ कोर्स भाभी क्या हुआ बताओ?

भाभी – मैंने तुम्हारे लैपटॉप पर जो देखा मैं थोड़ा कंफ्यूज हो गई.

मैं – ऐसा क्या था भाभी? मुझे यकीन है आपने और भैया ने भी किया होगा.

भाभी – हां लेकिन ऐसे नहीं, कुछ और था वह..

मैं – ऐसा क्या था भाभी?

वह – मैंने देखा कि लड़के का मुंह लड़की के सुसु के पास था, वहां तो सिर्फ लड़के के सुसु का पार्ट जाता है.

मुझे पता लग गया कि भैया ने भाभी कि कभी चूत नहीं चाटी और भाभी को उस मजे का एहसास नहीं था.

मैं – भाभी वह तो नॉर्मल है.. उसे ओरल सेक्स कहते हैं. हर लड़का लड़की करते हैं.

भाभी – तुम्हारे भैया ने तो ऐसा कुछ नहीं किया!!

मुझे लगा सही मौका है मैंने बात करना शुरू किया.

मैं – भाभी आपका कोई भैया से पहले बॉयफ्रेंड नहीं था? मैं जानता हूं आप भैया से एज मैं बहुत छोटे हो, लेकिन कोई तो रहा होगा.

वह – नहीं गाँव में ऐसा कुछ नहीं था, कॉलेज से घर और घर से कॉलेज.

मैं – भाभी यह तो नॉर्मल है, शायद भैया ने इसलिए नहीं किया होगा क्योंकि उन्हें शायद पता नहीं होगा. लेकिन सच में यह नार्मल है. लड़के करते हैं ऐसे और लड़कियां भी करती हैं.

भाभी – लेकिन गंदा नहीं लगता क्या?

मैं – भाभी गंदा नहीं बहुत अच्छा लगता है, कभी भैया को बोलना ऐसे करने को.

भाभी – तुम्हारे भैया तो ऐसा कुछ नहीं करते और वैसे भी क्या फर्क पड़ता है, वैसे भी सब कुछ ५ मिनट में खत्म हो जाता है.

मैं – भाभी शायद आपको ईस बारे में भैया से बात करनी चाहिए, लेकिन यह जो आपने देखा वह नॉर्मल है.

भाभी – तुमने ऐसा किया है?

मैं – भाभी आपको मालूम है मेरी गर्लफ्रेंड थी, तो हां मैंने उसके साथ ऐसा किया था.

भाभी – उसको अच्छा लगा था ऐसा करना?

मैं – हां भाभी उसको तो बहुत अच्छा लगा था.

उसके बाद भाभी कुछ नहीं बोली और थोड़ी देर के बाद मुझे बोली.

भाभी – शायद मैंने बहुत जल्दी शादी कर ली.

मैं – इट्स ओके भाभी, कोई बात नहीं. अगर आप चाहो तो आप अपनी किसी दोस्त से बात कर सकती हो.

मुझे मालूम था कि मुझे धीरे से संभालना पड़ेगा अगर घर में किसी को पता चल जाता तो मुझे घर से निकाल देते.

मैं – भाभी अगर आप बुरा ना मानो तो मैं आपको दिखा सकता हूं, लैपटॉप पर.

भाभी कुछ नहीं बोली और मैं लैपटॉप लाकर और अपना बेस्ट पोर्न लगा के भाभी के साथ बैठ गया भाभी देखने लगी और बहुत कंफ्यूज होने लगी, मैं उनकी शक्ल देख कर समझ गया कि मेरे भाई को सेक्स करना नहीं आता, मेरा लंड तन चुका था और मेरा सारा खून लंड में था. मैंने पॉर्न देखते देखते भाभी की तरफ देखा और बोला.

मैं – आपने ऐसा नहीं किया क्या?

भाभी – यह सब क्या है? तुम्हारे भैया तो सिर्फ मेरे ऊपर चढ़ते हैं और ५ मिनट में काम करके  झड़ जाते हैं.

मैं – भाभी आपको कभी आर्गेज्म आया है?

भाभी – वह क्या होता है?

मैंने अब सोच लिया था कि आज तो भाभी को चोदूंगा, वह बहुत दुखी थी और मैंने भाभी को बोला.

भाभी – आज आपको पता चलेगा कि ऑर्गेज्म क्या होता है.

यह बोलते हुए मैंने लैपटॉप हटाया और भाभी की गाल पर किस कर दिया.

वह – यह क्या कर रहे हो आप?

मैं – भाभी अगर आपको ठीक लगे तो मैं बताऊं ऑर्गेज्म क्या होता है?

यह कहकर मैंने भाभी को अपनी तरफ खींचा और किस कर दिया, उसने कुछ देर तो विरोध किया लेकिन उसके बाद किस करने लगी. किस करते करते मैंने भाभी के बूब्स को प्रेस किया और वह एकदम सिसकियां भरने लगी, किस करते करते एकदम से भाभी बोली.

वह – नहीं चलो कहीं बाहर चलते हैं.

मैं – भाभी मैं एक बार आपकी चूत चाटना चाहता हूं, अगर आपको अच्छा नहीं लगा तो उसके आगे कुछ नहीं करेंगे पक्का लेकिन एक बार मुझे आपको वह एहसास दिलाना है जो आपको आज तक नहीं मिला.

भाभी कुछ नहीं बोली और मैंने वापस भाभी को किस कर दिया, बिना टाइम वेस्ट किये मैंने भाभी की सलवार कमीज उतार दी और ब्रा और पैंटी में मेरे सामने खड़ी थी. वह एकदम गोरी स्किन की भाभी थी मुझे मालूम था अगर आज मना किया तो भी मैं नहीं रुक पाऊंगा, लेकिन मुझे मेरी जीभ पर पूरा भरोसा था.. मैंने भाभी को बेड पर लेटाया और पैंटी उतार दी, और भाभी की मखमली चूत पर धीरे से किस किया. और भाभी का पूरा शरीर हील गया, भाभी ने अपने आप ब्रा उतार दी और मैंने उतनी देर में भाभी की चूत पर अपनी जीभ डाल दी, भाभी कुछ नहीं बोल पाई और सिर्फ चिल्लाने लगी हाय रब्बा.. इतना.. एक साल चोदने के बाद भी मेरी भाभी की चूत इतनी फ्रेश थी कि वह २ मिनट में जड गई और उनको समझ नहीं आया कि यह क्या हुआ? मैं रुका नहीं मैं अभी भी उनकी चूत चाटे जा रहा था. वह पागलों की तरह चिल्लाए जा रही थी.. हे भगवान.. हे भगवान. बस बस… रुक जाओ.. बस बस बस.. मैं भाभी की गीली चूत को चाटते जा रहा था और रुकने का नाम नहीं ले रहा था और बार बार में उनके निप्पल को जोर जोर से दबा रहा था. करीब २५ मिनट चूत चाटने के बाद मैंने भाभी से पूछा.

मैं – इससे ज्यादा मजा चाहिए?

भाभी – इससे ज्यादा मजा.. मुझे तो यह भी नहीं मालूम था कि लड़की एक बार से ज्यादा झड़ सकती है वह भी इतने कम वक्त में. पिछली बार हनीमून पर जड़ी थी.

मैंने बिना कुछ पूछे अपने कपड़े उतारे और इससे पहले की भाभी कुछ बोलती अपना लंड भाभी के मुंह में दे दिया. भाभी ने मुंह से निकाला और बोली मैंने ऐसा कभी नहीं किया है देवर जी. देवर जी सुनकर मुझे और नहीं रहा गया.

मैं – मेरा यकीन करो एक बार मुंह में ले लो, उसके बाद उससे भी ज्यादा मजे दूंगा.

भाभी ने धीरे धीरे मेरा लंड मुंह में लिया और दो तीन मिनट के अंदर अंदर मेरा लंड एक प्रोफेशन रंडी की तरह चाटने लगी, मेरे भैया के पास विनिंग लॉटरी की टिकट है और मेरे भैया को मालूम ही नहीं.. गांव की एक कच्ची कली जिस को सेक्स ठीक से मालूम नहीं. लेकिन जरुर मालूम लगा तो उसकी भूख बहुत ज्यादा थी.. वो एक पोर्न स्टार की तरह मेरे लंड को चूसने लगी. १५  मिनट बाद मैंने भाभी को बोला..

मैं – मुंबई देखने चले?

वह – जन्नत दिखा दी अब मुंबई क्या करूंगी देख कर?

मैंने भाभी को सोफे पर लेटाया और अपना लंड भाभी की चूत के बाहर रब करने लगा वह जोर जोर से बोलने लगी डाल दे हरामखोर..

मैंने अपना लंड भाभी की चूत में डाल दिया और तब मुझे पता चला कि भैया का लंड छोटा सा है, क्योंकि भाभी की चूत को फाड़ दिया मैंने.. और वह जोर से चिल्ला दी.. मैं भाभी को बिना कंडोम के चोद रहा था. और भाभी जोर जोर से चिल्लाने लगी. मैं करीब करीब ५ मिनट बाद मिश्नरी में चोदने के बाद जब उनको डॉगी स्टाइल में चोदने के लिए अपना लंड चूत से निकाला तब पता चला कि भाभी की चूत तो आज चुदी थी, भाभी को डॉगी स्टाइल में डाल कर मैंने और १० मिनट तक पेला. भाभी चिल्लाये जा रही थी मादरचोद और कितना चोदेगा? यह सुनकर मैं और जोश में आ रहा था और भाभी को पेले जा रहा था.. भाभी चिल्लाये जा रही थी.

मैंने फिर फाइनली भाभी को अपने ऊपर बैठाया और बोला कि मेरा लंड अपनी चूत  में डालो और जो मन करे वह करो, वह मेरे ऊपर बैठ गई और धीरे धीरे आगे पीछे हीलने लगी. ऐसा करते करते वह मेरे ऊपर कूदने लगी और चिल्ला रही थी हरामखोर चूत फाड़ दी मादरचोद.. हाय रब्बा… चूत मार गया हरामखोर देवर..

यह सुन कर मैं झड़ने वाला था और मैंने भाभी को कहा सबसे ज्यादा मजा अब आएगा.. यह कह के मेरे भाभी को बेड पर लेटाया और बोला मुंह खोल मेरी रंडी.. भाभी ने मुह खोला और मैंने अपना स्पर्म भाभी के मुंह में डाल दिया, और बोला अगर वह सारा पि जाएगी तो आज पूरे दिन इससे भी ज्यादा मजा आएगा. भाभी ने पूरा स्पर्म पी लिया.

कुछ देर बाद भाभी बोली देवर थी आज मुझे पता चला सेक्स कैसे होता है? मैंने पूछा उनको सबसे अच्छा क्या लगा? वह बोली जब मैंने उन की चूत चाटी वह सबसे बढ़िया था, और जब वह मेरे ऊपर चढ़ गई, मुझे मालूम था मेरी जीभ का जादू. भाभी के एग्जाम से पहले और एग्जाम के बाद भी हमने किया. १८ घंटे में हमने ९ बार चुदाई की.. भाभी की गांड भी मारी.. उसके लिए मैं अगले पार्ट में बताऊंगा..

अब वह USA  में है. वह आज भी मैसेज करती है और बोलती है की जब इंडिया आएगी मुझसे जरूर मिलने आएगी..

Share this Story:
loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age