बिग गांड वाली सीमा की चुदाई

loading...

ये कहानी मेरे कोलेज के पिछले ग्रुप में जो लड़की थी उसकी हे. उसका नाम सीमा हे. (मैं पहचान गुप्त रखने के लिए नाम बदल दिया हे). सीमा शायद मेरी मिली हुई सब लड़कियों में सब से अच्छी, क्यूट और सुडोल लड़की थी. उसकी चमड़ी लाईट ब्राउन थी और उसके कर्व्स, वाऊ देख के ही मजा आ जाए!

मुझे उसके फिगर का नाप तो नहीं पता हे. लेकिन 20 साल की लड़की के हिसाब से उसकी गांड एकदम बड़ी थी. और बूब्स भी कम नहीं थे उसके. उसकी आँखे गोल, डार्क हेर और आवाज एकदम पतला था. जब मैं पहली बार उसे मिला तभी से वो मुझे अच्छी लगी थी.

loading...

वो हमेशा अपनी सहेलियों के झुण्ड में होती थी. इसलिए उसे वो वहसी और प्यासी नजरों से देखन संभव नहीं होता था. मुझे उसकी भरी हुई बॉडी देखने में कुछ समय लगा. लेकिन जैसे जैसे मैं उसे नजदीक से जानता गया मेरे अन्दर की अन्तर्वासना उसके लिए भड़कती ही गई.

loading...

कुछ दिनों में मुझे पता चला की वो मेरे एक दोस्त को डेट कर रही थी. मुझे पता था की मेरे दोस्त की फिलिंग उसके लिए कभी भी सिरियस नहीं थी. साला पागल था, ऐसी मस्त लड़की मिली थी और उसे कद्र ही नहीं थी जैसे!

उन दोनों के बिच काफी टकराव होता था जिसका सब को पता था. और वो ही समय था जब मेरी और सीमा की बातें बढ़ने लगी थी. और हम साथ में टाइम भी निकालने लगे थे. हम दोनों बिना सिरियस हुए एक दुसरे के करीब होते गए.

एक दिन मेरे एक दोस्त से पता चला की सीमा मुझे क्यूट समझती थी. और फिर तो मेरी वासना का सैलाब उमड़ने लगा था. पहले सिर्फ उसके बारे में सोचता था मैं. लेकिन फिर मैं उसके नाम की मुठ मारने लगा था. फिर कोलेज का वो साल खत्म हो गया. और एक तिनके की तरह सब बिखर गया. सीमा ने कोलेज चेंज कर ली. उसका बॉयफ्रेंड और मेरा दोस्त अब्रोड निकल गया हाई स्टडी के लिए. और मैं वही पर रह गया पीछे! सीमा बदल गई थी अब. वो खुल के गाली गलोच करने लगी थी और लड़कियों से ज्यादा लडको में घुमती थी वो.

बहुत टाइम के बाद वो मुझे फेसबुक के ऊपर मिली. और मुझे देख के उसे बहुत ख़ुशी हुई. और मुझे भी. हमने कुछ बातें की और फिर एक नजदीकी माल में मिलने का प्लान किया. उस समय दिमाग में कुछ ज्यादा था नहीं, बस ऐसे ही मिलने को सोचा था मैंने भी.

वो बहुत समय के बाद मिली थी लेकिन वैसे ही थी. मस्ती भरी स्माइल, वही बस्ट और मस्त गांड. कुछ बदलाव था तो वो ये की उसने थोडा वेट लूज किया था और अब और भी सेक्सी लग रही थी. उसने स्किन टाईट ब्ल्यू जींस पहना हुआ था और उसके ऊपर टाईट ग्रे टॉप चढ़ाया था जो थोडा लो नेक था.

तो मुझे थोडा थोडा क्लीवेज दिख रहा था और और पीछे कमर पर उसकी ब्रा की आउटलाइन भी दिख रही थी.

उसके बाल मस्त बंधे हुए थे. अब हम मच्योर से थे. उसने हाई हिल पहनी हुई थो. सच में वो एकदम सेक्सी माल लग रही थी. वो भी मुझे देख के काफी खुश थी और मुझे अपनी बाँहों में भर के मस्त हग दे दी उसने.

ये पहले कभी नहीं हुआ था. मुझे उसके कडक बूब्स मेरी छाती पर टच होने से मस्त लगा. उसने कहा तुम्हारा वेट कम हो गया हे. मैं बोला तुम भी तो और हॉट हो गई हो अब. हमने एक छोटे केफेटेरीया में बैठ के नास्ता और कोल्ड कोफ़ी मंगवाई. वो अपने बालों में हाथ फेर रही थी और मेरा लंड खड़ा कर रही थी.

उसके क्लीवेज के साथ साथ बूब्स का भी थोडा हिस्सा दिखा जब मैं खडा हुआ. और मेरे बदन में एक शिट लहर और करंट जैसे साथ में दौड़ पड़ा.

मैंने उसे देखा वो भी मुझे देख रही थी. एक वासना से भरी निगाह ही काफी होती हे अपने इजहारे-सेक्स को करने को. सीमा मेरी आंखो में वासना को पढ़ चुकी थी. और उसके चहरे पर ब्लश हुआ. मैंने हिम्मत कर के अपने हाथ को उसकी जांघ के ऊपर रख दिया. उसने इधर उधर देखा और फिर अपने फोन को उठा के मेसेज देखने लगी. मैंने जांघ सहला दी. उसका हाथ भी मेरी जांघ के ऊपर आ गया!

सीमा की जांघ को सहला के मैंने कहा, चले?

वो बोली कहा?

मैंने कहा आज मेरे फ्लेट पर कोई नहीं हे. वही चलते हे.

वो बोली, स्योर.

वो मेरी बाइक के पीछे चिपक के बैठ गई थी. उसके बूब्स मेरी कमर पर चिपके हुए थे. और उसने अपने दोनों हाथो को मेरी जांघ के पास लंड के एकदम करीब रखे हुए थे. मैं उत्तेजित था. बाइक को हीरे धीरे चला के मैं ब्रेक लगा के उसके बूब्स का आनन्द ले रहा था.

फ्लेट आते ही मैंने उसे कहा मेरा ओनर निचे ही रहता हे इसलिए चुपके से जायेंगे ऊपर हम. वो बोली ठीक हे.

एक मिनिट में वो मेरे फ्लेट में थी. मैंने उसे पकड़ लिया. वो भी पागल की तरह चूमने लगी थी मुझे. मैंने उसके टॉप में हाथ डाल दिया और उसके बूब्स को मसल दिए. वो भी मस्ती के मूड में मुझे बाहों में ले के चूम रही थी. अब मेरा एक हाथ उसकी चूत के ऊपर चला गया और मैंने महसूस किया की जींस के ऊपर से भी उसकी चूत कितनी हॉट लग रही थी.

सीमा ने मेरी पेंट की जिप खोली और मेरे अंडरवेर के अन्दर हाथ डाल के लंड को सहलाने लगी. सीमा की साँसे तेज हो चुकी थी और मेरी हालत भी कम खराब नहीं थी. उसने मेरे लंड को बहार निकाला और बोली, वाऊ इट्स बिग!

मैंने भी सीमा की टॉप को खोला, उसने अपने हाथ से ब्रा के हुक खोले और न्यूड हो गई ऊपर के हिस्से में. मैंने उसे कस के बाहों में पकड़ा और उसकी निपल्स को चूसने लगा. उसने भी मेरे बालों में हाथ फेरे और वो जोर जोर से मोअन करने लगी थी.

वो मेरे लंड को हाथ से हिला रही थी. मेरा लंड एकदम कडक और लम्बा हो गया था. तन के पूरा 6 इंच लम्बा भी था वो उस वक्त. सीमा ने अब अपनी जींस के बटन को खोला और एकदम सेक्सी ढंग से गांड हिला के उसे निचे करने लगी. अन्दर उसने ब्लेक ब्रा पहनी हुई थी. सीमा ने अपनी पेंटी भी खोली. वाऊ उसकी चूत कितनी मस्त थी, बिना बाल की और एकदम गुलाबी रंग की. मैंने हाथ को उसकी चूत पर रखा तो वो एकदम गर्म थी और उसके अन्दर से पानी भी छूटा हुआ था. मैंने उसकी चूत की फांको को खोला अपनी ऊँगली से और वो जोर से अह्ह्ह्ह कर बैठी.

उसने मेरे लंड को जोर से दबाया. मैं निचे बैठा और मैंने सीमा की चूत में अपना मुहं डाल के उसे चूम लिया. उसने मेरे माथे को पीछे से पकड़ के दबा दिया. मेरी जबान उसकी चूत में घूम रही थी. वो जोर जोर से लंड को सक कर रही थी. और मैं चूत की फांको के साथ साथ उसके दाने को और फकिंग होल को चाट रहा था. वो एकदम मस्ती में आ गई थी और बोली, अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह मजा आ गया|!

2 मिनिट चाटने के बाद मैंने उसे निचे बिठाया और अपने लंड को उसके मुहं में पेल दिया. वो मेरे लंड को पूरा मुहं में भर के चूस रही थी. और साथ में मेरे अंडे को भी दबा रही थी. ग ग ग ग  की आवाज से उसने पुरे लंड को गपागप चूसा.

अब मैं उत्तेजना के सागर में डूबा सा था. मैंने उसे खड़ा किया. वो पीछे अपनी बिग गांड को निकाल के घोड़ी सी बन गई. मैंने अपने लंड के सुपाडे को थूंक से गिला कर दिया. और उसे अपने हाथ में पकड़ के हिलाया. मेरा लंड शैतान के जैसा विकराल था और हिलते हुए ड्रेगन के जैसे दिख रहा था. सीमा ने पीछे हाथ किया और लंड को पकड़ के अपने छेद पर लगा दिया.

मैंने एक धक्का दिया और लंड उसकी चूत में घुस गया. वो आह कर गई लेकिन लंड को अन्दर घुसने में कोई कठिनाई नहीं हुई. उसकी चूत एकदम गीली थी और आधे से ज्यादा लंड अन्दर जा घुसा था. मैंने उसके कंधे पकडे हुए थे जिन्हें टाईट रख के मैंने एक एक झटका पहले झटके के ऊपर ही लगा दिया. मेरा लंड अंदर पूरा घुस गया. और वो अह्ह्ह अह्ह्ह ओह ओह अय्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह करते हुए अपनी गांड को हिलाने लगी.

मेरा पूरा लंड मेरी इस सेक्सी फ्रेंड की चूत में था. और मैं भी उसे अपनी कमर हिला हिला के चोद रहा था. सीमा के बूब्स मस्त आगे पीछे हो रहे थे और वो मेरा मस्त साथ दे रही थी चुदाई में. मेरा पूरा लंड पिच पिच के आवाज के साथ उसकी चूत में जा के बहार आता था. और वो अपनी मस्त सिसकियों से वातावरण को और भी मजेदार कर रही थी.

सीमा की गांड के ऊपर अब मेरे दोनों हाथ थे. उसकी चूत अब और भी गीली थी. मेरे लंड के झटके तीव्र होते गए और उसकी सिसकियाँ भी. पांच मिनिट तक मैं उसे ठोकता रहा. और फिर वो बोली, नाऊ आई विल राइड यु!

मैं बोला, ओके.

मैं निचे लेट गया और मेरा लंड पकड के सीमा उसके ऊपर आ बैठी. उसने लंड के ऊपर अपनी चूत को रख के बैठते ही पूरा लंड अन्दर ले लिया. उसके मुहं से आह निकल गई. मेरे हाथ उसके बूब्स को पकडे हुए थे. वो जोर जोर से उछल रही थी. और मेरा लंड उसकी चूत के अन्दर घुस रहा था. जब वो ऊपर होती थी तब सिर्फ सुपाड़ा अन्दर होता था और बाकी का लंड बहार. फिर वो निचे बैठ के पुरे लंड को अन्दर ले लेती थी.

पांच मिनिट के अंदर ही वो दो बार झड़ गई मेरे लंड के ऊपर. जब वो झडती थी तो उसका पूरा बदन शिथिल हो जाता था और वो 10-15 सेकंड के लिए रुक जाती थी. और फिर उसके बाद उसकी चोदने की स्पीड और भी बढ़ जाती थी.

लगता ही नहीं था की हम दोनों का ये पहला सेक्स था. ऐसे लग रहा था जैसे हम एक जमाने से एक दुसरे को सेक्स का मजा दे रहे थे.

पांच मिनिट और चुदाई के बाद मेरा लंड खाली होने को था. मैंने सीमा को कहा तो वो बोली, मिशनरी में आ जाते हे.

मैंने इसलिए कहा था की मैं लंड का पानी उसकी चूत के बहार निकालू. लेकिन उसे तो ये टेंशन था की लंड का पानी वेस्ट ना हो चूत के सिवा. वो अपनी टाँगे खोल के मेरे सामने लेट गई. मैं उसके ऊपर चढ़ गया और अपने लंड को उसकी गीली चूत में पेला. उसने अपनी चूत को एकदम टाईट कर ली. मेरा पूरा लंड अन्दर था और गप गप चुदाई हुई हम दोनों की.

मेरे लंड का पानी कुछ ही देर में उसकी चूत में छुट गया. वो कराह उठी और उसने मेरे लंड को जकड़ लिया. मैंने एक एक बूंद को उसकी चूत में खाली कर दी. फिर हम दोनों बिस्तर के ऊपर लम्बे हो के लेट गए.

10 मिनिट के बाद साँसे कंट्रोल में आई और हम दोनों नहाने के लिए चले गए. मेरे रूममेट के आने का टाइम हो गया था इसलिए मैंने सीमा को दुबारा नहीं चोदा.

फिर हम दोनों मेरी बाइक पर निकल गए. मैंने उसे मेडिकल से पिल दिलवा के फिर उसे उसकी हॉस्टल पर छोड़ा. उसने कहा, बाय.

मैंने कहा, मिलती रहना.

वो मुझे आँख मार के बोली, क्यूँ नहीं तुम को अकेले को थोड़ी मजा आया हे!

और वो अपनी बिग गांड हिलाते हुए वहां से निकल गई!

loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age