मेरी बीवी ने खुश कर दिया अपने बॉस को

loading...

मंगलवार का दिन था, मेरी बीवी आशा रोजाना सुबह 7 बजे बेड से उठती थी. पर वो आज एक घंटे पहले सुबह 6 बजे ही उठ गई थी. अभी कोलेज को निकलने में तिन घंटे से ज्यादा समय था. वो रात को नंगी ही सोयी थी और उसने उठकर अपने कपडे पहनने की जहमत भी नहीं उठाई. और काम निपटाने के बाद उसने अपने आर्म्स और लेब्स को वेक्स किया. मेरी डार्लिंग आशा वैसे भी बहुत ही कम हेरी हैं.

फिर आशा ने अपने अंडरआर्म्स और चूत के आसपास में भी शेव किया. उसके बाद अपनी चूत के आसपास थोडा ब्लीच लगाया और थोड़ी देर के लिए छोड दिया. थोड़ी देर बाद जब उसने अपनी चूत को धोया तो उसकी पुसी और पुसी लिप्स गुलाब की पंखुड़ी की तरह गुलाबी लग रही थी. उसकी चूत इतनी क्यूट लग याही थी की जो भी देखता उसे उसको इस चूत से प्यार ही हो जाता!

loading...

आशा ने उसके बाद नहाया, नहाते वक्त भी उसने अपनी चूत और गांड के होल को अंदर तक अच्छी तरह से साफ़ किया. नहाकर वो बाथरूम से बेडरूम में बिना कुछ पहने ही आई. बेडरूम में आकर उसने अपने पुरे बदन पर मॉइस्चराइजर लगाया. बालों को अच्छे से सुखाने के बाद आगे की कुछ लटों को उसने कर्ल किया.

loading...

अपनी बॉडी पर बहुत ही स्ट्रोंग डीयो स्प्रे किया. उसके बाद उसने अपना फेवरेट पिंक कलर का कुरता और पिस्ता रंग का पाजामा पहना. उसने छोटी सी गुलाबी बिंदी लगाईं और मांग में थोडा सा लाल रंग का सिंदूर लगाया. उसकी स्किन इतनी सॉफ्ट हैं उसे मेकअप करने की जरूरत ही नहीं पड़ती. इसलिए उसने बस हल्का सा काजल और हलकी सी गुलाबी लिपस्टिक लगाईं. और नाक में उसने आज नोज पिन की जगह पर नोज रिंग पहनी. कान में भी ग्रीन टॉप्स पहने. वैसे तो वो रोज ही खुबसुरत लगती हैं पर आज तो बड़ी ही प्यारी लग रही थी. उसने फिर नास्ते में ब्रेड और बटर के साथ मिल्क लिया. करीब 9 बजे मोहसिन हमारे घर पर पहुंचा.

उसने मेरी बीवी को देखा और बोला, अरे वाह मेरी रांड क्या लग रही हैं, चल आजा चलने से पहले थोड़ी चुदाई कर ले!

ये कहते ही उसने आशा को जबरदस्ती से किस करने की कोशिश की. आशा ने उसे हलके से पीछे धक्का दिया और बोली, अरे अभी कपडे, लिपस्टिक किया है सब ख़राब हो जाएगा!

मोहसिन हँसते हुए बोला, समझ गया आज से तो तू रखेल हैं बॉस की, हा हा हा, और आज तो तेरी पहली चुदाई तेरे डायरेक्टर के साथ हैं इसलिए.

आशा ने कहा तुम जो समझो.

आशा ने ऑफिस पहुँच कर अपना अक्सेपटेंस लेटर डायरेक्टर की ऑफिस में सबमिट कर दिया. दिरेकोत्र ने 11 बजे आशा को अपने केबिन में बुला लिया और बोला, कांग्रेट्स आशा, तुम्हारी नयी जिम्मेदारी के लिए!

आशा ने कहा, थेंक यु वेरी मच सर.

डायरेक्टर: और कुछ सोचा अपनी नइ जिम्मेदारी के बारे में?

आशा: सर सोचन क्या हैं इसके अन्दर, बस पुरे तन और मन से आप की दी हुई सभी रेस्पोंसीबिलीटी को पूरा करुँगी.

डायरेक्टर ने हँसते हुए कहा: सही हैं तन और मन दोनों चाहिए, और धन की तुम्हे कोई कमी नहीं होगी.

ये कह के वो जोर जोर से हंसने लगा.

डायरेक्टर: चलो अभी तुम जाओ बाद में मैं कॉल करूँगा.

इवनिंग में डायरेक्टर की ऑफिस से कॉल आया, जिसमे आशा को 4 बजे डायरेक्टर के साथ एक मीटिंग में जाने के लिए कहा गया.

4 बजे आशा डायरेक्टर के साथ उसकी कार में चली गई. डायरेक्टर अपनी कार खुद ड्राइव कर रहा था. लगभग 2 किलोमीटर जाने के बाद उसने सड़क के किनारे गाडी रोकी और आशा को किस करने लगा. आशा भी जबरदस्त किसर हैं. लगभग 1 2 मिनिट ऐसे ही किस के बाद दोनों ने एक दुसरे को देखा. मेरी बीवी आशा एकदम सेक्सी लग रही थी.

डायरेक्टर: वाह मज़ा आ गया, क्या मस्त हैं लिप्स तुम्हारे. और क्या गजब की सिडकटिव किसर हो तुम. अब तो मैं आगे की परफॉरमेंस देखने के लिए पागल हो रहा हूँ.

ये सुन के आशा की आँखे शर्म से झुक गई और उसके होंठो पर हलकी सी स्माइल आ गई. डायरेक्टर ने कोलेज से एक घंटे की दुरी पर एक 3 स्टार होटल में कार रोकी और उन दोनों ने एक रूम में चेकइन करते ही डू नोट डिस्टर्ब लोक कर दिया.

अंदर घुसते ही डायरेक्टर ने मेरी बीवी को बेड पर धक्का दे दिया और उसके ऊपर लेट गया. और उसके होंठो को पागलों की तरह किस करने लगा. फिर उठकार अपने सारे कपडे उतार दिए. आशा की सलवार का नादा खोल कर उसे निचे खिंच दिया. उसके बाद आशा की चड्डी भी निचे खिंच दी. आशा की हलकी गुलाबी क्लीन शेवड चूत को देखकर डायरेक्टर ख़ुशी से पागल हो गया. उसने अपना मुहं मेरी बीवी की चूत में डाल दिया और उसे पागलों की तरह चाटने लगा.

कुछ देर चाटने के बाद उसने अपना मोटा लंड मेरी बीवी की चूत में लेना शरु किया. मोटा होने की वजह से शरु में तो उसे थोडा दर्द हुआ पर थोड़ी देर दोनों को मजा आने लगा. डायरेक्टर सांड की तरह तेजी से मेरी बीवी को छोड़ रहा था. ऐसा लग रहा था की जैसे उसे कई दिन से कोई चूत नहीं मिली थी. मेरी बीवी भी उचक उचक कर उसका साथ दे रही थी.

लगभग 6 7 मिनिय में उसने मेरी बीवी की चूत को भर दिया. और वो लुडक कर मेरी आशा की बगल में लेट गया. 2 3 मिनिट बाद डायरेक्टर बोला: आशा मजा आ गया, मुझे तुम्हारा परफॉरमेंस बड़ा हिन् मस्त लगा. मुझे लगता हैं की मैंने सही डील की.

आशा बोली: सर ये तो आप की परफॉरमेंस थी मैंने तो कुछ नहीं किया. आप ने अभी मेरी परफॉरमेंस देखी ही कहा हैं!

डायरेक्टर: ऐसा क्या? कैसे परफॉरमेंस करती हो फिर वो भी दिखा ही दो. हो सकता हैं मैं तुम्हे कुछ एक्स्ट्रा ही इंसेंटिव दे दूँ.

आशा समझ गई की अगर ज्यादा पाना हैं तो आज डायरेक्टर को ख़ास सेवा देनी होगी.

आशा बाथरूम के अन्दर गई. और अपने को शावर से भिगो दिया. उसने एक तोवेल अपने कमरे में बाँधा और दुसरा अपने एक शोल्डर पर डाल दिया. जिस से उसका एक ब्रेस्ट दिख रहा था और एक छिपा हुआ था. फिर वो धीरे धीरे मटकते हुए बाथरूम से बहार आई और बेड के नजदीक आने लगी.

उसके इस मोहन अंदाज को देखकर डायरेक्टर उठ के खड़ा हुआ और तेजी से आशा की तरफ बाधा. और उसने आशा के कंधे पर पड़ा हुआ तोवेल निचे फेंक दिया. आशा के बड़े बड़े बूब्स देखकर वो एक्साइट हो गया और उसके बूब्स को दबाने के लिए अपना हाथ आगे बढ़ाया.

आशा ने उसके हाथों को बिच में ही रोक दिया और बेड पर धक्का दे दिया और बोली: तुम बस अभी आँखों से ही मजे महसूस करो.

उसके बाद आशा ने मोबाइल पर टिप टिप बरसा पानी गाना लगाया मोहरा फिल्म का. और वो स्लो मोशन में डांस करने लगी. आशा अपने भीगे हुए बालों को ऐसे झटक रही थी की उसकी बुँदे डायरेक्टर के शरीर में पड़ रही थी.

उसके झूमते उछलते हुए बूब्स और मचलती हहुई कमर माहोल को मदहोश कर रही थी. बिच बिच में आशा अपने तोवेल को थोडा खोलती थोडा बंद करती और अपनी चूत और चूतड की झलक डायरेक्टर को दिखाती. डायरेक्टर से कंट्रोल नहीं हो रहा था अब. उसका लंड पूरी तरह से खड़ा हो चूका था. जब जब वो उठने लगता तो आशा उसे धक्का दे देती थी. इस बिच में एक बार जैसे ही आशा उसके थोडा पास आई उसने आशा का तोवेल खिंच लिया. आशा बिलकुल नंगी हो गई हलकी सी शरमाई पर नाचती रही. सहा के गोल मटकते हुए बड़े बड़े चूतडों को देख कर डायरेक्टर ज्यादा देर नहीं रुक सका और आशा को पीछे से ही जकड़ लिया.

आशा उसकी आर्म्स में ही घूम गई और उसने डायरेक्टर को किस किया. गाना अब तक बंद हो चूका था, आशा ने धीरे से डायरेक्टर के कान में कहा, थोडा कंट्रोल करो. ये सुन के डायरेक्टर ने अपनी पकड थोड़ी ढीली की आशा धीरे से अपने घुटनों के बल निचे बैठ गई और वो डायरेक्टर का खड़ा हुआ लंड चूसने लगी.

डायरेक्टर ने आशा के बाल पकड़े थे और आशा मदहोश होकर पागलों की तरह डायरेक्टर के लंड को चूस रही थी. थोड़ी देर के बाद डायरेक्टर आउट ऑफ़ कंट्रोल हो गया और कांपने लगा. आशा ने भी उसका लंड अपने मुहं से बहार निकाला और उसको बेड के किनारे बिठाया. उसके बाद फिर से वो निचे बैठ गई और अपने हाथ से तेजी से डायरेक्टर के लंड हिलाने लगी. जैसे ही उसे लगाकि डायरेक्टर अब ज्यादा देर तक रोक नहीं पाएगा तो उसने लंड मुहं में ले लिया और जोर जोर से चूसने लगी.

डायरेक्टर ने जैसे ही अपना माल छोड़ा उसने आशा का माथा जोर से पकड़ लिया और अपना सारा माल आशा के मुहं में ही छोड़ दिया. और मेरी बीवी ने हर बार की तरह ही इस बार भी लंड का पानी पी लिया. उसके बाद मेरी बीवी नंगी ही चिपक कर डायरेक्टर की बाहों में लेट गई.

और फिर डायरेक्टर ने अब की बार घोड़ी बनाया आशा को और फिर उसकी गांड पर लंड को घिसा. पांच मिनिट के बाद आशा ने उसके लंड को हाथ में पकड़ के अपने बूब्स को चुदवाये. खड़ा कर के लंड को उसने फिर से अपनी चूत में डलवा लिया. डायरेक्टर को बड़ा मज़ा आया मेरी सेक्सी बीवी को चोदने में.

और आशा बड़ी खुश थी क्यूंकि जॉब के पहले दिन ही डायरेक्टर उसे पांच हजार का इन्क्रीमेंट दे दिया था. बस शर्त ये थी की हर हफ्ते वो टिप टिप बरसा पानी वाले सोंग पर डांस करेगी और ऐसे ही लंड लेगी!

Share this Story:
loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age