बॉयफ्रेंड और उसके दोस्त के साथ सेंडविच सेक्स

loading...

हेल्लो फ्रेंड्स मेरा नाम अनुभा हे और मैं 19 साल की जवान लड़की हूँ. मेरा फिगर 33-28-34 का है. मुझे जबान कम और लंड ज्यादा चलाने वाले लड़के बहुत पसंद हे. अब मैं आओ का टाइम खराब ना करते हुए सेक्स की इस स्टोरी पर आती हूँ.

बात उन दिनों की हे जब मैं इंटरनेट नया नया चलाना सीखी थी. और डेली नए नए लडको के साथ सेक्स चेट करने का चस्का सा मुझे लगा था. मैं रोज कम से कम दो घंटे तक इन्टरनेट के ऊपर लोगों से बात करती थी और फिर अपनी चूत को फिंगरिंग कर के शांत कर लेती थी.

loading...

एक दिन एक लड़का मुझे इंटरनेट के ऊपर मिला. वो मेरे ही शहर का रहनेवाला था. उसने अपनी पिक्चर भी मुझे भेजी जिसमे वो बड़ा ही हेन्डसम लग रहा था. वो बातें करने में भी अनुभवी लगता था. और उसकी मीठी मीठी बातें मेरी चूत को तडपा सी रही थी. फिर मैंने भी उसे अपनी फोटो भेज दी. बातों का ये काम कुछ दिन ऐसे ही चला. और फिर उसने मुझे कहा की मैं तुम्हे सीधे फेस टू फेस मिलना चाहता हूँ.

loading...

हमारे शहर के बस स्टेंड के पास की एक छोटी सी चायनीज की रेस्टोरेंट में हम लोग शाम के वक्त मिले. और तब मैंने उसे लाइव देखा. सच में जैसे वेबकेम में दीखता था उसे भी ज्यादा ही हेंडसम था वो. फिर तो हम दोनों अक्सर कभी यहाँ तो कभी वहां मिलने लगे. वो कभी कबार मुझे छोटी मोटी किस भी कर लेता था.

एक दिन उस लड़के के घर पर कोई भी नहीं था. तो उसने मुझे घर पर आने के लिए कहा. वैसे मुझे डर सा लग रहा था उसके घर पर जाने में. पर हम एक दुसरे को अच्छे से जानते थे इसलिए मैं चली गई. मैं डोरबेल दबाई और वो खुद ही दरवाजा खोलने के लिए आया. मैं ग्रीन सूट पहना था और मैं उस दिन बड़ी सेक्सी लग रही थी. मैं उसके घर में घुसी और वो मेरे लिए ज्यूस ले के आ गया. उसका घर ठीक ठीक था. उसके पापा रेवेन्यु क्लर्क थे और घर में पैसे की चमक दिख रही थी छोटी छोटी चीजों में भी. उसने मुझे बताया की मेरा एक दोस्त भी हे घर पर ही.

फिर वो अपने दोस्त को बुला लाया. वो दिखने में थोडा विलन जैसा सांवला लेकिन तगड़ा था. उसने टी-शर्ट और जींस पहन रखी थी. मेरे बॉयफ्रेंड का नाम रघु और उसके इस दोस्त का नाम उसने समीर बताया. वो दोनों ही मेरे पास सोफे के ऊपर बैठे हुए थे. रघु ने समीर का इंट्रो मेरे से करवाया. फिर रघु ने मुझे कहा जरा मेरे साथ. मैं उसके साथ गई तो उसने मुझे वाशरूम के पास वाले एरिया में जकड़ लिया और मेरे होंठो के ऊपर जोर जोर से किस देने लगा और फिर उसके हाथ भी मेरे बूब्स के ऊपर आ गए. वो बूब्स मसलने लगा और मैं गरम होने लगी थी.

अब मैंने भी उसकी पेंट में हाथ डाल के पहली बार उसके लंड को टच किया. मैंने उसके लंड को पेंट से निकाला और उसके ऊपर किस दे बैठी. रघु मेरे होंठो के पास आया और बोला, समीर भी हमारे साथ ही करेगा!

मैं जान गई की आज वो दोनों दोस्त साथ में मिल के मेरी बजायेंगे! लेकिन पहले मैंने थोडा नाटक किया की नहीं नहीं मैं तुमसे प्यार करती हूँ. रघु बोला अरे प्यार करती रहना किसने रोका हे. मेरा दोस्त हे बेचारे की कोई माल नहीं हे उसे थोडा एजोय कर लेने दो बस. मैं रेडी हो गई. समीर भी वहां आ गया और उसने अपने लोडे को बहार निकाला. रघु ने कहा चलो मेरे कमरे के अन्दर चलते हे वहाँ ठीक रहेगा.

हम उसके बेडरूम में आ गए और मैं बिस्तर के ऊपर बैठ गई. वो दोनों मेरे सामने कहदे हुए थे. रघु ने आकर मेरे होंठो को चूमना चालु कर दिया और समीर हम दोनों को देख रहा था. वो भी कुछ देर में मेरी बगल में आ के बैठा. मैं उसके लंड को अपने हाथ में लिया तो वो पूरा कडक था. मैंने समीर के लोडे के ऊपर चुम्मा दिया तो उसकी आह निकल पड़ी.

कुछ देर में वो दोनों अपने बड़े बड़े लंड निकाल के पुरे नंगे हो चुके थे. रघु अब मेरी चूत के सामने आ के बैठ गया और उसे देख रहा था. वो दोनों ही मेरे दूध की थेली को मसल रहे थे अपने हाथ से. रघु ने मेरी टाँगे खोली और वो चूत को चाटने लगा. मैं समीर के लंड को अपने मुहं में ले के उसे चूसने लगी थी. लंड पूरा गले तक लिया तो वो सिसकियाँ भरने लगा. ह्ह्ह्हह अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह चुसो मेरी जान अह्ह्ह्ह उईई अह्ह्ह! उसकी सिसकियाँ और मोअनिंग मुझे भी गरम कर रही थी. रघु मेरी चूत को पूरा अपने मुहं में भरने की कोशिश में लगा हुआ था. मैं उत्तेजना के चरम सिखर पर थी. फिर वो दोनों ने मेरे भी सब कपडे उतार दिए और अब हम तीनो पुरे न्यूड थे.

रघु बोला, डालिंग अपनी टाँगे खोल के मेरा लंड ले लो अब मेरे से वेट नहीं हो रहा हे.

मैंने उसके लंड को पकड़ा और उसकी गोदी में बैठ गई. रघु का लंड मैंने चूत के ऊपर सही लगाया और वो फट से अन्दर घुस गया. मैं लंड के ऊपर पूरी बैठ गई और वो अन्दर घुस गया. दर्द तो बहुत हुआ लेकिन मजा भी उतना ही आ रहा था.

समीर सामने खड़े हुए अपने लंड को हिला रहा था. मैंने उसके लोडे को वापस मुहं में ले के चूसा और वो मेरे बाल पकड़ के मेरे माउथ को चोदने लगा. निचे रघु मुझे जोर जोर से चोद रहा था. और मैं अह्ह्ह अह्ह्ह्ह कर के अपनी गांड हिला के उसके लंड पर उछल रही थी. समीर अब मेरे पास आ के लेट गया बिस्तर के ऊपर. और वो रघु के लंड को और मेरी चूत को चाटने लगा. रघु का लंड जब मेरी चूत से बहार आता था तो वो लंड के ऊपर जीभ लगाता था और अन्दर जाता था तो वो मेरी चूत को जबान से लिक करता था. मैं भी अपनी गांड हिला हिला के इस दोहरे मजे को ले रही थी.

फिर रघु ने अपना लंड मेरी चूत में से निकाला. समीर ने अब मुझे घोड़ी बना दिया और अपने लंड को मेरी चूत के ऊपर लगा दिया. एक झटके में ही मेरी चीख निकल पड़ी. मेरी चूत के अन्दर उसका लंड ऐसे फिट बैठा था की मेरे आँख में आंसू आ गए थे. वो एक मिनिट के लिए पॉज कर गया लेकिन फिर अपनी कमर हिला के वो मुझे जोर जोर से चोदने लगा. उसने मेरे बूब्स को अपने हाथ में ले लिए थे. इन्हें दबाते हुए वो मुझे पेल रहा था. मैं भी अपनी गांड को हिला हिला के चुदने लगी थी. थोड़ी देर ऐसे चोदने के बाद समीर ने मुझे कमर से उठा के अपनी गोदी में ले लिए. अपने फेस को उसने मेरे फेस के सामने कर दिया और चोदने लगा.

तब रघु पीछे आ गया और उसने मेरे गांड के छेद के ऊपर अपना लंड लगा दिया और एक झटका दिया. जैसे ही उसका आधा लंड अन्दर गया उसने जोर जोर से धक्के दे के चोदना चालू कर दिया मेरी गांड को. वो दोनों सेंडविच बना के मुझे आगे पीछे दोनों जगह पर चोद रहे थे. मुझे भी इस डबल पेनेट्रेशन का मस्त मजा मिल रहा था.

फिर वो दोनों झड़ने को थे. समीर ने चूत में से लंड निकाला और रघु ने गांड में से. फिर उन्होंने मुझे घोड़ी बना के चूत मारी. दोनों मेरी चूत में ही झड़ भी गए. फिर हम तीनो नंगे ही बेड में लेट गए.

रघु और समीर के लंड कुछ देर में फिर से तन गये. अब की समीर ने कहा मैं गांड मारूंगा. और ये कह के उसने मुझे मिशनरी पोस में लिटा के कंधो के ऊपर मेरी टाँगे रखवा दी. और अपने लंड को उसने गांड में डाला. उसका काफी मोटा था और गांड में दर्द होने लगा था. उसने गांड में पूरा लंड डाला और चोदने लगा. रघु ने आके अपने लंड को मेरे मुहं में दे दिया.

मैं एक बार फिर से डबल पेनेट्रेशन फकिंग के लिए रेडी हो गई थी.

दोनों ने अब की मेरी गांड और चूत को ठोका और 45 मिनिट तक मैं चुदती रही. जब वो दोनों का पानी निकला तो मैं पूरी के पूरी थक के बेड में लेट गई थी!

loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age