अंकल ने बायसेक्सुअल और उसकी बीवी को चोदा

loading...

बिंदिया कौर और उसके पति बलबीर को एक नया सौख जागा था. और वो था अनजान लोगों के साथ सेक्स करने का, वैसे बलबीर एक ककोल्ड हे जिसे दुसरो से चुदती हुई अपनी बीवी को देख के लंड हिलाने की आदत थी. और ऊपर से वो एक बायसेक्सुअल भी था. वो गांड भी मरवा लेता था. आज की ये कहानी एक बूढ़े के खरे देसी लंड से इस मिया बीवी की चुदाई की हे.

बलबीर को ये अंकल सिनेमा हॉल में मिला था. दरअसल अंकल जी एक इंग्लिश मूवी देखने के लिए आया था. और बलबीर ने देखा की वो हॉट लड़कियों को ताड़ रहा था. अंकल के कपड़ो से और उसके स्टाइल से वो पैसेवाला और अच्छे घर का लगता था. बलबीर को लगा की इस बूढ़े के साथ बिंदिया को चुदवाया जा सकता हे. बलबीर ने बूढ़े के पास जा के उसके साथ बातें चालू कर दी. फिर धीरे धीरे वो बातों को अपने मतलब पर ले गया.

loading...

बात बात में उसे पता चला की अंकल एक रिटायर्ड फौजी था और वो दिल्ली का नहीं पर रोहतक का था. दरअसल वो यहाँ दिल्ली में अपने बेटे के घर कुछ दिन के लिए आया था. बलबीर को लगा की इस बूढ़े के साथ चुदाई में कोई खतरा भी नहीं हे. लेकिन सिनेमा हॉल में वो चुदवाने की और चोदने की बात से दूर ही रहा. अंकल के साथ घुल मिल के उसने उसका नम्बर ले लिया और दुसरे दिन उसे अपने घर बुला लिया.

loading...

बिंदिया को बलबीर ने पहले ही बोल दिया था की बूढा ठरकी हे जरा इधर उधर दिखाओगी तो लंड मिलेगा  हम दोनों को. बिंदिया ने कहा वो मेरे ऊपर छोड़ दो तुम.

शाम के करीब 5 बजे अंकल जी आये. बलबीर ने उन्हें हॉल में ही बिठाया और अंकल के लिए पानी ले के आ गई बिंदिया. अंकल ने ब्लेक पेंट के ऊपर ग्रीन शर्ट पहनी थी. उसका लुक एकदम मस्त था क्यूंकि वो फौजी जो था. बिंदिया ने डीप नेक की ढीली टी-शर्ट पहनी थी. और वो पानी देने के लिए झुकी तो अंकल को बूब्स दिखे उसके. अंकल के लंड में उभार आते हुए बलबीर ने अपनी जगह पर बैठे हुए था. पानी का खाली ग्लास ले के बिंदिया अपनी गांड को मटकाते हुए किचन में चली गई कोफ़ी बनाने के लिए.

उसके जाने के बाद,

बलबीर: अंकल कैसी लगी मेरी बीवी?

अंकल: मस्त हे यार! लकी हो.

बलबीर: थेंक्स. आप मेरिड हो?

अंकल: हां पर पिछले दो साल से विधुर हूँ.

बलबीर: ओह आई एम सोरी.

अंकल: इट्स ओके बॉय, पार्ट ऑफ़ लाइफ.

बलबीर: तो फिर कैसे चलता हे!

अंकल: ऐसे ही!

बलबीर: ऐसे ही मतलब?

अंकल: मिल जाता हे इधर उधर?

बलबीर: मेरी बीवी मिल जाए तो?

अंकल ने बलबीर को देखा. बलबीर ने अपने लंड के ऊपर हाथ दबाया हुआ था?

अंकल: आर यु गे?

बलबीर: नो नो, ककोल्ड एंड?

अंकल: एंड?

बलबीर: बायसेक्सुअल!

अंकल: ओह!

बलबीर: तो क्या ख्याल हे.

अंकल: बुला ले उसे.

बलबीर: पहले मेरे से ही स्टार्ट कर दो.

अंकल: तू आजा फिर!

बलबीर अंकल के पास गया. और उनकी पेंट की ज़िप को खोल के लंड बहार निकाला. अंकल का सेमी इरेक्ट लंड एकदम क्लीन शेव्ड था. और वो अभी आधा खड़ा था फिर भी कम से कम 5 इंच जितना था. अंकल ने बलबीर को बोला: चुसो इसे और जांघ को सहलाओ मेरी.

बलबीर ने अपने मुहं को खोला और वो अंकल के लौड़े को चूसने लगा. अंकल ने बेंड हुए बलबीर की गांड पर स्पंक किया. ये आवाज सुन के बिंदिया भी किचन से आ गई बहार. वो दरवाजे के ऊपर खड़े हुए अपनी चूत को कपडो के ऊपर से ही हिलाने लगी. अंकल के लंड को बलबीर मस्त चूस रहा था. उसकी मूछें लंड से लगती थी तो अंकल को एक अलग ही अनुभव होता था. वैसे अंकल ने फ़ौज में बहुत लौंडो की गांड मारी थी, लेकिन मूछ वाले को पहली बार वो लंड चूसा रहे थे.

बिंदिया ने एक हाथ अपनी टिप-शर्ट में डाल के अपने बूब्स हिलाना चालू कर दिया. अंकल ने उसे देखा और उसे हाथ कर के अपने पास बुला लिया. बिंदिया ने चलते हुए अपनी टी-शर्ट उतार फेंकी और अपने बूब्स को हिलाते हुए वो अंकल के पास आ खड़ी हुई. अंकल ने अपने हाथ से बिंदिया की चूत को टच किया. वो एकदम गरम हो गई थी. अंकल ने अब बलबीर के माथे को पकड के उसे उठा दिया. बिंदिया ने देखा की अंकल का लंड अब पूरा तन के ऑलमोस्ट 7 इंच से भी ऊपर हो गया था. बिंदिया ने अब अपने पति के अधूरे छोड़े हुए काम को अपने मुहं में ले लिया. वो अंकल के लंड को चूसने लगी.

बलबीर ने खड़े हो के अपने कपडे खोले और वो एकदम नंगा हो गया. और फिर उसने अंकल के लौड़े को चुस्ती हुई अपनी वाइफ को भी नंगा कर दिया. बिंदिया ने एक मिनिट के लिए भी लंड को बहार नहीं निकाला. वो कस कस के लंड को हाथ से गोल घुमा रही थी और उसे अपने मुहं से ऊपर निचे कर के चूस रही थी. एक मिनिट और ऐसा मस्त ब्लोवजोब देने के बाद बिंदिया ने अपनी दोनों टांगो को खोला. बलबीर निचे से उसकी चूत को चाटने लगा.

अंकल ने बिंदिया के बाल पकडे और उसे ऊपर उठाया. बिंदिया को होंठो के ऊपर किस दे दी उसे. और फिर अंकल ने उसे वापस लंड चूसने के काम में लगा दिया.

बलबीर एक तरफ बिंदिया की चूत चूस रहा था और बिंदिया के मुहं में अंकल का लोडा था. अंकल बिच बिच में उसके कडक पंजाबी बूब्स को दबा लेता था!

अब अंकल ने बिंदिया को बोला, चलो डार्लिंग अब रियल सेक्स करते हे.

बिंदिया घोड़ी बन गई अंकल के सामने. अंकल के लिए बलबीर ने एक कंडोम निकाला और अपने हाथ से पेकेट खोल के अंकल को कंडोम पहना दिया. फिर अंकल ने अपने लंड को बिंदिया की चूत में डाला. बलबीर सोफे के ऊपर बैठ गया और वो अपनी बीवी की आहें सुनने लगा. अंकल का लंड काफी बड़ा था और उस से चुदवा के बिंदिया कराह रही थी और सिसकियाँ ले रही थी.

बलबीर ने अपने 5 इंच के छोटे लंड को अपने हाथ में ले के हिलाना चालू कर दिया. वो अपनी बीवी को ऐसे चुदते देख के ही एक्साइट होता था. बिंदिया ने अपने हाथ को आगे बढ़ा के बलबीर को मुठ मारना चालू कर दिया. बलबीर ने आँखे बंद कर दी और वो एन्जॉय करने लगा बीवी के हेंडजॉब को.

अंकल ने अपने हाथ को क्रोस कर लिया और बिंदिया की गांड को पकड़ लिया. और फिर वो कस कस के चोदने लगा इस ककोल्ड वाइफ को.

फिर अंकल ने अपने लंड को बिंदिया की बुर से निकाला और बोला, चल मेरे लंड की सवारी कर अब.

अंकल अब बलबीर की बगल में सोफे पर बैठ गया. बिंदिया सोफे के ऊपर चढ़ गई. अंकल ने अपना लंड खड़ा कर दिया छत की तरफ. बलबीर ने अंकल के लंड को पकड़ा और अपने हाथ से बीवी को लंड पर बिठा दिया. बिंदिया अपनी गांड हिला हिला के चुदवाने लगी. बलबीर अब सोफे के ऊपर चढ़ गया और अपना लंड उसने बिंदिया के मुहं में पेल दिया. बिंदिया ने निचे अंकल का लंड चूत में लिया हुआ था और ऊपर वो अपने पति का चूस रही थी.

ये आसन में बिंदिया की बस सी हो गई थी. कुछ ही देर में अंकल के लौड़े ने उसकी चूत को पिगला दिया और वो झड़ गई. उसके झड़ने के बाद अंकल ने बलबीर को कहा, आजा तेरी भी गांड मार लूँ गांडू.

बलबीर अपनी गांड को खोल के सोफे के ऊपर उल्टा हो गया. अंकल निचे फर्श पर खड़े हो गए. और उन्होंने लंड को पच की साउंड से इस बायसेक्सुअल की गांड में पेल दिया. बलबीर को बड़ा मज़ा आ गया ये तगड़ा लंड अपनी गांड में डलवा के. वो अपनी गांड को हिलाने लगा जोर जोर से. उसे गांड मरवाने का बड़ा अनुभव था इसलिए इस बड़े लौड़े से भी उसे ज्यादा परेशानी नहीं हुई. वो लड़की के जैसे सिसकियाँ ले रहा था और अपनी गांड हिला के अंकल से मरवा रहा था.

अंकल ने मस्त 5 मिनिट उसकी गांड मारी और फिर अपने लंड को गांड से निकाल लिया. वही पर बैठी हुई बिंदिया को मुहं में दे दिया कंडोम निकाल के. बिंदिया लंड को चूसने लगी. बलबीर भी खड़ा हो के बिंदिया के पास आ गया और वो दोनों एक एक कर के लंड को चूसने लगे. अंकल लंड को पकड़ के मुठ भी मार रहे थे बिच बिच में.

और तभी अंकल के लौड़े से छुट हो गई. बिंदिया और बलबीर के चहरे के ऊपर अंकल के लौड़े का प्रसाद आ निकला. दोनों ने उसे चाट के खा लिया. अंकल थक के बेड के ऊपर बैठ गए.

पांच मिनिट के बाद उनका लंड फिर से खड़ा कर दिया बलबीर ने चूस चूस के. और अब की अंकल का बिंदिया के साथ एनाल करने का इरादा था. उन्होंने बिना किसी कंडोम को लगाए हुए अपने लंड को बिंदिया की गांड में पेल दिया. बिंदिया को गांड में अंकल का लंड काफी गरम लग रहा था!

Share this Story:
loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age