55 साल के अंकल ने माँ को चोदा

loading...

दोस्तों आज की ये सेक्स स्टोरी एक बड़ी रंडी मेरी माँ की हैं. उसकी उम्र चालीस साल की हैं और उसका रंग एकदम गोरा हैं. उसका फिगर आज भी एकदम चकाचक हैं. उसके 36 इंच के बूब्स पुरे गोल हैं और साथ में निचे 38 इंच की बड़ी फैली हुई गांड हैं. और माँ की कमर बड़ी पतली हैं सिर्फ 30 इंच की. उसका फिगर किसी सेक्सी हिरोइन के जैसा ही हैं. आप खुद ही जो नम्बर मैंने दिए उसके ऊपर से अंदाजा लगाओ की कितना मस्त फिगर होगा उसका.

मैं छोटा था तब की ये कहानी हैं. मुझे उस वक्त तो सेक्स का उतना नोलेज भी नहीं था. मेरा पापा बंगलौर में जॉब करते थे. मै, मेरा बड़ा भाई और मम्मी हम सब लोग गाँव में रहते थे.

loading...

पापा दो महीने में एक बार जरुर आते थे. पापा घर से बंगलौर जाने के लिए निकल गए. मैं और मेरा भाई खुश थे की पापा के जाने के बाद कोई डांटने वाला नहीं था. उसके अगले दिन हमारे पास वाले घर के शादी का माहोल था. मैं और मेरा भाई वही पर थे पंडाल के अन्दर. तभी मैंने देखा की हमारे घर में कोई चुपके से घुस रहा था. मैंने ये बात अपने बड़े भाई को बोली.

loading...

तो फिर हम दोनों धीरे धीरे उसके पीछे गए. हमको लग रहा था की कोई चोर हैं इसलिए साथ में हमने राजू भैया जिसकी शादी हो रही थी उनको भी ले लिया. हम तीनो ने घर घर के पास पहुँच के सुना तो घर के अन्दर से मेरी माँ की हंसने की आवाजें अ रही थी. हम लोग खिड़की से अंदर झाँकने लगे. तो वो आदमी जो चुपके से घुसा था वो कोई और नहीं लेकिन राजू भैया के पिताजी ही थे.

मैं वहां से जाने के लिए आ रहा था पर वो राजू भाई और मेरे भाई मेरे को चुप कर के वहाँ से जाने के लिए बोले. मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा था. मैंने भी कहा की मैं तुम लोगो के साथ में रहूँगा नहीं जाऊँगा मैं यहाँ से. मैं भी उन दोनों के साथ खिड़की से अन्दर देखने लगा.

वहां देखा तो मम्मी ने उनको बेड पर बैठने के लिए कहा और कहाँ की बच्चे तो तुम्हारे घर हुए हैं, कोई टेंशन नहीं हैं. राजू भैया के पापा की उम्र करीब 55-57 साल की हैं. वो माँ के ऐसा कहने से बड़े खुश हुए. और उन्होंने अब मेरी माँ के पास आ के उसे अपनी बाहों में भर लिया.

और यहाँ पर मेरा भाई मुन्ना और राजू भैया अपने लौडों को पेंट के ऊपर से ही सहलाने लगे. उन दोनों के लंड एकदम से तने हुए थे. उधर अंकल ने बड़े मजे से माँ को बाहों में भर के किस किये जा रहे थे. फिर उन्होंने माँ को बेड पे बिठा दिया और बोलने लगे बहुत दिन हो गए तुझे चोदे हुए. इसी बार आकाश काफी दिनों के बाद बंगलौर गया. माँ ने कहा हां हमारे राशन कार्ड का कुछ काम पेंडिंग था इसलिए वो काफी दिनों से यही थे. अंकल बोले लेकिन मुझे उसके यहाँ रहने से बहुत लंड हिलाना पड़ा!

और फिर वो दोनों हंस पड़े. अंकल ने अब अपनी पेंट की ज़िप खोली और अपने देसी लोडे को बहार निकाला. लंड को फडफडा के वो माँ के गालो पर उसे घिसते हुए बोले, मेरे लंड की याद आई की नहीं तुम को?

माँ थोड़ी शरमाई लेकिन बोली, याद तो बहुत आई हमें आप के लंड की. आकाश भी चोदते थे लेकिन उनके लंड में वो रस और बात नहीं हैं जो आप के अन्दर हैं.

और ये कह के माँ ने अंकल के लंड को सहलाया. और फिर उसके सुपाडे को किस किया. फिर मम्मी ने अपने मुहं को खोला और लोलीपोप के जैसे लंड को अपने मुहं में भर लिया. और वो उसे मजे से चूसने लगी. तभी राजू भैया और मुन्ना भाई ने तो अपने लंड पतलून से बहार निकाले और वो उसे हिलाने लगे.. राजू भैया के एक हाथ में मोबाइल भी था जिस से वो क्लिप बना रहे थे. भाई भी मेरी माँ के ब्लोव्जोब का सिन देख रहा था.

मेरे दिमाग में उस वक्त तो कुछ भी नहीं घुस रहा था. मुझे ये सब एकदम अजीब सा लग रहा था. पर भाई लोगो के दर से चुपचाप सब देखता रहा हैं. अंकल ने माँ की साडी का पल्लू निचे कर दिया और ब्लाउज के बटन को खोल दिए. माँ के बड़े बड़े बूब्स तो कब से बहार आने के लिए तरस रहे थे. माँ के बूब्स बहुत ही गोर थे. और ब्रा का साइज़ शायद बूब्स की साइज़ से छोटा था इसलिए वो ब्रा में एकदम फिट लग रहे थे.

अंकल ने बूब्स को ब्रा के ऊपर से ही मसल दिए और माँ उनका लंड अभी भी चूस रही थी. फिर अंकल ने माँ को बेड पर लिटा दिया और ब्रा को भी खोल दिया. माँ के बूब्स पूरा खुल गए और तर्बुच के तरह बड़े बड़े दिख रहे थे. अंकल उनके बूब्स को मुहं में ले लिए और चूसने लगे. इधर ना में भी बाकी का जो साडी था उसको निकाला और वो पूरी नंगी हो गई. अंकल ने अपना लौड़ा माँ की चूत के ऊपर रख दिया और धक्के देने लगे. माँ भी मजे से अह्ह्ह अह्ह्ह करने लगी थी. अंकल ने धीरे धीरे से अपनी चुदाई की स्पीड बढ़ा दी. माँ का पूरा बदन आगे पीछे हो रहा था. वो अपनी टांग को खोल के आराम से अंकल का लंड ले रही थी. मेरी माँ के बड़े बूब्स अच्छी तरह से हिल रहे थे.

अंकल ने एक चूची की निपल को मुहं में लेकर चुसना चालू किया और दुसरे को हाथ से मसल रहे थे. माँ भी अपनी गांड को उठा उठा कर उनके धक्को का मजा ले रही थी. अंकल बोल रहे थे रानी तुझे मज़ा आ रहा हैं की नहीं.

माँ ख़ुशी से हाँ बोली और हां आप का लंड तो हमेशा मजा देती हैं और आज आप मेरे चूत को अपने लंड से फाड़ दो. बहुत दिनों से खुजली हो रही थी मेरी चूत के अन्दर और आज अपने लौड़े से मेरी चूत को फाड़ दो. और मेरी चूत को फाड़ दो.

और फिर अंकल जी ने माँ को उल्टा लिया दिया और माँ को कुतिया वाली पोजीशन में चोदने लगे. अब चूची निचे झूल रही थी अंकल ने पीछे से लंड को चूत में डाल के धक्का देने लगे. और माँ के सर के बाल को पकड के आगे पीछे कर के अंकल उसे चोद रहे थे.

तब माँ का मुहं पूरा खुला के खुला ही रह गया. माँ दर्द से चिल्लाने लगी. अंकल ने बेरहमी से माँ को मजे से चोदा. कुछ देर बाद माँ की आवाज चेंज हो कर अह्ह्ह्ह अह्ह्ह ऊह्ह्ह अह्ह्ह्हह होने लगी. अब लगता था की माँ को भी बड़ा मज़ा आने लगा था.

इधर मुझे और मेरे भाई मुन्ना को राजू भैया ने बोला की किसी कू कुछ मत बोलना. तब मुन्ना भाई ने बोला की भैया आप ये वीडियो क्यूँ बना रहे हो. तो राजू भैया बोले तू खाली देखता जा तेरी माँ को कैसे मैं रंडी बनाता हूँ.

भाई ने बोला की भैया मेरे लिए भी कुछ करो ना. राजू भैया बोले की तू अभी बच्चा हैं. पहले ये सब देख के सिख ले फिर करना.

मैं कुछ ना जानते हुए बोला की मैं भी करूँगा. इस बात पर वो दोनों हंस पड़े और मुझ से बोले की किसी को कुछ नहीं कहना.

उधर अभी भी अंकल माँ को कुत्ते के जैसे चोद रहे थे. माँ भी बड़े मजे से लंड ले रही थी और उसके मुहं से अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह ओह ओह यस, जोर से करो, अह्ह्ह्ह और जोर से, फाड़ दो मेरे बुर को, अह्ह्ह्ह अह्ह्ह!

और अंकल के लंड और उसकी चूत के घिसने से फच फच की आवाजें भी आ रही थी.

कुछ देर के बाद अंकल माँ की चूत में ही झड़ गए. माँ भी भी बोल रही थी की और तेज तेज चोदो. पर अंकल के झड़ने के बाद वो उठ गए. माँ थोडा परेशान लगने लगी. पर अंकल बोलने लगी की रानी आज थोडा जल्दी निकल गया आज रात को फिर से पूरा मजा दूंगा.

पर माँ नाराज हो जाती हैं और उठ के कपडे पहनने लगी. अंकल ने माँ को मनाने के लिए उनकी चूची को पकड़ कर सहलाते हुए बोले की राजू की शादी के लिए थोडा जल्दी हैं नहीं तो अभी तेरा सारा पानी निकाल देता.

माँ बोली इतने दिनों के बाद मिल के कुछ जल्दी ही हो गया आप का. चलो अब ऊँगली से ही मुझे ठन्डी कर दो.

और अंकल ने माँ को निचे लिटा के उसकी टाँगे खोल दी. माँ की चूत में जोर जोर से ऊँगली कर के अंकल ने हिलाया. माँ के बूब्स भी बड़े जोर से अपने बूब्स मसले. और फिर अंकल ने मम्मी का पानी छुड़ा दिया!

Share this Story:
loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age