प्रेग्नेंट चाची की बहन शिला की चुदाई

loading...

इसी साल जून की होलीडे में मैं अपने चाचा जी के घर पर गया हुआ था. और जब मैं वहां पहुंचा तो देखा की एक सुन्दर सी लड़की भी वहां पर हैं. मैंने अपनी चाची से पूछा की ये कौन हैं तो उन्होंने कहा की वो मेरी सिस्टर हैं और उसका नाम शिला हैं. शिला करीब 24 साल की थी और वो सिंगल यानी की कुंवारी हैं.

शिला का फिगर काफी मस्त था. करीब 36 28 32 का फिगर होगा उसका और वो काफी सुन्दर थी. मेरी चाची प्रेग्नेंट थी और उनका आठवा महिना चल रहा था. तो उसकी देखभाल करने के लिए और घर में खाने वगेरह का काम करने के लिए शिला आई ही थी. फिर मेरी और शिला की बातें होने लगी और धीरे धीरे 3-4 दिन में तो हम दोनों की अच्छी पट रही थी.

loading...

फिर उस्न्ने मुझसे पूछा की मेरी कोई गर्लफ्रेंड हैं तो मैंने कहा नहीं. फिर उसने कहा की क्यूँ नहीं हैं? तो मैंने का की कोई पसंद ही नहीं आई अब तक. तो फिर उसने पूछा की कैसी लड़की चाहिए आप को? मैंने कहा एकदम सिम्पल सी.

loading...

फिर मैंने उसको पूछा की क्या तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड हैं तो उसने कहा की हाँ, उसके गाँव में हैं. फिर मैंने कहा की कब कर रही हो उसके साथ शादी. तो उसने कहा की शादी के लिए नहीं हैं यार, वो तो सिर्फ टाइम पास के लिए हैं.

तो मिने कहा कैसा टाइम पास. उसने कहा तुम अभी छोटे नहीं हो की तुम्हे कौन सा टाइम पास वो पता ना हो.

तो मैंने उसको कहा सच में मुझे तुम कौन सा टाइम पास कह रही हो वो पता नहीं हैं. तो फिर उसने कहा की वो मुझे एक दिन टाइम पास के बारे में पूरा बताएगी. और फिर मैंने कहा की एक दिन नहीं आज ही जानना हैं.

उसने मना कर दिया और वो चली गई. फिर हमने रात को खाना खाया और सोने के लिए गए.

सुबह जब मैं उठा तो मैंने देखा की शिला नाहा धो के रेडी हो चुकी थी. और वो मंदिर जा रही थी. मैना कहा की मैं भी मंदिर चलूँगा तो उसने कहा की जब तक तुम रेडी होगे उतने में तो आलरेडी देर हो जायेगी. वो बोली तुम कल आना साथ में. मैंने कहा ठीक हैं.

वो मंदिर हो आई, वापस घर औ और घर का काम करने लगी. सबने दोपहर का लंच कर लिया और चाची फिर अपने रूम में आराम करने के लिए चली गई. और शिला ने भी अपना सब काम ख़त्म कर लिया और वो मेरे पास आ के बैठ गई. हम दोनों बातें करने लगे.

उसने कहा की अपना मोबाइल दिखाओ तो मैंने उसे दे दिया. उसने मेरा मोबाइल चेक किया लेकिन उसे कुछ नहीं मिला. फिर उसने मुझे मोबाइल वापस देते हुए कहा की तुम सच में कुछ नहीं जानते हो. मैंने कहा की क्या नहीं जानता हूँ? तो उसने कहा की शाम को बताउंगी. मैं अब बेसब्री से शाम होने की वेट कर रहा था.

फिर शाम को शिला खेत में जा रहीथी तो उसने कहा की तुम भी मेरे साथ चलो घर में अकेले अकेले बोर हो जाओगे. तो मैंने भी चलने लगा. फिर हम अपने खेत में जा के थोड़ी देर बातें करने लगे. फिर उसने मुझे मेरे फ़ोन माँगा जो मैंने दे दिया.

शिला ने मेरे फोन में एक पोर्न मूवी डाली और कहा की जब मेरे आसपास कोई ना हो तब इस वीडियो को देखूं. और फिर हम लोग खेत में कम करने लगे. काम कारने के बाद घर आ गए. और जब रात को मैं सोने गया तो मैं समझ गया की शिला सच में एक अश्लील और चुदक्कड टाइप की लड़की थी.

फिर सुबह मैंने उस से कहा की मैं भी उसके साथ सेक्स करना चाहता हूँ. तो उसने कहा की जब घर में कोई नहीं होगा तब हम को ये मौका मिलेगा. लेकिन चाची 24 घंटे घर पर ही रहती थी तू ये प्लान घर पर बनाना बड़ा ही मुश्किल लग रहा था मुझे. फिर मैंने उस से कहा की क्यूँ ना हम ये सब खेत में करें. तो उसने मना कर दिया और कहा की खेत में जो कोई देख लेगा तो फिर बहुत बदनामी होगो. तो फिर हमने प्लान किया की दिन में चाची के सोने के बाद हम सेक्स करेंगे और वो भी उसके लिए मान गई थी.

फिर हम दोनों दिन का वेट करने लगे और दिन हुआ तो चाचा खेत में चले गए. और चाची अपनी दवाई ले के अपने कमरे में सोने के लिए चली गई. अब हम दो ही थे. तो मैं अप्पने रूम में चला गया और थोड़ी देर बाद शिला भी आ गई. उसके आते ही मैंने उसे अपनी बाहों में ले लिया और फिर लिप्स किस करने लगा. और वो भी मेरा पूरा साथ देने लगी थी. फिर मैंने उसे उठा के बेड पर पटक दिया और खुद उसके ऊपर कूद के उसे लिप किस करने लगा.

फिर मैंने उसका स्यूट उतारा और सलवार भी उतार दी. अब वो सिर्फ ब्रा और पेंटी में थी मेरे सामने. अब मैंने उसका ब्रा और पेंटी भी उतार दिया तो देखा की उसके बूब्स काफी टाईट थे एकदम किसी पोर्नस्टार के जैसे ही. अब मैं उसके बूब्स चूसने लगा और वो सिस्कारियां लेने लगी थी. फिर मैंने भी अपने कपड़े उतार दिए और मैं भी पूरा नंगा हो गया उसके सामने. अब वो उठी और उसने मेरा लंड अपने मुहं में ले लिया और ओरल सेक्स करने लगी.

फिर उसने लंड अपने मुहं से निकाला और कहा की मैं अपने लंड को उसकी चूत में डाल दूँ. फिर मैंने उसे सीधा लिटाया और अपने लंड का टोपा उसकी चूत के मुहं पर रख दिया. उसकी चूत काफी गरम हो चुकी थी. ऐसा लग रहा था की मेरे लंड पर गरम गरम भांप लग रही हो.

तो मैंने हलके से अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया. उसने एक सांस ली और कहा की जल्दी से पूरा लंड अन्दर डाल दे. तो मैंने एक ही झटके में अपना पूरा लंड शिला की जवान चूत में डाल दिया. वो चीख पड़ी और कहने लगी साले तेरा टी बहुत बड़ा हैं. मैंने उसे आगे कुछ नहीं बोलने दिया. उसके होंठो से अपने होंठो को लोक कर के मई उसकी चूत को जोर जोर से चोदने लगा.

करीब पांच मिनिट के बाद वो आह अहह करती रही. उसकी चूत की चमड़ी छिल गई थी, ऐसा उसने बताया जब मैंने उसके होंठो को छोड़ा. उसकी आहें और सिसकियाँ सुन के चाची की नींद में खलल पड़ी थी. उसने दरवाजे के पास आ के सुना शायद. और वो समझ गई की उसकी बहन अन्दर भतीजे से चुदवा रही हैं. लेकिन उसने दरवाजे को नोक नहीं किया. लेकिन वो सीधे ही खिड़की के ऊपर आ गई और अन्दर देखने लगी. मुझे और शिला को तो कुछ पता नहीं था, हम अपनी मस्ती में मस्त चोद रहे थे.

फिर शिला ने एक बार अपना पानी छोड़ दिया था और वो थोड़ी ढीली पड़ गई थी. तो मैंने उसे घोड़ी बनने को कहा. फिर वो कुतिया बनी मेरे सामने. और फिर मैंने पीछे आ के अपना लंड उसकी चूत में घुसा दिया.

करीब 10 मिनिट और चोदने के बाद मेरा भी झड़ने को था. तो मैंने पूछा की अन्दर ही निकालूं क्या तो उसने कहा की नहीं मुझे अपना वीर्य पिला दो फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत से निकाल कर उसके मुहं में डाल दिया. और मेरे लंड की पिचकारी से उसका मुहं भर दिया.

और फिर हम दोनों वही एकदम बेजान हो के लेट गए. चाची हमारी चुदाई देख के चली गई. और फिर शाम होने वाली थी और चाचा का घर आने का वक्त हो रहा था तो मैंने कहा की नहा धो के साफ़ कपडे पहन ले. तो वो नाहा के एकदम रेडी हो गई और फिर हम दोनों अपने अपने काम में लग गए.

फिर जब हमने रात का खाना खाया उसके बाद चाचा सोने चले गए. मैं टीवी देख रहा था और शिला सारे काम ख़त्म कर के मेरे पास बैठने के लिए आई. उसने पूछा की कैसा लगा आज तो मैंने कहा की बहुत मजा आया और अब मैं जब तक यहाँ हूँ हम तब तक रोज ऐसे ही सेक्स करेंगे. तो उने कहा की अगर रोज चोदुंगा टी चाची को पता चल जाएगा तेरी!

तभी चाची पीछे से आ और बोली मुझे सब पता हैं और मैंने दोपहर को अंदर के कमरे की रंगरलियाँ देखी थी. मैं और शिला दोनों डर और सहम चुके थे. लेकिन चाची ने कहा अरे घबराओ नहीं मैं किसी को कुछ नहीं कहूँगी, जवानी में सब लोग ऐसे ही होते हैं.

चाची ने कहा देखो मैं किसी को कुछ नहीं कहूँगी लेकिन उसके लिए मेरी एक शर्त हैं. मैंने कहा कैसी शर्त?

चाची ने कहा देखो मैं प्रेग्नेंट हूँ तब से तुम्हारे चाचा का लंड देखा भी नहीं हैं. और मुझे आजकल प्रेगनेंसी होने के बावजूद भी लंड लेने की खुजली हो रही हैं.

मैने कहा तो?

चाची बोली, जब कल दोपहर में तुम लोग करोगे तो मैं भी वहां रहूंगी. अन्दर तो नहीं लुंगी लेकिन तुम्हे मेरी चूत चाटनी होगी और मुझे लंड चुसाना होगा!

मैंने खुश होते हुए कहा पक्का!

अगले दिन चाची भी एक मरून नाइटी पहन के आई जिसके नीचे ब्रा पेंटी नहीं थी. शिला को चोद रहा था तब उसने नाइटी ऊपर कर के अपनी हेरी चूत मेरे से खूब चटाई. और उसने बोल दिया था की आज तेरे लंड का पानी मुझे पीना हैं. शिला की चुदाई करने के बाद मैंने अपनी चाची के मुहं में लंड दिया जिसे उसने खूब चूसा और सब पानी भी पी गई.

दोस्तों मैं दो हफ्ते के लिए गया था लेकिन एक हफ्ता एक्स्ट्रा रुक गया. एक बार चाची ने मेरी गोदी में बैठ के गांड मरवाई और बाकी के सब दिन मैंने सिर्फ शिला को चोदा, चाची आती थी देखती थी और अपनी चूत चटवाती थी मेरे से. उसकी प्रेग्नेंट चूत में बहुत ही पानी होता था, शायद तो प्रेगनेंसी की वजह से ही!

loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age