छोटी बहन ने चुदाई देखि हमारी

loading...

पिछले गुरुवार को गजला ने मुझे फोन पर कहा कि तेरे जीजा घर पर नहीं हे तो आज रात को आ जाओ. में तो पूरा विक वेट कर रहा था तो में खुश हो गया. वेसे  रविवार रात को गजला मेरे घर आती है फिर पूरा हफ्ता इंतजार करना पड़ता है. एक एक दिन महिनो के बराबर लगता है. लेकिन उस दिन मैं बहुत खुश हो गया था.

जैसे उसने कहा था की के रात को आ जाना मैं उसके घर ११:३० बजे पहुंच गया किया और उसे रिंग किया तो उसने दरवाजा खोल दिया. में सीधे उसके रूम में चला गया. उसने पूछा कुछ खाएगा? मैंने कहा खाना खिला दे, मुझे एनर्जी भी चाहिए थी.

loading...
loading...

तो वह खाना लेके आई और मेरे साथ बैठ कर खाने लगी. मेंने पूछा आपने भी नहीं खाया तो कहा की थोड़ा खाया था. खाने के बाद वह बर्तन रख कर मेरे पास आ गयी. घर में सब सो गए थे फिर हमारा किसिंग, सकिंग और फकिंग चालू हो गया.

मैं एक बार जड गया था तो मैं उसे फिंगरिंग के साथ उसकी चूत चाट रहा था कि अचानक से असरा रूम में आ गई और जोर से बोली यह क्या है दीदी?

मेरी तो फट गई थी आज हमारा काम तमाम हो गया, लेकिन गजला ने उसे दोड के पकड़ा  मैंने गजला को बेड से बेड बेडशीट उतार कर ढक दी. मैं अपनि पैंट पहनने लगा.

गजला उसे समझाने लगी के प्लीज किसी को मत बोल तुझे मेरी कसम. मैं तो धीरे से निकल गया और सीधा घर चला गया. मेरी तो फटी पड़ी थी की अब क्या होगा?

लेकिन करीब थोड़ी देर बाद गजला का फोन आया और बोली के असरा को मैंने समझा दिया हे अभी हम दोनों जल्दी नहीं मिल पाएंगे.

मेरी तो  जान में जान आ गयी के अब में कभी भी गजला के साथ नहीं करुंगा पर ऊपर वाला मुझे सब से बचाले.

फिर मैं सो गया.

असरा जो की गजला की छोटी सिस्टर थी, वो मुझे बड़े भाई की तरह मानती थी. वह १2 वीं में पढ़ती थी. उसे कोई कंफ्यूजन होती तो मुझसे हेल्प लेती थी.

अगले दिन उसने मुझे कॉल किया और कहां मैं मिलना चाहती हूं. मैं डर गया लेकिन मैंने अपने आप को थामे रखा.

वह आई और बोली कि मुझे इंटीग्रेशन के कुछ क्वेश्चन सोल्व करा दो. मैंने कहा ओके और में उसे मदद करने लगा तो बोलि आपका यह चक्कर कब से चल रहा है मेरी दीदी के साथ? में थोड़ा डरा लेकिन मैंने कहा कि गजला जीजू से सेटिसफाइड नहीं है. तो बोली मैं पूछ रहा हूं कब से चल रहा है? फिर मेने कहा की लास्ट २ मंथ से.

उसने मुझे पूछा आप सारी अनसेटिस्फायड वुमन को सेटिस्फेक्शन देते हो? मैंने कहा नही मेरा फर्स्ट टाइम हे गजला के साथ. तो वो कहने लगी और किसी के साथ सेक्स नहीं किया? मैंने कहा नहीं.

तो कहने लगी मैं आप दोनों का ये राज  किसी को बता दूं तो? मैं परेशान हो गया कि अब क्या कहूं? कैसे मनाऊं मैंने कहा प्लीज मेरी एक इमेज है खानदान में, प्लीज इस बात को किसी को मत बताना. वह बोली ठीक है, लेकिन एक कंडीशन है.

कि आप मेरे साथ भी सेक्स करोगे अभी इसी वक्त नहीं  तो यह मैं पापा को बोल दूंगी. मुझे जोडर लग रहा था वह मजे में बदल गया की एक और सिस्टर को चोदुंगा. मैंने सबसे पहले जाकर गेट बंद किया  ताकी अब हमें कोई ना देख ले.

मैंने अब पहली बार असरा को चोदने की नजर से देखा. मैं पागल हो रहा था, मुझे गजला से भी अच्छी लग रही थी. मेने उसे किस करना शुरु कर दिया. आगे बढ़ा तो बोली रुको पहले यह कसम खाओ की किसी को नहीं बताओगे. मैंने कहा ठीक है और उसे किस करने लगा. उसकी कुर्ती के अंदर हाथ डालकर बोबे दबाने लगा. फिर पजामे में चूत के ऊपर उंगली करने लगा. अब वह सिस्कारिया लेने लगी. मैंने अपने कपड़े निकाले और उसको भी पूरा नंगा कर दिया.

मेने उसके पूरे जिस्म को जीभ से चाटा फिर पुसी को चाटना शुरू कर दिया अब वह मनी मनी कम ओंन डू फ़ास्ट. फिर मैंने उसे कहा कि मेरे लंड को सक करो तो वह सिर्फ हाथ से हिला रही थी. उसने मुंह में नहीं लिया. अब मैंने उसे लेटा दिया और फिर उसकी चूत पर लंड रगड़ने लगा. उसकी चूत गीली थी और ऐसा लग रहा था कि उसके चूत पर लिपस्टिक लगी थी बिल्कुल मस्त.

फिर मैंने धीरे से लंड अन्दर डाला लेकिन मेरा टोपा अंदर गया फिर में धक्के मारने लगा तो वह चिल्लाई. मैं थोड़ा परेशान हो गया के गजला के तो जट से अंदर चला गया इसे इतना दर्द क्यों हो रहा हे? फिर में समझ गया कि यह वर्जिन है. मैंने उसके लिप्स पर किस किया और एक जोर का झटका दिया. मुझे लगा उसकी सांस रुक गई. वह बहुत अजीब सी हो गई थी. मैं डर गया मैं रुक गया और उसे बिठाया और वो कहने लगी की मैं मर जाऊंगी. मैंने कहा जो होना था हो गया, अब मजा आएगा. पहली बार सबके साथ होता है. फिर थोड़ी देर बाद मैंने उसे फिर से लेटाया और एक झटका दिया अब वो थोड़ा चिल्लाई. में थोडा रुका फिर पुश करने लगा. धीरे धीरे अब वह संभल गयी और उसे मजा आने लगा.

अब मेने अपनी स्पीड बढ़ा दी.  मुझे सच मैं गजला को चोदने से ज्यादा मजा इसे चोदने में आ रहा था. इसकी हल्की हल्की सिसकियां मुझे मदहोश कर रही थी. मेने करीब २० मिनट तक चोदा. फिर मैं उसके पेट पर पसर गया और हम दोनों एक दूसरे एक दम से चिपक गये.

फिर दोनों फ्रेश पूरे और उसने मुझे पूछा आप कितने दिन में करते हो गजला के साथ?

मैंने बोला जब जीजू नहीं होते.

तो वह बोली में रोज़ आउंगी पढ़ने के बहाने.

अब तुम मेरी मौजा ही मौजा.

अब तो में रोज असरा के  साथ और हफ्ते में एक बार गजला के साथ.

कभी कभी मुझे गजला को बहाना करना पड़ता हे कि मैं बीमार हूं. आज नहीं आऊंगा असरा के लिए.

मुझे उम्मीद है आपको मेरी स्टोरी पसंद आई होगी.

Share this Story:
loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age