दोस्त की बीवी ने फौलादी लंड लिया

फ्रेंड्स मेरा नाम लवेश प्रजापति हे और मैं गुजरात के वापी का रहनेवाला हूँ. हमारा एरिया इंडस्ट्रियल बेल्ट हे और इस केमिकल की स्मेल दिनभर रहती हे हमारे यहाँ! वैसे मैं खुद भी ऐसी ही एक केमिकल की फेक्ट्री में काम करता हूँ. और शाम को थकान को दूर करने के लिए सेक्स की कहानियां पढ़ के अपने मन को बहलाता हूँ. वैसे मैं जब कहानियों को पढ़ के अपनी छाती और लंड के ऊपर हाथ फेरता था तो मुझे ये सब जूठ ही लगता था. मुझे ऐसा था की बस कुछ भी लिख देते हे लंड खड़ा करने के लिए. पर जब एक सच्चा सेक्स अनुभव मेरे अपने साथ में हुआ तो मुझे लगा की नहीं ये सब सच में भी होता तो होगा!

जो बात आज मैं आप को बताने के लिए आया हु वो मेरा पहला सेक्स अनुभव हे. मैं 22 बरस का हूँ और मेरा लंड गधे के जैसा मोटा हे. पहले तो मुझे लगता था की सब के लंड इतने ही होते हे. क्यूंकि मैं पोर्न देखता था तो उसमे भी इतने ही लंड होते हे सब के ऑलमोस्ट. लेकिन फिर मुझे पता चला की जो मेरे पास हे उसके लिए बहुत सब लोग प्रार्थना करते हे और सपने देखते हे. मेरा लोडा सामान्य से कई बड़ा हे!

शरुआत में मुझे सेक्स के अन्दर उतनी दिलचस्पी नहीं थी. फिर मेरे दोस्तों के साथ बैठ के मैं पोर्न फिल्म्स देखने लगा तो मेरी भी मर्जी और कोशिश रही की किसी की चूत मुझे भी मिले जिसे मैं अपने मोटे और लम्बे लंड से चोदुं! पर मुझे कोई मिल नहीं रहा था.

मेरा एक फ्रेंड हे जिसके घर पर मैं टीवी के ऊपर मेच देखने के लिए जाता था. मेरे इस दोस्त की शादी कुछ समय पहले ही हुई थी. और उसकी बीवी बड़ा ही सेक्सी माल थी. वो दिखने में कोई बोलीवुड की हीरोइन के जैसी लगती थी. स्टार्टिंग में मैं अपने दोस्त की वाइफ से कम ही बात करता था. लेकिन फिर मेरी और भाभी की बात चालु हो गई. और कुछ दिनों के अन्दर मैं और भाभी एकदम घुल मिल गए एक दुसरे के साथ.

मेरा दोस्त नहीं होता था तब भी मैं भाभी से मिलने जाने लगा था. जब वो नाईट शिफ्ट में होता था तो मैं अक्सर 11-11:30 बजे तक उसके घर में बैठ के मूवी देखता था भाभी के साथ. और जब टीवी के ऊपर रोमांस के सिन आते थे तो मेरा लोडा मचल उठता था. फिर भाभी और मेरी चेटिंग भी होने लगी मोबाइल के ऊपर. भाभी को पहले नोर्मल शायरी जैसे भेजता था. और फिर एक दिन हिम्मत कर के मैंने भाभी को एक रोमांस से भरा हुआ मेसेज भेजा. भाभी ने भी सामने ऐसा ही रोमांटिक मेसेज मुझे भेजा. और फिर हम दोनों के बिच में डेली ऐसी बातें होने लगी.

एक दिन मैं और भाभी टीवी देख रहे थे. तो मैंने भाभी का हाथ पकड़ के उस से पूछ लिया भाभी मैं आप को बहुत पसंद करता हूँ, क्या आप भी मुझे लाइक करती हे?

वो हंस पड़ी और बोली, मैं तो कब से तुम्हारी ही राह देख रही थी ये कहने के लिए!

भाभी ने मुझे अपनी बाहों में ले लिया और उसके सॉफ्ट बूब्स ब्लाउज के ऊपर से भी चिभने लगे थे मुझे. उसकी निपल्स अकड चुकी थी और मेरा लंड फौलादी हो गया था. तभी उसके पति के कदमो की आहट हुई और हम दोनों अलग अलग हो के बैठ गए. साला चांस हाथ से निकल गया.

लेकिन उस दिन के बाद से मैं मौका देख के भाभी के घर जाने लगा. और भाभी के साथ अब टच सेक्स और चुम्मा चाटी चालु हो गई थी. और फिर एक दिन मुझे भाभी के साथ पुरे खुलने का मौका भी मिल गया. उसका पति नाईट शिफ्ट में था. मैंने भाभी को अपनी बाहों में भर लिया और उसके मम्मे दबाने लगा. भाभी भी मेरा फुल सपोर्ट कर रही थी और मुझे चूम रही थी. मैंने मम्मे मसलते हुए उसके ब्लाउज के बटन को खोल दिया और उसका चौड़ा और गोरा सीना देख के मेरे लंड में तूफ़ान आ चूका था. मैंने ब्लाउज के बाद भाभी की ब्रा भी हुक्स को खोल के साइड में फेंक दी.

भाभी के मस्ताने मम्मे उछल के बहार निकल गए ब्रा के हटने से. और मैं इन दूध से भरपूर भरे हुए मम्मों को अपने हाथ से मसलते हुए उन्के ऊपर किस करने लगा. मम्मे मसल मसल के मैं निपल्स को लिक करता था और मम्मो को सतह को भी चाट रहा था. भाभी मस्तिया गई थी और वो भी अह्ह्ह अह्ह्ह ओह ओह कर रही थी.

मम्मे चूसते हुए मैंने भाभी की साडी को भी हटा दी उसके बदन से. भाभी के सेक्सी बदन अब सिर्फ चूत को छिपा रहा था एक पेंटी के सहारे पर. मैंने पेंटी के ऊपर से भाभी की चूत को टच किया और उसकी गर्मी मुझे फिल हो गई. पेंटी को हाथ लगा के मैं ये भी जान गया था की भाभी की चूत में से पानी बहार आने लगा था. मैंने ऊँगली पेंटी की साइड में डाली और पेंटी को निचे सरकाई. भाभी ने अपने चूतड़ उठाये ताकि मैं पेंटी को निकाल सकूँ. भाभी की चूत के अन्दर मैं मुहं लगा के चाटने लगा.

भाभी के मुहं से मादक सिस्कारियां निकल रही थी. वो मजे से गांड को हिला के अपनी चूत को मेरे मुहं पर रगड़ रही थी और उसने कहा, आप के दोस्त ने भी ऐसे तो कभी खुश नहीं किया हे मुझे.

मैं भी अपनी लाइफ में पहली बार ही किसी की चूत को चाट रहा था. पर पोर्न देख देख के बहुत कुछ सिखा था जो आज भाभी की चूत को चाट के मैं प्रेक्टिकली कर रहा था. मेरा फौलादी लंड एकदम से कडक हो गया था.

भाभी ने अब मुझे भी पूरा नंगा कर दिया और उसकी नजर मेरे लंड के ऊपर पड़ी तो उसका हाथ उसके मुहं पर आ गया और वो बोली, अरे बाप रे ये कितना बड़ा हे! आज तो फाड़ डालोगे तुम मेरी मुनिया को.

मैंने कहा, सच में बड़ा हे भाभी मेरा?

वो बोली, अरे इतना तो गधे का होता हे और घोड़े का. इंसान के इतने बड़े हो उनकी बीवी की चूत सूजी हुई रहती हे!

और फिर भाभी ने मेरे लोडे को अपने हाथ में ले लिया. मेरा लंड भाभी के हाथ में झटके मार रहा था और एकदम फौलाद के जैसा सख्त हो गया था वो. भाभी मेरे बड़े लोडे को हिला के उसे और प्यासा कर रही थी. तभी मैंने भाभी के निपल्स को अपने दांतों के तले दबा के काट लिया. भाभी के मुहं से दर्द भरी चीख निकल गई और वो बोली, अब मेरे से बर्दाश्त नहीं होता हे लवेश जल्दी से अपने लवडे को मेरी चूत में डाल दो ना.

मैंने भाभी की टांगो को खोला और अपने लंड को सही जगह पर लगा दिया. भाभी ने मेरे लंड को साइड से पकड़ा हुआ था. जैसे ही एक धक्का दिया भाभी की फांक में मेरा आधा लंड घुस पड़ा. उसके मुहं के ऊपर दर्द ही दर्द था और वो चीखने लगी. मैंने उसके दर्द के ऊपर ध्यान नहीं दिया और उसके मम्मे पकड के एक कस के धक्का और दे दिया. भाभी की दरार में मेरा पूरा लंड छिप गया और लंड के सब तरफ चिपचिपाहट थी! भाभी दर्द से तिलमिला रही थी. अब मैं अपनी कमर को हिला के भाभी को धक्के दे रहा था और मेरा लंड उसकी चूत में अन्दर बाहर करने लगा था मैं. भाभी के साथ साथ मुझे भी पसीना आने लगा था.

मैं उसके दोनों बूब्स को पकड के मसल रहा था और उसकी चूत को चोद रहा था.

मेरे लंड का धक्का जब अंदर को होता था तो भाभी आह्ह कर लेती थी और उसका पेट हिल जाता था. फिर मैं लंड निकालता था बहार की तरफ तो वो सांस लेती थी. मेरी इस बेबाक चुदाई की वजह से वो दो बार अपनी चूत का पानी मेरे लंड पर ही छोड़ चुकी थी. लेकिन मेरा अभी नहीं निकला था. मैंने अपनी चोदने की स्पीड को एकदम से तेज कर दिया और जोर जोर से अपनी इस सेक्सी भाभी को चोदने लगा.

अब मेरे बदन में भी करंट दौड़ गया. मेरे शरीर का सब खून जैसे लंड की तरफ बह रहा था. मैं जान गया की मेरा वीर्य छूटने को था. मैंने भाभी से कहा, भाभी कहा निकालना हे?

वो बोली, डार्लिंग अपने लवडे के पानी को मेरी चूत में ही छोड़ डालो.

मैंने कस कस के धक्के मारे और मम्मे चूसते हुए अपने पानी की एक एक बूंद को भाभी की चूत में छोड़ दी. वो सिहर उठी और मुझे कस के अपनी बाहों में भर लिया उसने. हम दोनों हांफ रहे थे और उसने मुझे मस्तक के ऊपर किस दे के कहा, बहुत दिनों के बाद किसी के फौलादी लंड से चुदी हूँ मैं!

मैंने भाभी को किस किया और उसके मम्मे चुसे. फिर हम दोनों अपने बदन को साफ़ करने के लिए बाथरूम में चले गए! बाथरूम में भाभी ने साबुन लगा के मेरे लंड का हस्तमैथुन किया और वहां पर भी बहुत सब वीर्य निकाला मेरा.

फिर मैं अपने घर आ रहा था तो वो बोली, अब तो मैं रेग्युलर इस लंड से चुदुंगी.

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age