डोली भाभी ने चुदाई का खूब मजा दिया

हेल्लो दोस्तों हिंदीपोर्नस्टोरीज डॉट कॉम के ऊपर मैं काफी समय से स्टोरी पढ़ रहा हूँ. और बहुत सारे लोगो की स्टोरी पढ़ के मैंने सोचा की मैं खुद भी अपनी एक स्टोरी लिख के इस साईट को भेजू. आज की ये कहानी मेरी और डोली भाभी की है. इस कहानी में आप पढेंगे की कैसे मैंने डोली भाभी का ब्लाउज खोला और उसकी चुदाई की. पहली बार ही लिखने का प्रयास किया है और आशा है की अगर कोई गलती हुई होगी तो आप लोग माफ़ कर देंगे!

वैसे मेरा नाम श्याम है और मैं आगरा का रहनेवाला हूँ. घर एक मिडल क्लास के जैसा ही है. मैं 6 फिट लम्बा हुआ और बॉडी उम्र के हिसाब से एकदम फिट कह सकते है आप. दोस्तों ये बात दिसम्बर 2016 की है जब मेरी विंटर वेकेशन थी. मेरे मम्मी पापा हफ्ते भर के लिए दिल्ली जाना था किसी रिश्तेदार के वहां. लेकिन मैं उनके साथ नहीं जाना चाहता था क्यूंकि मेरे को ये सब में अपने विंटर वेकेशन को खराब नहीं करना था. माँ बड़ी जिद्द कर रही थी. और उनका कहना था की अगर मैं उनके साथ नहीं गया तो खाऊंगा कहा पर. मैंने उन्हें कहा की मैं बहार खा लूँगा तो वो बोली और फिर बीमार होगा तो! तो मेरी माँ ने फिर मेरे एक रिश्तेदार भैया और भाभी को बोला की तुम लोग इसके पास रहना प्लीज़. भैया ने कहा अरे मैं भी आउट ऑफ़ आगरा ही जा रहा हूँ और डोली अकेली ही है. तो माँ ने कहा फिर डोली बिटिया को हमारे घर ही रहने को बोल दो. और इस तरह से डोली भाभी अकेली ही हमारे घर पर रुकने के लिए आ गई.

चलिए अब मैं आप का इंट्रो मेरी कहानी की ऐक्ट्रेस डोली भाभी से करवा दूँ. नाम तो बता दिया मैंने. डोली भाभी की उम्र 28 साल के आस्पा की है और वो एकदम साफ़ रंग की यानी की गोरी है. और भाभी का फिगर 36 30 38 का है. डोली भाभी बड़ी ही हॉट लगती है और मोस्ट ऑफ़ तो वो बेकलेस साडी पहनती है. और बेकलेस कपड़ो में उसके बदन का नजारा और भी सेक्सी हो जाता है. भाभी साड़ी को बेली बटन के निचे बांधती है और उसका बेली बटन एकदम डीप और मोहक है. डोली भाभी को भैया मेरे घर छोड़ के गए. और भाभी ने मेरे को मेरे माँ डेड के बारे में पूछा तो मैंने कहा की आप से मोबाइल पर बात कर के मम्मी और पापा तो निकल गए उनकी मोर्निंग की ही ट्रे थी. फिर मैं और डोली भाभी बातें करने लगे. भाभी बोर हो रही थी तो हम दोनों ने फिल्म देखने का प्लान बनाया.

मैं डोली भाभी को ले के घर के सब से नजदीक के मल्टीप्लेक्स पर चला गया. और मूवी के बाद हम लोग निकले तो ऑलमोस्ट रात ही हो चुकी थी. हम लोगो ने बहार ही एक चाइनीज़ रेस्टोरेंट में डिनर किया और घर वापस आ गए. घर पर हम दोनों ने फिल्म के बारे में बातें चालू की.. और मैंने बोला की भाभी मैं अपने में सो जाऊँगा और आप दुसरे बेडरूम में सो जाना. तो डोली भाभी बोली अरे भाई दुसरे बेडरूम में क्यूँ? तुम मेरे साथ ही सो जाना, किसी को बताना मत लेकिन मेरे को रात को अकेले सोने में आज भी डर लगता है. hindipornstories.com

और ये सुनने के बाद मैं बहोत खुश हो गया और ये सोच लिया की आज रात को डोली भाभी के साथ कुछ हो सकता है. थोड़ी देर बाद भाभी बाथरूम में चली गई नहाने के लिए और बाथरूम से नाहा के जब वो बहार आई तो मैं उसे देखता ही रह गया. उसके मादक बदन के ऊपर सिर्फ एक तोवेल था और वो तोवेल पहन के ही बेडरूम में कपडे बदलने के लिए चली गई! बाप रे तोवेल में उनकी गांड कितनी भारी और मस्त लग रही थी, वाऊ!

डोली भाभी चेंज करने के बाद बहार आ गई. और वो क्या मस्त माल लग रही थी. उसने उस वक्त एक बेकलेस साडी पहन रखी थी जो रेड कलर की थी. और उसने लाल रंग की ही लिपस्टिक भी लगा ली थी. उन्होंने मेरे को बोला की उसे साडी पहनना बहुत पसंद है और वो रात में भी साडी ही पहनती है. और फिर वो मेरे को बोली चलो हम सो जाते है.

मैंने कहा, ओके भाभी चलो.

कमरे के अंदर जाने के बाद मैंने सब लाईट ऑफ़ कर दी और बेड के ऊपर लेट गया. तभी डोली भाभी ने मेरे को बोला की मेरी पीठ में दर्द हो रहा है. और उसने कहा की लाईट ओन कर के प्लीज मेरी पीठ दबा दो ना. तो मैंने लाईट चालू कर दी और देखा तो वो बेड के ऊपर अपने पेट के बल लेटी हुई थी.  मैंने अपने हाथ को भाभी की पीठ के ऊपर रख के उसे मसाज देना चालू कर दिया. और मन ही मन में मैं सोच रहा था की क्या किया जाए! मैं भाभी की पूरी पीठ के ऊपर हाथ को घुमा रहा था और वो बोली अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह! उसके मुहं से कराहने की ये आवाजें सुनके मेरे बदन में करंट दौड़ रहा था और मेरे को ठरक चढ़ रही थी!

भाभी ने बोला, श्याम एक काम करो मेरा ब्लाउज खोल दो ताकि तुम्हे पीठ की मालिश करने में मुश्किल ना हो.

मैंने कहा ठीक है भाभी.

जब मैं ब्लाउज को खोलने लगा तो मैंने देखा की उसके फीते एकदम टाईट बांधे गए थे. मैंने भाभी को बताया की फीते बहुत टाईट थे और मेरे से खुल नहीं रहे थे. तो भाभी ने बोला एक बार और ट्राय करो.

मेरे बहुत ट्राय करने पर भी वो गाँठ खुली ही नहीं मेरे सो. तो मैंने अपने दांतों से खोलने का ट्राय किया. और तब जा के मेरे से ब्लाउज खुला. और फिर मैं ब्लाउज को हटा के भाभी की पीठ को दबाने लगा.

भाभी: अह्ह्ह्ह अह्ह्ह श्याम ऐसे करते हो तो बड़ा अच्छा लग रहा है, थोडा और निचे भी दबा दो प्लीज़!

जैसे ही मैंने निचे दबाना चालू किया तो भाभी मेरी तरफ मूड गई और फिर मुझे अपनी बाहों में भर लिया और एकदम पागल के जैसे मेरे को किस करने लगी. मैंने कहा डोली भाभी ये क्या कर रही हो आप मेरे साथ?

भाभी ने कहा अब तुम इतने छोटे बच्चे भी नहीं हो की तुम्हे ये बताना पड़े की मैं क्या कर रही हूँ. मुझे और मत तडपाओ श्याम. और मेरे को दिखाओ की तुम्हारें अंदर भी एक जानवर है. आ जाओ श्याम ऐसे मौके बार बार नहीं मिलेंगे, आज मेरी प्यासी जवानी का मजा लुट के खुद भी मेरी चूत में लंड को गोते लगवा दो! और वो ये कहते हुए मेरे को कभी इधर तो कभी उधर किस कर रही थी.

ये सब सुनने के बाद अब मैं कैसे रुक सकता था! और फिर मैंने भी भाभी को उसके बदन पर सब जगह किस करना चालू कर दिया. और फिर भाभी मेरे मुहं को अपने हाथ में ले के मेरे को लिप किस देने लगी. मुझे मुहं में उसकी लिपस्टिक का सवाद भी आया रहा था. करीब 10-12 मिनिट तक हम दोनों ऐसे ही एक दुसरे को होंठो पर चूमते रहे. hindipornstories.com

उसके बाद मैं किचन में गया और फ्रिज से चोकोलेट और चोकोलेट का सिरप ले के आ गया. मैंने चोकोलेट को अपने मुहं में ले ली. और वो चोकोलेट के दुसरे सिरे को भाभी के मुहं में रख दिया. वो भी चोकोलेट खा रही थी और मैं भी. और कुछ ही देर में हम दोनों के होंठ मिल गए और फिर हम स्मूच करने लगे औए वो मेरी पहली ही चोकोलेट किस थी!

किस करते वक्त उस चोकोलेट का सवाद भी कुछ ज्यादा ही हो गया था. और किस का मजा भी डबल हो चुका था. फिर मैंने डोली भाभी के बाकी के कपडे फाड़ दिए. उसने मस्त ब्रा पेंटी पहनी हुई थी अंदर. एक तो वो उतनी गोरी और ऊपर से ब्लेक कलर की ब्रा में उसके बड़े बड़े बूब्स! मैंने भाभी की ब्रा को भी उतार दिया. और उस बड़े बूब्स के ऊपर चोकोलेट सिपर को लपेड दिया. और फिर दोनों बूब्स को मैं जोर जोर से चूसने लगा. क्या बताऊ कितना मज़ा आ रहा था. मैं दोनों बूब्स को ऊपर से निचे तक चूसने लगा था और भाभी के मुहं से अहह अह्ह्ह और जोर से अह्ह्ह अह्ह्ह  याह निकल रहा था.

और भाभी के मुहं से ये सिसकियाँ सुन के मैं उनके बूब्स को काटने भी लगा और उसके बाद वो मेरे सामने एकदम न्यूड हो गइ. उसके बाद उन्होंने मेरे लंड को पकड के हिलाया और बोली आज मैं इस से खुश हो जाना चाहती हूँ मेरी जान!और ये कह के वो मेरे कपडे अपने हाथ से उतारने लगे. भाभी ने मेरी चेस्ट देखी जो उसे बड़ी पसंद आई. वो अपनी जबान से मेरी चेस्ट को लिक करने लगी और फिर फिर उन्होंने मेरा अंडरवियर भी उतार दिया.

अब हम दोनों पुरे के पुरे नंगे थे. वो मुझे फ्रेच किस कर रही थी. और करीब 8-10 मिनिट के बाद मैंने उन्हें लिटाया और फिर उनकी चूत में ऊँगली डाल के फिंगर करने लगा. और फिर मैंने अपनी जबान को डोली भाभी की रसीली चूत में डाल के चाटना चालू कर दिया जोर जोर से. डोली भाभी की तडप और भी बढ़ गई थी और वो मचल रही थी और उसके मुहं से एकदम अजीब सी आवाजें भी आ रही थी.

डोली भाभी फिर बोली अह्ह्ह श्याम आह्ह क्या मजा आ रहा है ओह्ह्ह अह्ह्ह्ह, यस कम ओन फक मी नाऊ, अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह या! अह्ह्ह!

और फिर डोली भाभी मेरे ऊपर चढ़ गई और मेरे नेक के ऊपर किस करने लगी. और फिर वो मेरे बाकी के बदन को भी जोर जोर से लिक करने लगी. भाभी ने कहा श्याम आई कांट कंट्रोल नाऊ, जल्दी करो अपने लंड को मेरी चूत में डाल दो प्लीज़, आई एम बेगिंग टू यु!

और फिर वो मेरे लंड को एक हाथ में ले के उसके ऊपर बैठ गई. लंड मैंने उसकी चूत में डाल दिया था. वो ऊपर निचे हो रही थी और जोर जोर से सिसकियाँ रही थी. उसकी चिकनी चूत में मेरा लंड घिस रहा था और वो बड़े गोर बूब्स को हिला हिला के लंड के मजे लूट रही थी. वो जोर से उछलने लगी और अब वो मेरे को उकसा रही थी और भी जोर जोर से उसकी चूत की चुदाई करने के लिए. hindipornstories.com

और फिर मेरा भी मन अब हार्ड फकिंग के लिए बन गया था. इसलिए मैंने भाभी की गांड को दोनों हाथ से पकड़ा और निचे से उसे झटके देने लगा. उसके बूब्स मेरे मुहं के सामने ही थे जिसे मैंने चुसना चालू कर दिया था. और झटके की गति को एकदम फास्ट कर दिया था. और भाभी बोली अह्ह्ह्ह अह्ह्ह श्याम मैं झड़नेवाली हूँ!  hindipornstories.com

मैंने कहा चलो साथ में ही झड़ते है!

और फिर मैं और भाभी एक साथ ही झड़ गए!

भाभी ने लंड चूत से निकलवा लिया और वो एक कपडा ले के आई जिस से उसने मेरे लंड को और अपनी चूत को साफ़ किया. फिर हम दोनों ने एक दुसरे को हग किया और रजाई बदन के ऊपर ढंक ली. डोली भाभी के साथ मेरे सेक्स की सफर की ये बस पहली ही सीडी थी!