गाँव की भाभी को चोदा

हेलो दोस्तों, मैं मयंक झारखंड से हु. मैं ११ वीं क्लास में पढ़ता हूं और यह मेरी पहली देसी सेक्स कहानी है जो मेरा रियल लाइफ एक्सपीरियंस पर आधारित है. मेरी हाइट ५ फुट ७ इंच है और मेरे लंड की साइज ६.५ इंच हे.

पर क्यों कि मैं एक फॉरेंसिक सेक्सुअलिस्ट का स्टूडेंट हूं तो उनके मुताबिक आदमी की परफॉर्मेंस उस के बेट साइज़ से नहीं बल्कि उस के शॉट खेलने के तरीके से पता चलता है, अब मैं सीधी अपनी कहानी पर आता हूं.

यह कहानी उस वक्त की है जब मैं अपने गांव पर गया था. मेरे गांव पर मैं अपने समर वेकेशन में गया था.

मेरे गांव पर मेरे बड़े पापा और बड़ी मम्मी और उन का बेटा और बहू रहते थे, क्योंकि मैं सच में गोरा हेंडसम और मस्कुलर बॉडी का हूं मेरे पूरे घर में सब मुझे पसंद करते हैं.

मेरी भाभी मेरे साथ है ऐसे ही मजाक करती रहती थी. एक दिन बाद भाभी ने मुझे मजाक में पूछा कि मेरी कोई गर्लफ्रेंड है कि नहीं? मैंने शरमाते हुए नहीं बोला. मेरी भाभी एकदम शोक्ड हो कर बोली की आप की अब तक कोई गर्लफ्रेंड नहीं है, तो मैंने कहा नहीं है. उसके बाद वह दिन ऐसे ही बीता.

अगले दिन जब मैं उठा तो घर पर भाभी और बड़ी मम्मी के अलावा कोई नहीं था.

फिर थोड़ी देर बाद बड़ी मम्मी भी गाव के मंदिर चली गई. अब मैं और भाभी घर पर बिल्कुल अकेले थे. थोड़ी देर बाद भाभी ने मुझे नहाने को कहा तो मैं तैयार होकर नीचे खाना खाने गया.

भाभी को उस वक़्त देखते ही मेरे होश उड़ गए भाभी ने ब्लैक कलर की सलवार सूट पहन रखा था जिसमें वह हुस्न की परी लग रही थी. मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया था और पेंट पूरा टाइट हो गया. उस के बाद हम खाना खाने साथ में बैठे और बातें करने लगी

बात बात में वह मुझे पोर्न के बारे में पूछने लगी मैंने पूछा कि तुम पोर्न के बारे में कुछ जानते हो? मैंने घबराहट में नहीं बोल दिया, वह हंसने लगी. फिर खाना खाकर मैं टीवी देखने चला गया. अब भी मेरे दिमाग में भाभी की पोर्न वाली बात चल रही थी. मैंने अपने मन में ही उन को चोदने के बारे में सोचने लगा.

फिर थोड़ी देर बाद बाकी रूम में आकर मेरे साथ बैठ गई, मैं बहुत खुश हो गया और फिर हम साथ में टीवी देखने लगे. मेरे दिमाग में उनको चोदने का पूरा प्लान तैयार हो गया था. थोड़ी देर बाद मैंने जान बूझकर एक अडल्ट पोर्न फिल्म की सीडी चला दी. भाभी बिना कुछ बोले वह भी गौर से देखने लगी और मैं उनको नोटिस करने लगा.

थोड़ी देर बाद मैंने देखा कि वह थोड़ी मचल रही है और तेज सांसे ले रही है. मैं समझ गया कि मेरी किस्मत खुल गई. फिर मैंने बहुत हिम्मत जुटा कर उन से पूछ लिया भाभी आप की चुत गीली हो गई क्या? भाभी शर्मा कर और डर कर दूसरे रूम में चली गई.

पर मैं इंतजार किए बिना उन के रूम में चला गया. मैंने तुरंत उन्हें पीछे से पकड़ लिया वह अपने आप को बचाने की कोशिश कर रही थी पर छुट नहीं पा रही थी. आखिर कार वह भी हमसे चुदना चाहती थी, इसलिए ज्यादा नखरा नहीं किया.

मैंने उन्हें बेड पर लेटा दिया और उन के ऊपर चढ़ गया. अब मुझे सारे ब्लू फिल्म याद आने लगे थे, मैं उन्हें एक प्रोफेशनल की तरह चोदने की सोच लिया.

मैंने उन की साड़ी के ऊपर से ही उन की वेजीना में उंगली करने लगा. वह पागलों की तरह मोनिंग करने लगी, प्लीज गिव मी प्लेजर प्लीज मेरी प्यास बुझा दो प्लीज.

मैं उनकी यह बात सुनकर और भी हॉट होने लगा क्योंकि यह मेरा पहला सेक्स था इसलिए मुझे इंतजार नहीं हो रहा था. इसलिए मैंने तुरंत उन को न्यूड कर दिया और फिर मैंने उन को आधे घंटे तक फोरप्ले किया.

इसमें मैं उन्हें पूरा स्मूच कर रहा था, उनके निप्पल दबा रहा था और काट रहा था. वह मछली की तरह तड़प रही थी और सिसकारियां ले रही थी. फिर मैंने उन्हें उल्टा लेटा दिया और उनके गांड में लंड डालने लगा. पहले तो वह मुझ पर चिल्ला रही थी पर बाद में पूरे मजे ले कर चुद रही थी.

उसके बाद अब बारी थी हार्डकोर की हमने डेढ़ घंटे सेक्स किया.

इस बीच में उन्हें अलग अलग पोजीशन में चोदा जैसे 69 पोजीशन मैं, डॉगी स्टाइल में, स्पेनिश स्टाइल में. उन्होंने मुझे सेक्स करते करते बताया कि भैया उन को कभी सेक्स नहीं देते हैं इसलिए उन का चूत एक वर्जिन लड़की जैसा था.

रात के ३:३० बजे हम दोनों पूरी तरह से थक चुके थे और हम वैसे सोए रहे. सुबह में उठा तो मे नंगा ही भाभी के पास किचन में गया तो देखा कि भाभी भी किचन में नंगी हो कर खाना बना रही थी.

मैं पीछे से उन के बूब्स को जोर जोर से दबाने लगा और उन्हें फ्रेंच किस करने लगा. फिर मैंने भाभी को अपना लंड चूसने को कहा तो वह मना करने लगी. पर मैंने दबाव डालने पर वह मान गई और एकदम प्रोफेशनल की तरह मेरा लंड चूसने लगी. सच बताऊ दोस्तों यह मेरे लिए जन्नत जैसा था, क्योंकि आज से पहले मैंने सिर्फ ब्लू फिल्म में यह सब देखता था और आज प्रेक्टिकल भी कर लिया. फिर हम दोनों साथ में नहाए और खाना खाने बैठ गये.

5 Replies to “गाँव की भाभी को चोदा”

Comments are closed.