दोस्त की माँ की खुजली दूर की

loading...

मेरा यह एक दोस्त बना जिसका नाम प्रणव हे और वो मेरे घर के पास रहता है.  हम एक ही कंपनी में काम करते हैं. उसके डेड बचपन में ही मर गए थे, वह मेरा बेस्ट फ्रेंड बन गया था. यह स्टोरी मेरी और मेरे दोस्त की मां की है. हम ड्रिंक स्मोक करते घूमते यहां वहां लेकिन कुछ दिनों के बाद मुझे उसका बिहेवियर चेंज होता दिख रहा था.

एक दिन जब मैं उसके घर आया तब उसकी मां को देखा, वह तो पूरी मस्त दिख रही थी. सावला रंग यह भरे भरे बूब्स मस्त गांड थी. उस दिन के बाद में रोज वहां जाने लगा, उसी टाइम मुझे यह पता लगा कि मेरा फ्रेंड प्रणव एक गे है, तो एक दिन जब हम ड्रिंक कर रहे थे तब मैंने ही पूछा कि यह सच है क्या? तो उसने हां बताया फिर वह मुझे सिड्यूस करने लगा.

loading...

लेकिन मुझे कोई गे सेक्स में इंटरेस्ट नहीं था, तो मैंने उसे मना कर दिया. पर तभी मेरे दिमाग में प्लान आया और मैंने ऐसे ही बोला कि मुझे आंटी के साथ सेक्स करना है क्या तुम मेरी हेल्प कर सकता है? तो मैं सोचूंगा तेरे साथ क्या करना है. वह मुझे बहुत अपना मानता था तो उसने भी सच बोल दिया कि उसकी मां तो एक नंबर की रंडी है. कितने लोगों से चुदाती है और तो और उसने मुझ पर भी ट्राई (प्रणव पर) किया था, लेकिन वह गे होने से वह कुछ नहीं कर सकता. फिर क्या मुझे तो पूरा ग्रीन सिग्नल मिल गया.

loading...

वह बोला कि २ दिन बाद छुट्टी को हम सब फ्री होंगे मैं बाहर अंकल के पास जा रहा हूं. तब तू घर चला जा फिर आगे का तू जानता है. उसे सिड्यूस करना फिर मैंने कहा ठीक है. होलीडे पर मैं मॉर्निंग को गया उसके घर पर तब प्रणव नहीं था और आंटी घर का काम कर रही थी और तब उसके बाथ भी नहीं लिया था. जैसे ही मैं अंदर गया वह हंस कर बोली की राजकुमार कैसे याद आई हमारी?

मैंने भी बोला आप की याद नहीं आती, क्योंकि मैं आपको भूलता ही नहीं, वह हंसकर इधर उधर की बातें करने लगी. मैंने भी बोल दिया मुझे घर जाकर खाना पकाना है, मां बाहर गई है. तो वह बोली क्यों जा रहा है? यहीं पर खा ले मैं बनाती हूं ना, मस्त पार्टी करेंगे. प्रणब भी नहीं है मैं बोर हो जाऊंगी.

मैं भी तो यही चाहता था. फिर मैं उनकी किचन में हेल्प करने लगा. वह बाथ नहीं की थी, तो सेक्सी लग रही थी, बाल बिखरे थे. वह नाइटी में थी. हम साथ में किचन में काम कर रहे थे तो उसकी गांड में यहां वहां बार बार टच हो रहा था. तो वह हंसती और उनका बूब्स जो बाहर आया था मैं उसे देख रहा था. तभी उन्होंने मुझे देख लिया और बोली के क्या हुआ, क्या देख रहा है?

मैंने बोला कुछ नहीं. तो बोली शर्माता क्यों है? बोल ना. समुंदर के पास खड़ा रह कर पानी को नहीं देखता तो क्या करेगा. तो मैं बोला इस पंछी को तो कब से प्यास लगी है और आप है कि पानी नहीं पिला रही. तो बोलि सब पानी आपका है, चाहिए उतना पी लो. देर ना करते हुए उसको पास खींच लिया और किस किया. तो उसने भी मुझे टाइट हग किया, मैं एक हाथ उसकी गांड फेर रहा था, उसने कहा पहले खाना बना लेते हैं फिर रह जाता हे.

फिर वह काम करने लगी में पीछे से चालू हो गया, उसके दूध को जोर जोर से दबाने लगा. उसकी नाइटी के अंदर हाथ डालकर चूत पड़ रगड़ने लगा, वह सिसकिया रही थी फिर खाना बनाने के बाद मुझे बोली, चल बाथरूम में जाते हे. वहा पर जाते ही उसने नाइटी उतार दी, वह सिर्फ पैंटी में थी. वह मेरे भी कपड़े उतारने लगी और मेरे सारे कपड़े उतार दिए. फिर सीधा घुटने पर बैठकर लंड को सहला कर ब्लोजोब  देने लगी, उसके होंठो को टच होते ही क्या फीलिंग आय क्या बताऊं??

वह जोर जोर से लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी. फिर कुछ मिनट चूसने के बाद मेरा सारा पानी निकाल दिया. मैं उसके मुंह पर छोड़ दिया सारा पानी, क्या मस्त लग रही थी. वह अपनी उंगलियों को चाट रही थी. फिर उठकर शोवर चालू किया, हम दोनों भीग गए, फिर हमने रोमांस स्टार्ट किया. वह साली रंडी की तरह किस कीए जा रही थी. वह अपनी जीभ से मेरे पूरे बदन को किस कर रही थी.

फिर मैंने उसकी पैंटी उतार दि और उसका लेग बेसिन पर रखकर चूत को नीचे बैठकर लिक करने लगा. वह आह उऔउ ईई आवाज निकालने लगी. मैं चॉकलेट की तरह उसे लिक कर रहा था वहा अहह ईई ई ओह्ह हहह ऐसी आहें भरने लगी. फिर मैंने फिंगर घुसा दिया और साथ में लिक किया, तो वह तड़पने लगी. मैं जोर जोर से करने लगा तो वह थोड़ी देर में जड गई. फिर उसने फिर से मेरा लंड  मुह में लिया और ५ मिनट में मैंने अब देर ना करते हुए उसका पैर फैला कर उसे पोजीशन में चोदना चालू किया. लंड अंदर जाते ही वह मस्त हो गई और एंजॉय करने लगी. गालियां देने लेगी फक मी ह्ह्ह औउ आयी औउ और जोर से चोद साले और उसकी आवाज मस्त जोश दिला रही थी, ऊपर से शोवर का पानी, क्या मजा आ रहा था?

उसे ऐसी ही पोजीशन में १० मिनट तक चोदा, फिर उसे थोडा जूकाया वॉल पर और डॉगी स्टाइल में चोदना शुरू किया, साली आवाज मस्त निकाल रही थी. उसके बूब भी पीछे से पकड़कर और जोर जोर से चोदने लगा, मस्त पच पच की आवाज आ रही थी. फिर मैंने पानी उसकी गांड के ऊपर सब छोड़ दिया फिर वह मेरा लंड मुंह में लेकर चाटने लगी.

फिर वह बाथ करने लगी सोप पूरी बॉडी पर लगाने लगी, मेरे भी बॉडी को लगा रही थी. और मसल रही थी. क्या करूं उसको हाथ लगाते ही फिर मेरा लंड खड़ा होना शुरू हो गया, तो वह मसल रही थी. फिर उसने बाथ होने के बाद फिर ब्लॉजॉब शुरू किया इस बार मैंने शैंपू लिया और उसकी गांड के होल पर लगाया और थोड़ा मेरे लंड पर लगाया. फिर उसे कमोड पर झुकने को बोला तो नहीं.. ना बोल रही थी. गांड में नहीं, मैं कहां सुनने वाला था? जुका के लंड गांड के होल पर घुसाने लगा और थोड़ा अंदर घुसाते ही रोकने लगी.

फिर उसके दोनों हाथ पकड़ कर पीछे से जोर का धक्का दिया तो मस्त चीख निकाली और आहें भरने लगी, गालियां देने लगी. में जोर जोर से गांड मारने लगा उसके हाथ पीछे पकड़ कर, क्या लग रहा था? पच पच आवाज मुझे पागल बना रही थी. फिर हाथ छोड़ कर उसके बाल पकड़ लिए. वह बोली छोड़ कुत्ते लेकिन मुझे मस्त लग रहा था, में बहुत देर तक उसकी गांड मारता रहा. २० मिनट के बाद उसकी गांड में पानी छोड़ दिया, क्या मजे दिए एक दूसरे को वाह लवली.

अब जब टाइम मिलता है उसे हर पोजीशन में कैसे भी चोदता हूं और फ्रेंड को भी पता है यह सब बात.

Share this Story:
loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age