गर्लफ्रेंड के चूत पर वीर्य की बारिश की

गर्लफ्रेंड के चूत पर वीर्य की बारिश की,, हेल्लो दोस्तों मेरा नाम जतिन राठौर है. मै हरियाणा में रहता हूँ. मेरा खुद का बहोत बड़ा बिजनस है. मेरे को बचपन से ही बिज़नस डीलिंग बहोत अच्छे से आती थी. समझ लो ये सब गॉड गिफ्टेड था. मेरे को बचपन में अल्पना नाम की लड़की से सच्चा वाला प्यार हो गया था. उस समय मै 11th में पढ़ रहा था। धीरे धीरे हम लोग अब डिग्री कॉलेज में आ गए. एक दिन मेरा मूड उसे सब कुछ बोलने को करने लगा. मैंने सब कुछ जाकर उसे बोल डाला. यूं समझिये की मैने उसे प्रपोज कर दिया.

मैंने जाकर उससे कहा: मेरे को तेरे से प्यार हो गया है “आई लव यू” मेरे को नहीं पता की उसने मेरे को एक्सेप्ट भी किया या नहीं. मेरे से बिना कुछ बोले ही वो चली गई. दूसरे दिन कॉलेज में उसके देखने का नजरिया बदल गया. मेरे भी मन में उसको चोदने के ख्याल आने लगे. मेरे लंड में भी अब बिजली कड़कने लगती. खड़ा होकर लंड बहोत अकड़ जाता था. उसके बड़े बड़े दूध मुझे अपनी तरफ बहोत तेजी से आकर्षित करते थे. मेरे को अब रहा नहीं जा रहा था. मैंने उसे एक दिन अकेले में मिलने को बुलाया.

मैं: अल्पना मेरे को तेरे से कुछ काम है. तेरे से कुछ बात करनी है. क्या तुम मुझे कॉलेज बंद होने के बाद मिल सकती हो?? अल्पना ने अपना सर हिला कर मेरे से हाँ बोल दिया. कॉलेज के बंद होंने पर मैं उसे पास के एक गली में लेकर गया. हम दोनों बिना कुछ बोले ही चल रहे थे.

अल्पना: क्या बात करनी थी तेरे को??
मैं चुप चाप उसके तरफ देख रहा था. मेरी आंखे सब बयान कर रही थी. मै उसे बड़ी जोशीली नजरो से देख रहा था. वो समझ रही थी मै क्या चाहता हूँ??

मैं: चूत किसको नहीं चाहिए होती है. तुझे कभी लंड खाने का मन नहीं करता क्या??
अल्पना: मेरा भी सेक्स करने का दिल करता है

मै तो उसके जलते हुए हेड लाइट की तरफ देख रहा था. समीज में टाइट टाइट ब्रा बहुत ही अच्छे ढंग से सिकुड़ा हुआ दिख रहा था. वो मुझे देख कर हंसी तो मेरा मन आपे से बाहर होने लगा. मेरे को उसका होंठ चूमने का मन करने लगा. मैंने बिना टाइम पास किये उसके होंठो पर किस कर लिया. वो पहले तो मेरे को गुस्से से घूरने लगी, फिर उसने एक हल्की सी स्माइल दी और चलने लगी चलने लगी.
अल्पना: और कुछ करना है तेरे को??
मै: हाँ!! लेकिन स्ट्रीट पर में नहीं करना!!! कोई कुत्ता नहीं हूँ

अल्पना लव यू बोल के चली गई. रात भर मै सो न सका. उसकी गुलाबी होंठ के बारे में सोच के मेरे को मुठ मार मार कर काम चलाना पड रहा था. मैंने चोदने का पूरा सॉलिड आइडिया निकाला. घर के सारे लोग कही जाने वाले थे. पूरा घर खाली होने वाला था. मै कही भी लिटा उठा झुका कर अल्पना को चोद सकता था. मैंने अल्पना को अपना पूरा प्लान बता दिया। वो भी खुश थी. हर लड़की को जिंदगी में चुदने का भी कुछ हसीं पल चाहिए होता है. वो भी चुदने को तड़प रही थी. शायद अब तक उसने भी कही फायरिंग नहीं की थी. इन्तजार की घडी ख़त्म हुई. वो दिन आ गया. जब मेरे को किसी निशाने पर अपनी फायरिंग करने का मौका मिलने वाला था.

अल्पना कॉलेज में ही बहुत मेक अप करके आयी हुई थी. सारे लड़को का लंड खड़ा करवा दिया. मैं भी अपना लंड जेब में हाथ डालकर सहला रहा था. क्या मस्त माल लग रही थी??? दूध को काट डालने को मन करने लगा. मै बहुत ही ध्यान से उसकी तरफ देख रहा था. कॉलेज बंद होने के बाद मैंने उसे अपने बाइक से घर तक लेकर आया. रास्ते में उसके सॉफ्ट सॉफ्ट दूध को अपनी पीठ पर बहोत ही स्पर्श कराया. मैंने अपने घर में अंदर ले जाकर दरवाजा लॉक कर लिया उसको आँखों के सामने सर से पांव तक देखने लगा. मैंने उसके बैग को उतार कर नीचे रखा और काम पर लग गया. मेरे को बहोत जोश आने लगा. मै कुत्ते की तरह उस पर झपट पड़ा.

कॉलेज के ड्रेस में भी वो बहुत हॉट लग रही थी. मै उसके करीब जाकर चिपक कर किस करने लगा. मेरे को उसे भाभी जैसी वाइफ बना कर चोदने को मन करने लगा. उसको भाभी के रूम में जाकर दुल्हन की तरह सजने को कहा. वो बहोत ही खुश हो रही थी. मै अपने रूम में तेल लगाकर लंड की मालिश कर रहा था. मेरा लंड लगभग 6 इंच का हो गया. वो भी साडी पहन कर मेरे रूम में आ गयी. मेरे तो तोते उड़ गए. क्या मस्त सनी लियॉन की तरह फिगर बनाये खड़ी थी. साडी ब्लाउज में वो एक दम से दुल्हन लग रही थी. आज उसे बिना सुहाग के सुहाग रात मनाने के अवसर मिला हुआ था. उसे देख कर मेरे को रहा नहीं गया.

मै: अल्पना आज मैं तेरे को बहोत ही आनंद दूंगा
अल्पना: करेगा भी कुछ या बोल के ही मेरे को आनंद देगा
मेरे मर्दानिगी को ललकार कर उसने बहोत बड़ी भूल कर दी. मै अपने को कंट्रोल नहीं कर पा रहा था. सुनते ही मैंने उसके बालो को पकड़ कर जोर जोर से किस करने लगा. हिंदी पोर्न स्टोरीज डॉट कॉम मै: तेरे को मेरे मर्दानिगी पर शक हो गया. अभी बताता हूँ मैं क्या क्या कर सकता हूँ.
वो भी कुछ कम नहीं थी. मेरे को उसका भरपूर साथ मिलने लगा. वो भी मेरे होंठ को चूसने लगी. होंठ पर लगे सारे लिपस्टिक और लिप लाइनर की माँ बहन एक कर दी, सब बिखर गयी. मेरे नाक पर वो अपनी गर्म गर्म मदहोश करने वाली सांस छोड़ रही थी. मै भी उसके साँसों को महसूस करके स्पीड बढा रहा था. मैंने उसके साडी को नीचे सरकाते हुए उसके बूब्स पर हाथ रख दिया. मेरा हाथ रखते ही उसके मम्मे दब गए. मुझे बहुत अच्छा लगा.

सॉफ्ट सॉफ्ट दूध को दबाने को बहुत मजा आ रहा था. मैं जल्दी जल्दी दबाने लगा. वो गर्म होने लगी. मेरे को बहुत ही आनंद मिल रहा था. मैंने उसके ब्लाउज को निकाल कर ब्रा में कर दिया. गोरे गोरे दूध को देखकर मेरा लंड अप डाउन होने लगा. उसके दूध को पीने के लिए मैंने उसकी ब्रा को निकाल कर उसे बिस्तर पर लिटा दिया. उसके ऊपर चढ़ कर मैंने भूरे भूरे निप्पलों को अपने मुह में भर लिया. मेरे को उसके दूध के सॉफ्ट सॉफ्ट निप्पल को दबा कर पीने में बहुत मजा आ रहा था. मैं दबा दबा कर पीने में मस्त था. वो “…..ही ही ही……अ अ अ अ .अहह्ह्ह्हह उहह्ह्ह्हह….. उ उ उ…” की आवाज निकाल कर मेरे को दूध से चिपका कर पिला रही थी. वो गर्म होकर चुदने को तड़पने लगी. मैंने उसके कमर को पकड़ कर कस कर दबा दिया. सारे कपडे निकालने लगा. साडी को निकालते ही उसका बदन दिखने लगा.

गोरेपन की तो मिशाल लग रही थी. काले रंग की पेटीकोट में बहुत ही सेक्सी लग रही थी. मैंने नारा खोलकर उसके जिस्म से अलग किया. उसकी चूत का दर्शन अब भी नहीं हुआ. उसने गुलाबी रंग की पैंटी पहन रखी थी. मेरे को उसकी चूत देखने की बहुत इच्छा होने लगी. मैंने जैसे ही उसकी पैंटी निकाली मुझे गुलाबी रंग की चूत दिखने लगी. पैंटी और चूत का बहुत ही अच्छा कॉम्बिनेशन था. पहली बार मैंने चूत का दर्शन किया हुआ था. मेरे ख़ुशी का ठिकाना हो नहीं रहा था. मै तो पहले से ही नंगा था. लंड का सुपारा (टोपा) भी गुलाबी था. मैंने उसे बैठा कर अपना लंड चूसने को कहा. वो मेरा लंड बिना किसी झिझक के अपने मुलायम हाथो से पकड़ कर सहलाने लगी.

अल्पना: ओ माई गॉड कितना गर्म है ये??
मै: अभी ये लंड तुम्हारी चूत को ठंडक पहुचायेगा
उसके बालो कों पकड़कर अपना लंड उसके मुह पे लगा दिया. मुह के खुलते ही गोलगप्पे की तरह अपना लंड उसके मुह में रख दिया. उसने मेरे लंड को चूस चूस कर अच्छे से खड़ा कर दिया. अलग अलग स्टाइल से चाट चूस कर मेरा लंड मोटा कर दिया. मेरे को भी उसकी चूत को चाटने का मन करने लगा. आज मेरे को अपने दिल के सारे अरमान पूरे करने का मौका मिला था. उसकी टांगो को फैलाकर चूत में अपना मुह लगा दिया. रसमलाई की तरह चूत को चाटने लगा. वो जोर जोर से सिसकारियां भरने लगी. “अई…..अई….अई… अहह्ह्ह्हह…..सी सी सी सी….हा हा हा…” की आवाज से पूरे में जोशीला माहौल बन गया. मेरे को भी चोदने की तड़प होने लगी. चूत चटाई करके मैंने अपने लंड को आगे पीछे करके टाइट कर दिया. उसकी तड़प मेरे से देखी नहीं जा रही थीं. वो जोर जोर से सर इधर उधर घुमा रही थी. मैंने अपना 6 इंच का लंड उसकी चूत के छेद पर रख कर रगड़ने लगा. एक तो पहले से ही उसकी चूत जल रही थी ऊपर से लंड रगड़ कर घी डाल दिया. अब उसकी चूत की आग को बुझाने की बारी मेरी थी.

मैंने लंड सटाकर जोर का धक्का मारा. उसके छोटे से छेद में मेरा लंड घुस ही नहीं रहा था. मेरे को बहुत परेशानी हो रही थी लंड घुसाने में. फिर भी किसी तरह धक्का मुक्की मार कर आधा लंड घुसाया ही था कि वो जोर जोर से “आआआअह्हह्हह. ….ईईईईईईई….ओह्ह्ह्….अई. .अई..अई…..अई..मम्मी….” की चीख निकालने लगी। मेरे को तो अपना पूरा लंड घुसाना था. मैंने पूरे जोश में पूरा लंड उसकी चूत में समर्पित कर दिया.

अल्पना: तेरे को चोदने का था तूने तो मेरी चूत ही फाड़ डाली
मै: अभी देखना तेरे को कितना मजा आयेगा
इतना कहकर मैंने रफ़्तार बढ़ा दी. सिलाई मशीन की तरह मेरा लंड जल्दी जल्दी अंदर बाहर होकर उसकी चूत चुदाई कर रहा था. पहली बार चुदाई का पहला राऊंड था. उसको मैंने लगातार एक ही लय में 20 मिनट तक चोदा. घच पच की मधुर आवाज के साथ चुदाई कर रहा था. कुछ देर तक रोकर उसने भी अपनी चूत उठा दी. अब मुझे और भी ज्यादा मजा आ रहा था. मेरे को उसका साथ मिलते ही दुगना जोश आ गया. लपा लप वो अपनी कमर को उठा उठा कर चुदवा रही थी. हिंदी पोर्न स्टोरीज डॉट कॉम

मैंने उसे बहुत चोदा. जोश बरकरार था लेकिन मेरे को थकान महसूस हुई। मै लेट गया अब उसने मेरे को अपने कारनामे दिखाने के लिए मेरे लंड से चूत सटाकर उछल उछल कर चुदवाने लगी. मेरे पेट पर हाथ रख कर चुदवा रही थी. मैं भी उसकी गाँड पर हाथ मार मार कर उसे जोश दिला रहा था. कुछ देर बाद मैं फिर से चोदने को रेडी हो गया. मेरे को उसे उठा कर चोदने का मन किया। मैंने उसे उठा लिया. छोटे बच्चो की तरह गोद में लेकर झूला झुलाकर चोदने लगा. वो मेरे को कंधे पर कस के पकड़ रखी थी. इस तरह की चुदाई उसको बेहद पसंद आयी। पूरा लंड उसकी चूत में घुसाकर चोदने में बहोत मजा आ रहा था. होंठो को चूसते हुए चोदने में कुछ ज्यादा ही अच्छा लग रहा था. मैंने एक बार फिर से उसे बिस्तर पर लिटा दिया. उसकी एक टांग को उठाकर चोदने लगा.

आगे पीछे होकर वो भी चुदवा रही थी. मेरे को अपने लंड में कुछ गीला गीला लगा. मेरे लंड के लिए वो चिकनाई का काम कर रहा था. मैंने उसे बिस्तर पर एक किनारे करके नीचे खड़ा हो गया. उसकी गांड के नीचे तकिया लगाकर टांगो को फैला दिया. अब मेरे को उसे एकाग्र होकर चोदना चाहता था. मैंने जड़ तक लंड उसकी चूत में घुसाकर जोर जोर से चोदने लगा. इस बार की चीख बहुत ही तेज आवाज के साथ निकल रही थी. वो जोर जोर से “….उंह उंह उंह हूँ.. हूँ… हूँ..हमममम अहह्ह् ह्हह..अई… अई…अई…..” की आवाज के साथ अपनी चूत सहलाने लगी. हिंदी पोर्न स्टोरीज डॉट कॉम

तेज चुदाई की रगड़ ने मेरे को झड़ने को मजबूर कर दिया. मुझसे पहले ही वो झड़ गई. मेरा लंड घच घच की तेज आवाज उसकी चूत से निकाल रहा था. मेरे को भी अब कण्ट्रोल नहीं रहा और बारिश की तरह मेरे लंड ने उसकी चूत पर अपने माल की बरसात कर दी. उसने सारा माल चूत से लेकर पेट तक मालिश कर लिया. उस दिन मैंने उसे कई बार चोदा उसकी चूत के साथ साथ गांड को भी फाड़ डाला. मेरे को आज भी जब चोदने का मन करता है. मैं उसे चोदने के लिए ठिकाना ढूंढ के चोदता हूँ.