गर्लफ्रेंड मेरी भाभी बनी

loading...

हेल्लो दोस्तों, मेरा नाम सैम है और मैं आपके लिए अपनी नइ देसी भाभी की कहानी लाया हूं. यह कहानी तब शुरू होती है जब मैं कॉलेज में था, कॉलेज में मैं बहुत ही शांत रहता था दोस्त नहीं बनाता, अकेला रहता था.

मैं अपना टाइम एक्सरसाइज और कंप्यूटर बेस्ड पार्ट टाइम जॉब से काट लेता था.

loading...

पर मेरा कोई दोस्त नहीं था इसलिए मुझे बहुत अकेला फील होता था.

loading...

एक दिन कॉलेज की कैंटीन में मैं बैठा था तभी मेरे बगल में एक लड़की आकर बैठ गई और वह भी मुझे देख रही थी. मैंने उसे देखकर अपना मुंह दूसरी तरफ कर लिया, तो वह बोली क्या हुआ इतना क्यों शर्माते हो?

फिर मैंने बोला नहीं ऐसी बात नहीं है.

वह – तो फिर मुह उधर क्यों कर लिया?

मैं – बस ऐसे ही.. पर आज आप मेरे साथ क्यों बैठे हो? अपने फ्रेंड के साथ क्यों नहीं?

वह – आप नहीं मुझे श्रुति बोलो और तुम अकेले क्यों बैठे रहते हो? इसीलिए मैं तुम्हारे साथ बैठी.

ऐसे ही हमारी बातें चलती रही.

हम अच्छे दोस्त बन गए.

मेरी अब वह बेस्ट फ्रेंड बन चुकी थी.

उसको मैं हमेशा अपने साथ घुमाने ले जाया करता था, हम कॉलेज के बाद कई जगह घूमने जाते, मूवी देखने जाते.

वह कई बार मेरा हाथ पकड़ कर चलती, पर मैं माइंड नहीं करता, क्योंकि उसका बिहेवियर ही इतना फ्रेंडली था. उसको मेरे साथ देखकर कॉलेज के बहुत लड़के मुझ पर जलते थे क्योंकि वह बहुत ही ज्यादा क्यूट और ब्यूटीफुल थी.

एकदम गोरी और फिट बॉडी.

मैं उसको हमेशा मन ही मन चोदता था, और उसके साथ सुहागरात मनाने का इमेजिन करके मुट्ठ मारता था.

ऐसे ही चलते चलते कॉलेज खत्म हो गया, पर अब भी हम लोग मिला करते थे. मैं उसे प्यार करने लगा था, फिर मैंने अपने बर्थडे पर उसे प्रपोज करने का प्रोग्राम बनाया. मैंने उसके लिए एक डायमंड रिंग खरीदी.

रात को मैं उसे अपनी कार से पिक अप किया, वह आज बहुत ही ज्यादा खूबसूरत लग रही थी और मैं भी हैंडसम लग रहा था. हम दोनों एक दूसरे को देखते रहे. फिर मैं उसका हाथ उठा कर किस किया तो उसे होश आया. और मैं उसे एक अच्छे से रेस्टोरेंट में ले गया. वहां हमने मेरा बर्थडे केक काटा और डिनर किया. फिर मैं उसे पार्क में ले गया.

मैं मन ही मन खुश हो रहा था कि आज मैं अपने प्यार को प्रपोज करूंगा और उसे किस करूंगा.

फिर थोड़ी देर तक पार्क में टहलने के बाद मैं उसे एक कोने में ले गया, वह पूछ रही थी यहां क्यों लाए हो?

मैं अपने घुटनों के बल बैठ गया रिंग निकाली और उसको पहनाने लगा और उसने अपना हाथ हटा दिया. मैंने उसके हाथ को ध्यान से देखा तो उसने पहले से ही रिंग पहनी हुई थी.

मैंने पूछा यह किसकी रिंग है?

तो वह बोली मेरे फियान्स ने मुझे दी है.

मैं बोला मतलब?

मैं खड़ा हो गया और बोला तुमने मुझे पहले क्यों नहीं बताया? मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूं. आई लव यू श्रुति.. क्या तुम मुझसे प्यार नहीं करती?

वह बोली देखो ऐसी बात नहीं है, मैं तुम्हें अपना अच्छा दोस्त मानती हूं और मैं तुमसे नहीं अपने फियान्स से प्यार करती हूं, मुझे गुस्सा आ गया. मैंने उसके हाथ को पकड़ लिया और बोलने लगा, श्रुति तुम मेरे साथ ऐसा मत करो. मैं तुमसे प्यार करता हूं, पर वह नहीं मानी और मुझे धक्का देकर खुद को छूड़ा कर चली गई.

कई दिन बीत गए फिर मेरे एक दोस्त ने बताया उसकी शादी हो गई है, मैं बहुत दुखी हुआ.. ना उसने मुझे अपनी शादी पर इनवाइट किया ना कार्ड भेजा.

साल ऐसे ही बीत गए.

मैं दिल्ली में नौकरी करता था.

और वही एक फ्लैट में रहता था, एक दिन में सोया हुआ था तो मेरी नींद किसी आवाज से खुली तो मैंने बाहर देखा तो कुछ लोग मेरे सामने वाले फ्लैट में शिफ्ट हो रहे थे, मैंने बाहर देखा तो कुछ लोग मेरे सामने वाले फ्लैट में शिफ्ट हो रहे थे. हमारी बिल्डिंग में एक फ्लोर पर चार फ्लैट थे, जब मैंने ध्यान से देखा तो वह और कोई नहीं मेरी प्यारी श्रुति ही थी, लेकिन अब वह मेरी गर्लफ्रेंड नहीं भाभी बन चुकी थी. पर मैं फिर भी खुश था.

फिर मुझे याद आया कि आज मैंने मूवी की टिकट बुक कर रखी है, तो मैं मूवी देखने निकल गया, मैं श्रुति से मिल नहीं पाया, पूरी मूवी में मैं बहुत खुश था कि आज मैं श्रुति से मिलूंगा.

मैं कार चला रहा था फुल वॉल्यूम म्यूजिक करके बारिश का मौसम था तेज हवा और बारिश हो रही थी, मुझे मजा आ रहा था रोड बिल्कुल सुनसान थी. मैं गाड़ी फुल स्पीड में चला रहा था इसी बीच में गाने सुनते सुनते आंखें बंद कर लेता, मैंने आंख बंद कर दी थी तो जैसे ही खोली सामने पेड़ गिरा हुआ था, जिस से मेरी गाड़ी टकराई और एक्सीडेंट हो गया.

मेरी बैक पीठ न्यूरो डैमेज हो और उसमें सर्जरी हुई, एक महीने में हॉस्पिटल में रहा. फिर मुजे डिस्चार्ज मिला तो मैं घर पहुंचा, फिर मुझे याद आया मेरे सामने तो मेरा प्यार श्रुति रहने आ गई है. मेरे पड़ोसी दोस्त ऋषभ ने बताया कि श्रुति का पति बिजनेस की वजह से हमेशा बाहर रहता है और इंहें हर बार जगह बदलनी पड़ती है और उसका पति एक महीने से यहां नहीं था, पर कुछ दिनों में लौटेगा.

मैं श्रुति से मिलने के लिए एक्साइटेड था, अगले ही दिन में उसे मिलने के लिए निकला मैंने देखा उसके घर का दरवाजा खुला हुआ है मैं अंदर घुसा तो हाल में कोई नहीं था. पर बेड रुम से कुछ आवाज आ रही थी, मैं बेडरूम के पास गया तो आवाज बढ़ गई.

श्रुति मजा अहह फह अहह ओह्ह अहह ओह्ह हहह मजा आ रहा है और तेज और तेज चोदो फाडो मेरी चूत आःह हह्ह्ह आवाजे कर रही थी.

मैं समझ गया कि आज इसका पति आ गया है, उसे चोद रहा है, फिर मैं वहां से जाने लगा.

श्रुति आह्ह आह ओह्ह हह्ह्ह ओह अह कर रही थी मोनिंग कर रही थी, और अचानक से उसने बोला तुम्हारा तो मेरे पति से भी बड़ा और मोटा है, यह सुनते ही में रुक गया और उनके बेडरूम की तरफ गया, बेडरुम का दरवाजा खुला था, मैंने अंदर देखा तो श्रुति को उसका पति नहीं मेरा पड़ोसी दोस्त ऋषभ चोद रहा था.

यह सब देख कर मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था, मुझे बहुत दुख हो रहा था कि मेरी श्रुति अब रंडी बन चुकी है, पहले उसने मुझे धोखा दिया अब अपने पति को धोखा दे रही है, मैं वहां से जाने लगा पर खुद को रोका, सोचा यह सब रिकॉर्ड करके इसके पति को दिखाऊंगा, तब इसको समझ आएगा और मैं फोन से यह सब रिकॉर्ड करने लगा.

मैंने देखा ऋषभ श्रुति को रंडी से भी बदतर तरीके से चोद रहा है, उसका लंड उतना भी बड़ा नहीं है पर वह जिस तरह दीपक शॉट मार रहा है उसे श्रुति को बहुत दर्द हो रहा था. वह रो रही थी मैंने देखा तो उसके बूब्स पर काटने के निशान थे, और होठों पर खून लगा था और उसकी चूत से भी खून निकल रहा था, पति का बहुत छोटा था इसलिए वह ऋषभ से चूदवा रही थी.

वह मोनिंग कर रही थी और रो रही थी, मुझे बहुत दुख और गुस्सा आ रहा था. पर मेरा लंड यह देखकर खड़ा हो रहा था, मैंने किसी तरह अपने लंड को शांत किया और यह सारा सीन मैंने अपने फोन में रिकॉर्ड कर लिया, और वहां से चला गया.

मैं उसके पति के आने का इंतजार कर रहा था, अगले दिन मेरी डोर बेल बजी मैने गेट खोला तो वहां पर श्रुति खड़ी थी, मैं उसे ऐसे देख रहा था कि मैं उसे जानता ही नहीं, उसे आंखें नहीं मिला रहा था और इग्नोर कर रहा था, पर वह बोली सेम तुम यहां रहते हो? मैं बोला हां.

वह आज बहुत खूबसूरत लग रही थी, उसने रेड कलर की साड़ी पहनी हुई थी जिसको देखकर मैं मदहोश हो रहा था और मन कर रहा था कि अभी उसे गोद में उठाकर बाथरुम में ले जाऊं, पर मैंने खुद को कंट्रोल किया और उसे अंदर बुलाया. वह मेरे साथ बैठी थी और मुझे देखकर एक अजीब सी स्माइल दे रही थी, शायद वह मुझसे चूदवाना चाहती थी और चाहे भी क्यों ना, मै एक तो मैं उसका बॉयफ्रेंड और इतना हैंडसम था अब मेरे पास पैसा भी था.

पर मैं उस टाइप का नहीं था कि किसी के साथ भी और कभी भी सेक्स कर लूं.

वह मुझे देखे जा रही थी पर मैं उसे इग्नोर कर रहा था, उससे बात नहीं कर रहा था फिर उसने बात शुरू की.

वह – क्या हुआ अब भी नाराज हो मुझसे?

मैं कुछ नहीं बोला.

वह – क्या हुआ कुछ तो बोलो बात तो करो, मेरी तरफ तो देखो.

मैं – क्या बोलूं तुमने कुछ छोड़ा है बोलने को?

वह – मतलब?

मैं – मतलब क्या मतलब पहले मुझे धोखा दिया कल अपने पति को धोखा दे रही थी.

वह – कल कब? वह डर गई थी.

मैंने वीडियो चला कर दिया वह देख कर चौंक गई और बोली यह तुम्हारे पास कैसे आया? मैंने उसे बताया कि कल मैं उससे मिलने आया था और सारी बात बता दी.

वह रोने लगी.

उसे रोता देख मुझे अच्छा नहीं लग रहा था पर उसे सबक सिखाना जरुरी था. तभी मैंने सुना कि कोई उसके घर की डोर बेल बजा रहा है, वह उसका पति था, मैंने उसको अंदर बुला लिया.

और उसको सब कुछ बता दिया और वीडियो भी दिखा दिया और श्रुति की तरफ बहुत गुस्से से देख रहा था. श्रुति रो रही थी. फिर उसने मेरे फोन से वह वीडियो डिलीट कर दिया और गुस्से में श्रुति का हाथ पकड़कर उसे अपने फ्लैट में ले गया और तेजी से दरवाजा लॉक कर दिया.

में समझ गया कि आज श्रुति की खूब पिटाई होगी और आज सबक भी मिल जाएगा.

फिर उनके घर से तेज तेज सामान तोड़ने की आवाज आई फिर शांत हो गई.

मुझे श्रुति का रोना चेहरा याद आ गया और उस पर दया आ गई, मैं फिर उसको देखने चला गया. मैं डर गया था कहीं उस हरामी ने मेरी श्रुति को कुछ किया तो नहीं? मैंने देखा गेट लॉक हे, फिर कान लगाकर सुनने लगा के अंदर क्या चल रहा है? श्रुति फिर से मोनिंग कर रही थी.

अहह ओह्ह हहह इह हां ह हहह फक मी फाड़ दो मेरे हस्बेंड दिखा दो अपनी मर्दानगी.

उसका पति बोल रहा था आज के बाद किसी और से चूदाएगी? श्रुति – नहीं.

उसका पति तुझे कसम है तूने किसी से भी नहीं चुदेगी, श्रुति ने बोला हां आप की कसम खाकर कहती हूं, मैं गलती से भी आपको धोखा नहीं दूंगी, फिर वह लोग चूदाई करते रहे.

यह सब सुनकर मेरा खुद से और अच्छाई से विश्वास उठ गया, मैं घर आया और पूरी रात नहीं सो पाया. यह सोचता रहा कि यह क्या हो गया? जिस दुनिया को मैं इतना सीधा समझता था वह कितनी उल्टी है, यह दुनिया सिर्फ पैसे और बुराई पर चलती हे, तो मैंने खुद को भी बदल लिया, सोचा अब तो श्रुति का कुछ हो नहीं सकता, क्यों ना मैं भी मजे ले लू.

अगले दिन उसका पति फिर से चला गया. मैं भी मौका देख कर उसके पास गया मैंने उसका डोर खटखटकाया, उसने थोड़ा गेट खोला उसने मुझे देखा और गेट बंद कर लिया. मैं कुछ देर वहां खड़ा रहा फिर मैं मुड़कर जा रहा था, तभी उसने फिर गेट खोला और पूछा क्या काम है? मैं फिर मुड़ कर एक दुखी और बुरी शक्ल बनाकर उसको देख रहा था, मैंने अपने कान पकड़कर उसको सॉरी कहा और बोला बस सॉरी कहना था.

उसने कहा चलो अंदर आ जाओ.

आज तो उसने और भी सुंदर येलो साड़ी पहनी हुई थी, मैं तो खुश था कि आज फुल मजा और प्यार दूंगा. उसने मुझे कोल्ड ड्रिंक दिया मैंने कोल्ड ड्रिंक पिया, वह आज बिल्कुल भी भाव नहीं दे रही थी, कल तो मुझे नॉटी स्माइल दे रही थी आज वह मुझे बिल्कुल भी स्माइल नहीं दे रही थी, और कुछ घर के काम में बिजी हो रही थी. मैं समझ गया कि उसके पति ने जो उसे कसम दी है, इसलिए यह इतनी आसानी से मेरी नहीं होगी.

वह बेडरुम में किसी काम से गई, मैं भी उसके बेडरूम में आ गया, वह मुझे देखकर शोक हो गई, मैंने बेडरूम का गेट लॉक कर दिया, वह बोली चुपचाप गेट खोल दे वरना मैं पुलिस बुला लूंगी.

मैं बोला उस दिन वृषभ से तो बड़े मजे के साथ हां हाह हां.. अब मेरे साथ क्या परेशानी है? वह बोली तो गेट खोलता है या मैं पुलिस बुलाओ?

अच्छा ठीक है पहले यह देख. उसके पति ने उसकी और ऋषभ कि मेरी बनाई हुई वीडियो डिलीट कर दी थी पर मैंने उसे अलग अलग जगह सेव कर रखा था, और आज मे वह वीडियो फिर से डाल कर लाया था, और वही वीडियो उसे दिखाने लगा, वह बोली देखो सेम मुझे मेरे पति ने कसम दी है, मैं तुम्हारे साथ कुछ नहीं करुंगी. शांति से गेट खोल दो और मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता अब इस वीडियो से. मेरे पति ने वह वीडियो देख लिया है, अब तुम क्या कर सकते हो?

मैं बोला मुझे पता है इसीलिए यह वीडियो में तुम्हारे पति को नहीं तुम्हारे ससुराल वालों और मां-बाप को यह वीडियो दिखाऊंगा.

उसकी आंखें बड़ी हो गई वह रोते हुए बोली सेम ऐसा प्लीज मत करो. उसको रोता देख मेरा दिल मचलने लगा आखिर मैं उसे प्यार करता था. फिर मैंने अपने हाथों से उसके चेहरे को पकड़ लिया और उसकी आंखों में आंखें डाल कर कहा क्या तुम मुझे प्यार करती हो? वह सर हिला कर हां कर रही थी, में बहुत खुश हुआ और वह बोल रही थी प्लीज मेरे साथ कुछ मत करो मुझे मेरे पति ने कसम दी है.

अब उसकी यह बात सुनकर की वह भी मुझसे प्यार करती है मैं होश खो चुका था और उसे किस करने लगा, मैंने उसे बेड पर बैठाया और किस करने लगा, क्या मजा आ रहा था?? क्या मस्त होंठ थे उसके.. एकदम रसीले गरम और सॉफ्ट.. वह मेरा साथ नहीं दे रही थी, बलकी मुझे धक्के मार के विरोध कर रही थी, पर मैं उसे चूमे जा रहा था.

फिर मैं उसकी चूत चाटना चाहता था पर उसने पैर क्रॉस कर रखे थे, शायद यह उसके पति की कसम की वजह से.. वह मुझे अपने पैर नहीं खोलने दे रही थी. मुझे आखिर में गुस्सा आ गया और मैंने उसके पैर खोल दिए और इतनी तेज खोल दिया जिससे उसको बहुत दर्द हुआ और वह तेजी से चिल्लाई आह्ह्ह माआआ.

मैं उसकी चूत पर टूटने वाला था कि तभी उसने बेड के पास टेबल पर पड़ी एक कांच की बोतल अपने दोनों हाथों में पकड़ कर अपनी पूरी ताकत लगाकर तुझे मेरे बेक हेड पर मार दी, वह वही पर लगी जहां मेरी सर्जरी हुई थी, जिसकी वजह से मैं बेहोश हो गया.

मेरी आंखें खुली तो मैं बेड पर लेटा हुआ था, मेरे सर के नीचे कपड़ा रखा था, और पूरे बेड़ पर बहुत खून लगा था, और उस कपड़े पर भी खून लगा था. मैं रुम से बाहर निकला तो श्रुति सिर नीचे करके डाइनिंग टेबल पर सोई हुई थी, वहां पर खाना भी रखा हुआ था. उसके हाथ में मेरा फोन पड़ा था और उसको देख कर लग रहा था कि वह बहुत रो रही थी. अब मेरे मन में से वासना निकल चुकी थी, मुझे उस पर दया आ गई और मैं बगल में जाकर बैठ गया वैसे ही सर झुका कर बैठ गया, और उसको देखने लगा. मैंने उसके हाथ से फोन लिया.

उसके हाथ में मेमरी कार्ड भी था, जिसे उसने तोड़ दिया था. शायद वीडियो डिलीट करने के लिए फिर वह जाग गई और हम दोनों एक दूसरे को आँख मिला कर देख रहे थे.

फिर मैंने उसे गले लगाया और आई एम सॉरी मुझे माफ कर दो कहा मैं बहक गया था,  और वहां से जाने लगा, पर उसने मुझे बोला इतना सारा खाना पड़ा हुआ है तुम्हारे लिए, कहां जा रहे हो?

मैंने उसे बोला तुम मुझसे नाराज नहीं हो?

तो उसने बोला अगर खाना नहीं खाओगे तो और नाराज हो जाऊंगी, फिर मैं उसके साथ बैठकर डिनर करने लगा.

वह मुझे ही देखे जा रही थी, मुझे पता नहीं क्यों शरम आ रही थी, फिर वह बोली.

वह – आज तो तुम्हारा यह रुप पहली बार देखा है, इतना गुस्सा?

मैं कुछ नहीं बोला.

वह – सॉरी सेम तुमने तो मुझे बहुत डरा दिया था, जैसे ही मैंने तुम्हारे सर पर मारा  तुम्हारे सर से खून निकलने लगा और तुम बेहोश हो गए, तुम्हारे सर से खून बंद नहीं हो रहा था और तुम उठ नहीं रहे थे, मैं बहुत डर गई थी.

कीसी तरह कपड़े से तुम्हारा खून मैंने बंद करा, तब तुमने बेहोशी में मेरा नाम लिया तो मेरा डर कम हुआ, सॉरी मैंने तुम्हारा मैं  मेमरी कार्ड तोड़ दिया, मैं बहुत दुखी हुई तुम्हारी वजह से आज..

मैं शांत था.

वह – अच्छा रोज तुम कितनी चॉकलेट खाते हो? तुम्हारा कितना अच्छा टेस्ट है.

मैं – एक पैकेट डेरी मिल्क हर रोज और तुम्हारा भी टेस्ट बहुत अच्छा है.

वह मुस्कुराने लगी, फिर अचानक से उसने बोला कि कल शाम को मुझे अब्रोड शिफ्ट होना है मेरे पति के बिजनेस के चलते मुझे जाना पड़ेगा.. यह सुनते ही मैं मायूस हो गया. उसने बोला क्या हुआ सेम इतने मायूस मत हो, अभी मैं एक दिन तो तुम्हारे साथ हूं.

मैं तब भी मायूस था.

श्रुति में मेरा हाथ पकड़ कर मुझे बेडरूम ले गई, वहां पर उसने मुझे बेड पर बिठाया और मेरी गोद में बैठ गई, फिर उसने मुझे किस करना शुरू कर दिया, मैं भी उसे किस कर रहा था, हम दोनों एक दूसरे के होठों का रस पी रहे थे, मुझे बहुत मजा आ रहा था क्योंकि वह भी मेरे होंठ चूस रही थी.

मैंने एक हाथ उसके पीछे रखा हुआ था, फिर अपने दूसरे हाथ से धीरे-धीरे उसके बूब्स के निप्पल सहला रहा था, वह किस करते-करते तेज सांसे ले रही थी, फिर मैं अपना हाथ नीचे उसकी चूत पर ले गया, साड़ी के ऊपर से उसकी चूत की गर्मी महसूस हो रही थी, मैं चुत सहलाने लगा, वह अब और भी तेज सांसे ले रही थी, उसकी सांसो की गर्मी मुझे फील हो रही थी, वह रुक कर बोली तुम्हारा टेस्ट बहुत अच्छा है, मन तो कर रहा है तुम्हारे होंठ खा जाऊ. मैं भी बोला आपके ही है मेरी श्रुति रानी.. हम दोनों एक दूसरे को काट रहे थे फिर मैंने उसका पल्लू नीचे किया.

फिर मैं उसके पूरे बदन को किस किया फिर गले पर किस करता गया, उसको बहुत मजा आ रहा था, मैंने उसके गले पर अच्छे से चुमा और चाटा, फिर उसके सीने को चूमा, हम दोनों जन्नत में थे.

मैंने उसकी साड़ी खोल दी अब वह ब्लैक ब्रा पैंटी में थी और बहुत ही ज्यादा सेक्सी लग रही थी. उसके सामने कोई भी हीरोइन नहीं टिक सकती ऐसा माल थी मेरी श्रुति.. मैंने उसे बेड पर लेटा दिया और चूमने लगा.

वह इतनी ज्यादा सुंदर थी कि मैं खुद को रोक नहीं सकता था, मैंने ऊपर से लेकर नीचे  तक चुमा चाटा, फिर उसने मेरी शर्ट खोल दी, उसने मुझे ऊपर से नंगा देखा तो बोली यह बॉडी कब बना दी तुमने?

मैंने कहा तुम्हारे लिए ही बनाई है, और उसने मुझे लेटा दिया और मुझ पर आ कर मुझे किस करने लगी, उसने मुझे हर जगह चूमा, मेरा चेस्ट सिक्स पैक एब्स, हर जगह उसने चुम्मा कर के गिला कर दिया, और काट भी लिया.

 

फिर मैंने उसे लेटाया और उसकी ब्रा पैंटी निकाल दी, उसकी चूत देख कर मैं बहुत खुश हुआ उसकी चूत बिल्कुल पिंक थी. मैंने पहले किस किया और धीरे से उसे चाटना शुरू किया, मैं जीभ उसकी चूत में डाल दी उसकी चूत बहुत गर्म थी, जिसे मुझे मजा आ रहा था. ऊपर देखा तो श्रुति अपनी आंखें बंद करके अपने होंठ काट रही थी, उसको बहुत अच्छा ओर्गेजम मिल रहा था.

मैंने अपने होठों से उसके बूब्स सहलाने शुरू कर दिए, फिर उसने अपना चूत का सारा पानी मेरे मुंह पर निकाल दिया, वह में पि गया, फिर मैं उसके बुब्स पर गया और चूसने लगा, श्रुति एकदम मदहोश थी और मस्त आवाजे आह ओह्ह हहोह हां उह हां ओह हां  निकाल रही थी आई लव यू सेम अहह ओह अह्ह्ह यस ह्ह्ह ययस्सस.

फिर उसने मुझे किस किया और बोली की अब मेरी बारी है, उसने मेरी जींस उतार दी साथ में अंडरवेअर भी उतार दिया. मेरा लंड देख कर उसने मुझे अजीब सी स्माइल दी. मेरा लंड पकड़ कर बोली तुम कितने बड़े हो गए हो, मेरे लिए तरस गए थे क्या? मैं भी तुम्हारे लिए तरस गई थी मेरा राजकुमार.. और श्रुति मेरा लंड चूसने लगी. मैं जन्नत में था इतना मजा आ रहा था कि क्या बताऊं??

फिर मेरे लंड ने भी अपना माल निकाल दिया, तो उसने सारा पी लिया और बोली तुम्हारे पानी का टेस्ट बहुत अच्छा है, मेरे से नहीं जा रहा था. फिर हम लोग 69 पोजीशन में आ गए ताकि मेरा लंड खड़ा हो जाए और वह चोदने के लिए तैयार हो जाए, 69 पोजिशन का अपना ही मजा है, फिर मैं उसके ऊपर चढ़ गया. उसे किस करने लगा उसने अपनी आंखें बंद की हुई थी.

फिर ज्यादा देर ना करते हुए मैंने एक जोरदार धक्का लगाया, वह बहुत तेज से चिल्लाई मैंने उसके होंठों अपने होंठों से बंद कर लिए, मेरा आधा ही लंड गया था मैंने एक और एक धक्का लगाया, यह बहुत ही ज्यादा तेज था, उससे कंट्रोल नहीं हो रहा था. वह रो रही थी आह्ह ह हहह और करो जोर जोर से करो औऔ ओह हहह आयी उह हहह मुझे चोदो कह रही थी, अब मेरा लंड पूरा जा चुका था.

मैंने उसे किस करके थोड़ा शांत करा, फिर जब वह शांत हुई तो मैंने चूत मारना शुरू कर दिया.

मैं अपना लंड अंदर बाहर कर रहा था, अब मजा आने लगा था. वह मोनिंग कर रही थी, और कह रही थी और तेज और तेज में भी अपनी फुल स्पीड में आ गया और उसे चोदने लगा.

वह फुल मजे ले रही थी और मैं भी फुल मजे में था.

वह कह रही थी फाड़ दो मेरी चूत  तुम्हारी है मेरे सेम राजा.. इस चूत ने तुम्हे बहुत तरसाया है, उसे छोड़ना मत.. इसकी बैंड बजा दो.. ऐसे ही अलग अलग पोजीशन में मैंने उसे चोदा, फिर डॉगी स्टाइल में चोदा उस में उसे दर्द हुआ पर मजा भी आया.

मैं रुक रुक कर और कंट्रोल में उसे चोद रहा था इसलिए मेरा वीर्य इतनी जल्दी नहीं निकल रहा था. वह कई बार पानी निकाल चुकी थी, जब वह थक गई तो मैंने भी अपना पानी उसकी चूत में निकाल दिया और हम लोग एक दूसरे से लिपट कर सो गए.

सुबह उठे तो बहुत थक गए थे, लेकिन आज वह जाने वाली थी हमने फिर से चूदाई की फिर मैं उसे अपनी कार में बैठाकर एयरपोर्ट छोड़ने गया, वह जाने वाली थी मैं बहुत मायूस था. वह जाने लगी उसने मेरा चेहरा देखा तो फिर मेरे पास आकर लिपट गई और लंबी सी फ्रेंच किस करने लगी.

वहां एयरपोर्ट पर लोग हमें देख रहे थे और कुछ हरामी लोग सीटी बजा रहे थे. करीब १० मिनट किस के बाद हम रुके, उसने मुझे कहा आई लव यू जान.. मैंने भी उसे आई लव यू श्रुति कहां.. और वह स्माइल करती हुई चली गई..

Share this Story:
loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age