गोडाउन में प्रतिमा के साथ सेक्स कर डाला

loading...

प्रेषक: विशाल

दोस्तों ये एक सच्छी घटना पे आधारित कहानी है. मेरी उम्र 22 साल है. ये बात उन दिनों की है जब मैं कॉलेज की छुट्टियों पे घर आया हुआ था. उन दिनों हमारी दुकान मैं एक नयी लड़की ने नौकरी ली थी, उसका नाम था प्रतिमा.

loading...

प्रतिमा 21 साल की एकदम कमसिन हसीना थी, अपना काम से काम रखने वाली और हमेशा चुप चाप अपना काम करती रहती थी. दोस्तों उसके बदन का आकार कुछ इस तरह था, काले लंबे घने बाल, गोरा बदन, 36-28-36 का आकार, लाल होंठ थे. मैंने जबसे उसे देखा था तब से ही उसे सोच-सोच कर अपना लंड हिलाया करता था. मन ही मन उसे चोदने के ख्वाब देखने लगा था. जब भी सुबह प्रतिमा दुकान में आती, उसकी कमसिन जवानी देख, मेरा लौड़ा तन कर खड़ा हो जाता.

loading...

फिर एक दिन ऐसा आया जब मेरा सपना पूरा होने जा रहा था, उस दिन प्रतिमा सुबह दुकान आते साथ ही हमारे गोडाउन चली गयी सामान की गिनती करने. मौके का सही फायदा उठा के मैं भी वही पहोंच गया. अब गोडाउन मैं सिर्फ प्रतिमा और में थे.

उस दिन उसने हलके गुलाबी रंग की सलवार कमीज़ पहनी थी और झुक के अपना काम कर रही थी. मेरी नज़र अचानक से उसके बदन पे गयी. और मैंने देखा की उसके boobs उसके काले रंग के ब्रा से बाहर झाँक रहे थे. जिनको देखते ही मेरा लंड तन के खड़ा हो गया. उसका पूरा ध्यान काम की ओर था, और उसने ध्यान नहीं दिया अपने झांकते boobs की ओर. अब धीरे से में प्रतिमा की ओर गया और उसका हाथ पकड़ लिया.

उसने झटके से अपना हाथ छुड़ाया और कहने लगी sir ये आप क्या कर रहे हो. फिर मैंने उसे कहा, अपनी जान का हाथ पकड़ रहा हूँ. इतना कह कर ज़ोर से उसको अपनी तरफ खींचा और गले से लगा लिया. उसकी तेज़ साँसे और घबराया हुआ बदन महसूस करके एक अलग ही मज़ा आ रहा था. अब धीरे से उसके बालों की क्लिप खोली और बिखरा दिया.

फिर सीधा उसक रसीले होंठ पे अपना होंठ रख कर चूमने लगा. शुरू के 5 मिनट उसने हिचक दिखाई, फिर वह भी मज़े लेकर मुझे चूमने लगी. जीभ से जीभ लगा के, एक दुसरे की साँसे महसूस करके हमारा चुम्बन का सिलसिला चल रहा था. अब धीरे से उसका हाथ मेरे लंड पे जो की तन के खड़ा था उसपे जाने लगा पैंट के बहार से ही वो मेरे लौड़े को सहलाने लगी. मेरा हाथ उसके गोल आकार boobs को दबा रहा था. प्रतिमा धीरे धीरे moan कर रही थी. अब मैंने उसका सलवार उतार दिया, और उसने मेरी शर्ट. उसका करारा बदन मुझे और मदहोश कर रहा था.

अब और देरी ना करते हुए मैंने उसका ब्रा उतारा और प्रतिमा के boobs दबाने लगा. एक बूब को मूंह से चूस रहा था और दुसरे को दबा रहा था. पूरे गोडाउन में हमारे जोश की आहटें गूंजने लगी. अब प्रतिमा पूरे जोश में आ चुकी थी. और ज़रा भी देर किये बिना मेरे लौड़े के आगे अपना मूह आगे करके बैठ गयी. झट से मेरी ज़िप खोली और चड्डी उतारी, मेरा 7.5 इंच का लौड़ा देख उसके होश उड़ गए.

1 भी सेकंड देरी न करते हुए सीधा मूह मैं लेने लगी. लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी, थूक लगा लगा के मूह मैं ले रही थी. मैंने उसके बाल पकडे और मूह मैं ही चोदने लगा अपना लंड आगे पीछे करते हुए. पूरी जगह हमारे जोशीले सेक्स से गूँज रही थी. कभी मेरा लौड़ा लेती कभी मेरे balls को चाट लेती. अब मैंने धीरे से उसे उठाया और फिर चूमने लगा. उसका payjama उतरा और उसकी चड्डी को चूमने लगा. झट्ट से अब मैंने उसकी चड्डी उतारी और उसकी कोमल चूत के दर्शन किये. कसम से देखते ही कोई भी लंड घुसने को तैयार हो जाए झट्ट से, ऐसी कमसिन चूत देख के.

अब उसको ज़मीन पे लेटा के मैंने उसकी चूत चाटनी चालु की. प्रतिमा उछल उछल के मेरा साथ दे रही थी. अपना हात मेरे सर पे रख के दबाने लगी. साथ ही साथ उसके मू से ahhhhhhhhh ahhhhhhhh ओर ज़ोर से चाट, आज अपना ले मुझे, अब रहा नहीं जा रहा, घुसा दे अपना लंड मेरी चूत में. मैं कभी उसकी चूत मैं उंगली करता तोह कभी मू डालता. जोश में तड़प रही थी प्रतिमा. अब धीरे से मैंने अपना लंड उसकी चूत में रखा और अंदर धकेलने लगा, प्रतिमा ज़ोर से चिल्लाई मानो जैसे उसकी चूत फट गयी हो. ahhhhhhhhh बहार निकाल अपना लंड ऐसा कहने लगी.

अब हम दोनों पसीने मै भीग चुके थे. कुछ टाइम मैंने अपना लंड ऐसे ही रखा उसकी चूत में ओर उसे चूमने लगा. 10 मिनट ऐसे ही रखने के बाद, फिर एक बार धीरे से अपना लंड आगे पिछे करने लगा, थोड़ा दर्द सहते हुए उसने मेरा साथ देना शुरू कर दिया. अब अपनी गांड उछाल उछाल के मेरा साथ देने लगी.

पूरे गोडाउन में छप छप की आवाज़ गूँजने लगी. पूरे जोश में प्रतिमा कहने लगी चोद दे आज मुझे बना ले अपनी रानी विशाल. तेरा लंड पूरा अंदर तक घुसा दे. चोद साले चोद.

1 घंटा jam के चुदाई के बाद अब मैंने अपना मुठ उसकी चूत में छोड़ दिया. वह भी झड़ गयी. 20-25 मिनट बाद मैंने फिर उसको doggy style में चोद दिया. गोडाउन के शटर से सटा के उसको चोदने लगा, और अपना मुठ इस बार उसके मूह में दे दिया. और फिर हमने चूमा और वही पस्त होके लेट गए.

इस प्रकार प्रतिमा को चोद दिया मैंने. और इसके बाद हमने बाथरूम में, जंगल में और जहाँ मौका मिलता वहा चोदते. इसी प्रकार प्रतिमा को मैंने प्रेग्नेंट किआ और हमने उसके 7वे 8वे महीने की प्रेगनेंसी में भी चुदाई की.

Share this Story:
loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age