होनेवाली सास ने मेरे लंड को प्रणाम किया

loading...

ये कहानी केरला में स्टार्ट हुई जब मैं अपनी पढ़ाई के लिए वहां रहता था. वैसे मैं चेन्नई से हूँ लेकिन मैं केरला लाइक करता था और मोम डेड को जिद्द कर के मैंने वहाँ एडमिशन ले लिया था.

और कोलेज लाइफ के एक साल में मुझे एक लड़की से प्यार हो गया. उसका नाम माला था. वैसे तो वो केरल से ही थी लेकिन उसकी फेमली उसकी माँ की जॉब की वजह से तामिलनाडू मूव हो गई थी. उसके डेड की डेथ जब वो 10 साल की थी तब हुई थी. माला को मेरा मजाकियाँ नेचर और केरेक्टर पसंद है. वो किसी फिल्म की हिरोइन के जैसी ही सुन्दर लड़की है. हम दोनों एक दुसरे को बहुत प्यार करते है लेकिन हमने अभी तक एक किस भी नहीं किया था एक दुसरे को.

loading...

एक महीने के बाद जब मेरे मोम डेड मुझे मिलने के लिए आये तो मैने उन्हें माला से मिलवाया. उन्हें भी माला बहुत पसंद आई. और मेरी माँ ने तो उसकी मम्मी के साथ शादी की बात करने का भी सोच लिया.

loading...

और फिर माला ने मुझे कहा की चलो मैं भी तुम्हे मेरी मम्मी से मिलवा देती हूँ. मैं उसके घर पर डिनर के लिए बुलाया गया. खाने के वक्त उसकी माँ ने मुझे इतने सब सवाल किये और वो भी मेरे जवाबों से खुश ही रही.

उसके बाद एक दिन माला ने मुझे कॉल किया और बताया की वो अपने कुछ फ्रेंडस के साथ नार्थ इंडिया के टूर पर जा रही है. दरअसल वो मुझे साथ में ले के जाना चाहती थी.लेकिन मेरा एक प्रोजेक्ट पेंडिंग था इसलिए मैंने साथ में जाने के लिए मना कर दिया. उसने कहा ठीक है लेकिन मम्मी को कुछ काम हो तो मैं तुम्हारा नम्बर दे देती हूँ उसको.

अगले दिन मैंने सोचा की लाओ माला की को मिल लेता हूँ ताकि वो मुझे काम के लिए कॉल करने में झिझके नहीं. मैं शा के सात बजे के करीब उसके घर पर गया. उसने दरवाजा खोल के वेलकम किया. और फिर मेरे लिए खाना भी बना लिया. जब मैं जाने की सोच रहा था तो वो बोली माला नहीं है इसलिए घर में बहुत बोर होता हैं. और फिर वो बोली एक काम करो तुम अपना कुछ सामान ले के यही पर रह जाओ कुछ दिनों के लिए! मैंने कहा ठीक है आंटी.

उसने कहा आंटी नहीं तुम मुझे शोभा बुला सकते हो. मैंने कहा ठीक है शोभा आंटी.

वो मजाक में मेरे सामने जोर से आँखे निकाल के देखने लगी.

मैं उसकी कार में ही गया और हम सामान ले आये मेरा हॉस्टल से. वापस आते वक्त रात हो गई थी. वो बोली चलो तुम मेरे बेडरूम में ही सो जाओ. मैंने कहा नहीं मैं हॉल में सो जाऊँगा. उसने मुझे जबरदस्ती से पकड के अपने बिस्तर पर डाल दिया. और हम दोनों साथ में सो गए. उसने मुझे बताया की मैं बिलकुल उसके हसबंड के जैसे ही दीखता हूँ!

सुबह उठ के मैं नहाने के लिए बाथरूम में गया सब से पहले. जब कपडे खोलने चालू किये तो मैंने देखा की मेरे पेंट की ज़िप खुली हुई थी मेरी! जहाँ तक मुझे याद था मैंने जिप बंद की थी. मैंने सोचा शायद मैं भूल गया होऊंगा बंद करना. मैं नाहा के बहार आया और फिर शोभा नहाने के लिए गई. वो नाहा के बहार आई और सिर्फ तोवेल को अपने बदन के ऊपर लपेट के खड़ी हुई थी. और वो तोवेल भी एकदम छोटा था. उसके आधे बूब्स और चिकनी मांसल जांघे मुझे दिख रही थी.

उसने मुझे बोला की मैंने ऑफिस से कुछ दिन छुट्टी ले ली है तुम्हारे साथ वक्त बिताने के लिए. मेरा लंड खड़ा होने लगा था शोभा को ऐसे देख के. लेकिन मैं कुछ करना नही चाहता था इसलिए मैं कमरे से बहार निकल गया. लेकिन वो भी मेरे पीछे पीछे आ गई और उसने पुछा की तुम कोफ़ी लोगे, चाय या कुछ और?

मैंने निचे नजर कर ली और कहा एक कप कोफ़ी बस!

वो किचन में चली गई और हम दोनों के लिए एक एक कप कोफ़ी ले के आई. वो अभी भी उस सेक्सी तोवेल के अन्दर ही थी. मैंने कहा शोभा आप कपडे पहन लो प्लीज़ मुझे थोडा अजीब लग रहा था. उसने मेरे सामने एक सेक्सी स्माइल दी और अपने पाँव को वी शेप में कर दिए. उसकी अंदर की जांघे मूझे साफ़ दिख रही थी. मैं बेडरूम में चला गया और उसकी बेटी यानी की अपनी गर्लफ्रेंड के साथ फोन पट बात कर के अपने ध्यान को भटकाने लगा.

तब तक शोभा ने नाइटी पहन ली और फिर मेरे पास आ के बोली चलो मेरी थोड़ी मदद कर दो. मैंने कहा क्या तो वो बोली बल्ब चेंज करना है. मैं टेबल के ऊपर खड़े हो के बल्ब चेंज कर रहा था. मैंने उसके पास पेचकस माँगा क्यूंकि वहाँ पर बहुत मिटटी लगी थी. मैंने उसे देखा तो ऊपर से उसकी नाईटी साफ़ दिख रही थी. अंदर कोई ब्रा नहीं थी और नाइटी एकदम ढीली थी इसलिए उसके बूब्स साफ़ साफ़ दिख रहे थे.

मैंने बल्ब चेंज कर दिया और फिर हाथ धोने के लिए बाथरूम में चला गया. और वो भी मेरे पीछे पीछे आ गई. पहले उसने मेरे बम्स को टच किया और फिर मेरे लंड को भी! मैं तो झटका खा गया और पूछा क्या कर रही हो! वो बोली बस तुम्हारी मदद करने के लिए आई थी. मैंने कहा ठीक है शोभा आप प्लीज़ साइड में हो जाओ. वो बहार चली गई.

और फिर मुझे पक्का डाउट हुआ की जब मैं रात को सोता हूँ तो वही मेरी पेंट की ज़िप खोलती थी. एक दिन मैंने अपने मोबाइल के केमेरा विडियो मोड पर रख दिया. और अगले दिन मोर्निंग में जब वो मार्केट में गई थी तो वीडियो देखा. और मैंने देखा की वो रात क मेरे लंड को बहार निकाल के उसके साथ खेलती थी. और मेरी नींद पता नहीं क्यूँ इतनी गहरी होती थी की उसके लंड चूसने से भी मैं उठ नहीं पाता था!

मैंने देखा की वो मेरे लंड को चूस के बहार गई. और फिर कुछ 10 मिनिट में वापस आ के मेरे लंड को अंदर कर के सो गई. और फिर मैंने देखा की एक घंटे के बाद वो उठी और अपनी चूत को मेरे मुहं पर रख के चटवाई नींद में ही और फिर वापस सो गई. मैं तो जैसे डर रहा था अब शोभा से. कुछ देर में वो मार्केट से वापस आ गई.

मैं चुप ही रहा. वो किचन में गई और संबार के लिए कुछ ड्रमस्टिक ले के आई. और उसने मुझे दिखाते हुए कहा इसे खाने से सेक्स पावर बढ़ता हैं मर्द का इसलिए ख़ास तुम्हारे लिए ले के आई हूँ. मैंने कहा मेरा पावर एकदम ठीक हैं. वो बोली मैंने कब कहा पावर कम है लेकिन बढाओगे तो मेरी बेटी खुश रहेगी!

मैंने कहा शोभा प्लीज़ ये सब मत बात करो मेरे साथ मुझे शर्म आती है.

वो बोली, अरे सेक्स तो सभी करते हैं, संत हो या शैतान इसमें शर्म की क्या बात है!

फिर वो मेरे पास आ के बोली, तुमने कभी सेक्स नहीं किया क्या?

मैंने कहा नहीं, वो बोली लाओ दिखाओ फिर हथियार.

मैं कुछ करता उसके पहले तो उसने हाथ को मेरे लंड पर रख के उसे पकड़ लिया. उसकी ग्रिप में मेरा लंड आ गया था. वो उसे पकड के बोली, औजार तो बड़ा है!

मैंने कहा वो तो आप रात को चुस्ती है इसलिए आप को पता ही है!

वो मुझे चौंक के देख के बोली, अरे नींद की गोली का असर नहीं हुआ था क्या रात को!

अरे साली हरामी सासु माँ तो नींद की गोली खिला के मेरे लंड के मजे लेती थी. मैं सन्न रह गया उसकी ये बात सुन के. मैंने कहा, आप ऐसा सब क्यूँ कर रही हो?

वो बोली मेरी चूत बहुत सालों से प्यासी थी और जब माला तुम्हे मिलवाने के लिए आई तो मेरे से रहा नहीं गया. अब तुम समझ सकते हो की एक औरत खुद को कितना बाँध के रख सकती हैं. मेरे अरमानो का गला घोंट के बहुत देख लिया मैंने और अब मैं किसी का लंड बेसब्री से चाहती हूँ बस.

मेरे दिल में उसके लिए दया आ गई. मैंने कहा अगर आप को मेरे साथ सेक्स करना है तो कर लेते हैं लेकिन प्लीज़ आगे से आप ऐसा वैसा नहीं करेंगी और किसी और के सामने ये सब हरकतें बिलकुल नहीं करेंगी.

वो एकदम खुश हुई और उसकी आँखों में खुसी के आंसू आ गए. वो अपने घुटनों के ऊपर बैठ के मेरे लंड से खेलने लगी. मैंने कहा रात को चुस्ती हो वैसे चूस लो इसे. उसने फट से मेरे लंड को अपने मुहं में भर लिया और चूसने लगी. साथ में वो अपने दोनों बूब्स को एक एक कर के दबा भी रही थी. मैंने ऊसके बाल पकडे और उसके मुहं को चोद दिया.

फिर वो खड़ी हो के फुल न्यूड हो गई. उसकी सेक्सी गांड आज मैंने पहली बार ही देखी. अब वो मेरे सामे लेट गई. मैंने उसके ऊपर चढ़ गया. और उसके दोनों बूब्स को अपने हाथ में ले के दबाये मैंने. वो एकदम खुश थी और मुझे किस करने लगी. किस करते करते ही मैंने अपने लंड को उसकी चूत में दे दिया. उसकी चूत एकदम टाईट थी लेकिन चिकनाहट की वजाह से लंड अन्दर घुस गया. वो चुदवाने में एकदम पक्की खिलाड़ी थी. उसने चूत को एकदम से टाईट गिरफ्त में ले लिया था. और मैं उसके लिप्स को तो कभी उसके बूब्स को चूसते हुए धक्के दे रहा था.

वो जोर जोर से कराह रही थी और मुझे चुमते हुए कहने लगी अह्ह्ह अह्ह्ह डालो अंदर और जोर से चोदो मेरी प्यासी पुसी को, अह्ह्ह्ह ऐईईइ अह्ह्ह्हह अह्ह्ह यास्स्स्सस !

उसके चिखने चिल्लाने से मैं और भी उन्माद में आ के उसे चोदता गया.

पांच मिनिट के बाद अब मैंने उसे घोड़ी बना के पीछे से चोदा. उसकी फैली हुई गांड मस्त हिल रही थी. और वो पूरी जोर से अपने बदन के धक्के दे के मेरा लंड ले रही थी. हम दोनों पसीने में थे और मेरा लंड पूरा उसकी चूत में डाल के मैं एक मिनिट के लिए रुका. मैं इतनी जल्दी झड़ना नहीं चाहता था इसके लिए.

अब वो मेरे लंड पर बैठ के अपने बूब्स मेरे मुहं में दे के जम्प करना चाहती थी. मैंने कहा आ जाओ, वो गोदी में आ गई और मैंने इस पोज़ में भी उसको बहुत चोदा.

फिर मेरे लंड का सब पानी मैंने उसकी प्यासी बूढी चूत में ही निकाल दिया. वो निढाल हो के लेट गई. मैंने बड़े प्यार से उसके बदन को हाथ से सहला रहा था.

शोभा दस मिनिट के बाद उठी और मेरे लंड के आगे उसने प्रणाम किया और बोली आज से तुम सिर्फ मेरी बेटी के नहीं लेकिन मेरे भी पति हो. वो जब भी नहीं होगी तब हम दोनों एक दुसरे के साथ सेक्स करेंगे!

मैं नाहा के उसके लिए पिल ले आया ताकि मैं अपने ससुर जी का बाप न बन जाऊ!!!

loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age