साली के साथ सिनेमा में ओरल सेक्स

loading...

हाई दोस्तों मेरा नाम वरुण हे और मैं जयपुर का रहनेवाला हूँ. आज मैं पहली बार अपनी कहानी आप लोगों के साथ शेयर कर रहा हूँ. मेरा रंग गोरा हे. मैं हाईट में 6 फिट लम्बा हूँ और मेरा लंड साड़े 6 इंच लम्बा और 2 इंच मोटा हे. ये बात आज से कुछ महीनो पहले की हे. मेरी शादी फिक्स हो गई हे और जून में मेरी शादी हे. मेरी होनेवाली वाइफ की एक छोटी बहन हे जिसका नाम दीपिका हे. वो मेरी वाइफ से भी ज्यादा सेक्सी हे. वो 20 साल की हे और उसका बदन भरा हुआ हे. उसका फिगर 30 28 30 हे. जवानी दीपिका के एक एक अंग के अन्दर टपकती और झलकती हे.

इंडिया में तो जीजा साली के बिच में छेड़खानी का रिश्ता सदियों से चलता आया हे. और अक्सर ये रिश्ते की वजह से ही जीजा लोग अपनी साली को चोदते हे. मैं भी दीपिका को अपनी शादी से पहले यानि बीवी के पहले चोदने को लालची हो गया था. पर थोडा सा डर भी लग रहा था की ये कैसे करूँ!

loading...

उस दिन मैं अपनी साली को ले के मूवी देखने को गया था. सिनेमा हॉल में बहुत कम भीड़ थी. मैंने जानबूझ के कोर्नर की सिट मांगी. सब से ऊपर की महंगी सिट ली थी मैंने. ऊपर हमारी रो पूरी खाली थी. हमारी रो की दो रो को छोड़ के कुछ आठ दस लोग थे बस.  मूवी चालू हो गया. दीपिका एकदम सेक्सी माल लग रही थी. वो मेरी बगल में बैठी थी. और तभी मूवी में एक सेक्सी सिन आ गया. मैंने दीपिका को मजाक में ही कहा, एक किस हो जाए?

loading...

वो हंस पड़ी और कुछ बोली नहीं. और मैं जान गया की इसका मतलब हाँ ही होता हे. मैंने उसे गर्दन से पकड के अपनी तरफ खिंच लिया. वो कुछ नहीं बोली और मैंने उसके होंठो के ऊपर अपने होंठो को लगा दिया. मेरा और मेरी सेक्सी साली का ये किस कम से कम 10 मिनिट चला होगा. मैंने उसके ऊपर के और निचे के दोनों होंठो को ऐसे चूसा के वो एकदम लाल हो गए. फिर दीपिका ने जोर दिया तो मैंने उसे छोड़ दिया. मैंने उसकी तरफ देखा तो वो हंस रही थी. मैंने उसका हाथ पकड़ के हाथ पर भी किस कर लिया. फिर वो स्क्रीन की तरफ देखने लगी. मैंने अपने हाथ को उसकी जांघ पर रख दिया. वो कुछ नहीं बोली. उसकी चीकनी जांघ को सहलाते हुए मैंने उसके बूब्स के ऊपर भी एक हाथ को रख दिया. मैं उसकी जांघ सहलाते हुए उसके बूब्स मसल रहा था. दीपिका सिर्फ स्क्रीन की तरफ आँखे ऐसे लगा के बैठी थी जैसे कुछ नहीं हो रहा हो.

मैंने अब अपने लंड को बहार निकाल दिया. और उसके एक हाथ को पकड़ के लंड पर रख दिया. उसने मुठी बंद की और फिर मेरे लंड को फटी आँखों से देखने लगी. मैंने कहा क्या हुआ?

वो मेरे कान में बोली, आप का तो बहुत बड़ा हे जीजू, नंदीनी का क्या होगा?

मैंने कहा, पहले तो तू लेगी इसे मेरी जान?

वो बोली, क्यूँ आप अपनी सुहागरात में मुझे ले के जाओगे?

मैंने कहा नहीं मेरी जान मेरी शादी से पहले ही हम दोनों सुहागरात मना लेंगे ना.

वो कुछ नहीं बोली और मेरे लंड को धीरे धीरे से हिलाने लगी.

मैंने उसकी पेंट की ज़िप खोली तो वो बोली, कोई देख लेगा जीजू.

मैंने कहा, कोई नहीं देखेगा डार्लिंग.

फिर उसने कुछ नहीं कहा. मैंने अपनी उंगलियों को चूत में डाला. वो सिहर उठी और अपने होंठो को दांतों से दबाने लगी. मेरा हाथ उसकी चूत को सहला रहा था और वो एकदम सेक्सी अंदाज में मेरे लौड़े को पकड के हिलाने लगी. वो जैसे मुठ मारते हे वैसे लंड को मसल रही थी. बस फर्क इतना था की बिच बिच में वो सिर्फ सुपाडे को अपनी मुठी में पकड के दबाती थी जो मुठ मारने में नहीं किया जाता हे.

मैंने उसकी पेंटी के अन्दर ऊँगल कर दी और मसलने लगा. दीपिका एकदम सेक्सी हो गई थी और उसने सिट को पकड़ लिया था. मैंने उसे कहा, मेरा लंड चुसो ना.

वो बोली, यहाँ?

मैंने कहा, हां!

वो बोली, जीजू पंगे न हो जाए.

मैंने कहा, हम साली जीजा ने ये हम दोनों को पता हे, कोई डेक के सोचेगा की हम बीवी पति ही हे.

वो डरते हुए अपने घुटनों के ऊपर बैठ गई. मैंने उसके मुहं को अपने लंड की तरफ खिंच लिया. उसने अपने लिपस्टिक से भरे हुए होंठो को मेरे लौड़े के ऊपर

दिया. और कसम से वो ऐसे लंड को चूस रही थी की बस वो अनुभव शब्दों में लिखा ही नहीं जा सकता हे. उसने अपने होंठो से पहले लंड के सुपाडे को प्यार दिया. और फिर वो मुहं को अँधेरे में मेरी गोदी में ले के ऐसे चुस्ती गई की बस मजा करवा दिया. दीपिका के बूब्स को मैं उस वक्त अपने हाथ से हिला रहा था. और उसके बड़े निपल्स को अपनी उँगलियों से पिंच कर रहा था. दीपिका के निपल्स एकदम बड़े बड़े हे, ऑलमोस्ट डेढ़ इंच के. मैं उन्हें मसलते हुए अपने लंड को साली को चटा रहा था. और उसके पांच मिनिट के ब्लोवजोब ने मुझे मस्त कर दिया. मेरे लंड से एकदम गाढ़ा वीर्य निकल के उसके मुहं में भर गया.

दीपिका सब का सब वीर्य एक एक बूंद तक चाट गई. उसने लंड को अपने होंठो से साफ़ किया. फिर वो अपने कपडे ठीक कर के वापस सिट पर बैठ गई. वो अपने बाल सही कर रही थी तो मैंने कहा, चलो टाँगे खोलो अपनी. वो बोली, जीजू आप का हो तो गया.

मैंने कहा, लेकिन मेरी साली जी का तो नहीं हुआ न.

वो हंस पड़ी.

मैंने उसकी पेंट को खोल के घुटनों तक ला दिया. फिर मैंने जींस और चूत के बिच में मुहं घुसा के बैठ गया. दीपिका की चूत पर जबान लगा के मैं उसे मसलने लगा. वो सिहर रही थी और एकदम उत्साह में आ गई थी. मैंने उसकी चूत को एकदम जोर जोर से चाटा. और वो मेरे माथे को अपने बुर पर दबा रही थी. मुझे बड़ा मजा आ गया साली के साथ इस मस्त सेक्स में.

मैंने उसकी चूत को पुरे 10 मिनिट चाटा और वो झड़ गई तो चाट के साफ भी कर दिया. हम दोनों ने कपडे सही किया और मूवी के ख़तम होने से पहले ही निकल गए हॉल से. मैं नहीं चाहता था की किसी ने हमें देखा हो और मूवी खत्म होने के बाद वो दीपिका को पहचान ले.

रस्ते में बाइक पर मैंने उसे कहा, डार्लिंग जल्दी ही तुम्हारे साथ सुहागरात मनानी पड़ेगी.

वो बोली, अब तो मैं भी आप का लेना चाहती हु जीजू!

दोस्तों अगली कहानी मेरी और मेरी साली की सुहागरात की लिख के भेजूंगा आप लोगों के लिए!

loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age