लंड पर बैठ के लंदन देखा मेरी बहन ने

loading...

बबलू अगर मेरा दोस्त नहीं होता तो साले को ऊपर से निचे तक चिर देता और अन्दर नमक भर देता. लेकिन बहन भी तो मादरचोद रंडी बनी हुई थी उसके साथ. दोनों को देखा चोदते हुए और एकदम गन्दी गन्दी गालियाँ देते हुए. मैंने बबलू को मेरे घर में घुसते हुए देखा. किशोर जो मेरा दूसरा दोस्त हैं उसने पहले बताया था मुझे लेकिन मैंने उसकी बात नहीं मानी थी. लेकिन आज जब अपनी बहन का कारनामा देखा तो जान गया की वो सच में एक बड़ी रांड हैं.

बबलू इधर उधर देखते हुए घर में घुसा, मम्मी जॉब पर थी और पापा भी. घर में मेरी बहन डोली ही थी वो भी अकेली. उन दोनों को था की मैं घर में नहीं हूँ और कोलेज में हूँ. लेकिन मैं तो घर के सामने एक पेड़ के पीछे छिपा हुआ ये सब देख रहा था. बबलू के घर में घुसते ही मैं भी घर में घुसा दबे पाँव. वो मेरी बहन के कमरे की तरफ ही बढ़ा. मैं जानता था की साला वो अन्दर जा के मेरी बहन डोली को चोदेगा.

loading...

बबलू अन्दर गया तो डोली अपने लेग्स के नाख़ून के ऊपर रंग कर रही थी. बबलू बोला, जान मेरे लिए ही सज रही हो क्या?

loading...

डोली: हां आजा भोसड़ी के, कब से कॉल कर रही थी, अपनी माँ की चूत में घुसा हुआ था क्या?

बबलू: अरे मेरी रानी जरा लेट हो गया क्यूंकि पापा का टिफिन देने के लिए गया था दूकान पर.

डोली: चल ठीक हैं जल्दी से कपडे निकाल और आजा!

बबलू ने अपनी पतलून निकाली और वो मेरी बहन के पास आ गया. डोली ने अपने हाथ से उसकी चड्डी को खोली और उसके सिकुड़े हुए लंड को पकड़ के बोली, अरे इसे इतनी ठंडी क्यूँ लगी हुई हैं, साले किसी मुरझाये हुए गुलदस्ते के जैसा सोया हुआ हैं.

बबलू: थोडा मुहं में उसको रानी, तुझे तो अच्छे से पता हैं की मुरझाये हुए लौड़े को कैसे कडक करना हैं.

डोली ने अपने हाथ से पहले लंड को थोड़ा हिलाया और बोली: साले लंड चुसाना हैं इसलिए जूठ मुठ की तारीफ़ कर रहा हैं भडवा.

बबलू: अरे चूस ले ना साली रंडी, तब तो चुदवाने के लिए फोन पर फोन बजा रही थी मेरा.

डोली ने अपने मुहं को खोला और बबलू के लंड को एकदम सेक्सी ढंग से अन्दर कर लिया. बबलू के मुहं से एक आह निकल गई और उसने अपने जांघ के ऊपर के बदन को कमान के जैसे मरोड़ दिया. और डोली के माथे को एकदम प्यार से सहलाते हुए वो देसी ब्लोव्जोब का मजा लुट रहा था. डोली ने पहले लंड को थोडा थोडा चूसा और फिर पुरे लौड़े को उसने अपने मुहं में ले लिया. वो बड़े ही मजे से लंड को पूरा डीप गले तक ले के सकिंग दे रही थी. बबलू की सिसकियाँ बढती ही चली गई.

एक मिनिट के भीतर ही वो बोला: अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह आया!

और डोली जान गई की बबलू चूत रहा हैं, वीर्य उसके लंड से आजाद हो रहा हैं!

उसने मुहं को और भी कस के सक किया. और बबलू का लंड मेरी बहन के मुहं में ही खाली हो गया. बबलू साला मेरी बहन को ऊपर कर के उसे किस करने लगा. और फिर डोली ने कहा अब चल तू मेरी चूत को चाट तब मजा आएगा.

और ये कह के उसने अपने बदन के सब कपडे खोल दिए. बबलू ने भी अपने बदन के ऊपर बचे हुए कपडे खोले और डोली अपनी टांगो को खोल के लेट गई पलंग के अन्दर. बबलू उसके पास बैठा. मेरी बहन ने घुटनों से पाँव को मोड़ के बबलू को अपनी जांघो के बिच में जैसे जकड़ लिया. और अगले ही पल बबलू उसकी चूत को अपनी जबान से चाटने लगा. बबलू ने जबान को चूत के दाने के ऊपर लगाया और वो उसे हिलाने लगा. डोली की सिसकियाँ कमरे में मादकता का संचार कर रही थी.

बबलू ने खूब चाटा मेरी बहन के बुर को और डोली अब उसके मुहं पर ही झड़ गई. जब बबलू ने बुर से मुहं निकाला तो उसके उपर दही के जैसी बहन की चूत की झाड लगी हुई थी. बबलू ने जबान से वो चाट ली और बोला, चल मेरी रानी फिर से लंड खड़ा कर दे मेरा.

डोली बोली, मादरचोद कितना चुसायेगा मुझे, साले हरामी.

और वो फिर से बबलू के लौड़े को चूसने लगी. एक मिनिट में उसका लोडा फिर से तन के खड़ा भी हो गया.

अब उसने डोली की टाँगे खोली और उन्हें ऊपर हवा में उठा दी. और अपने लंड को एक ही झटके में मेरी बहन की चूत में डाल दिया. डोली के मुहं से एक जोर की चीख निकल पड़ी. वो बोली, साले आराम से कर ना मादरचोद ने चूत फाड़ डाली, अभी मार साले!

और बबलू अपनी कमर को हिलाने लगा. उसका लंड मेरी बहन की चूत में अन्दर बहार होते हुए मुझे दिख रहा था. डोली अह्ह्ह अह्ह्ह याश्ह्ह अह्ह्ह्ह अआअह्ह्ह्ह और तेज कर.

ये ले रंडी, ये ले मादरचोद, साली छिनाल ये ले तेरी बूर का भोसड़ा बना दूंगा मादरचोद वेश्या, ये ले, साली पहले तो मेरे दोस्तो के भी लंड लेती थी, अब किसी को नहीं देती हैं मादरचोद!

डोली बोली: अरे वो मेरे भाई को शक हो गया था इसलिए, मार साले जोर से, बातें कम कर और काम कर.

बबलू ने डोली को गले से पकड़ लिया और वो एक दुसरे की आँखों में आँखे डाल के ऐसे चोद रहे थे जैसे की वो दोनों कोई इंग्लिश क्सक्सक्स मूवी के पोर्नस्टार हो. डोली जोर जोर से अपनी गांड हिला के बबलू का ले रही थी और बबलू एक एक सेकंड में और भी तेज होने लगा था.

कुछ देर ऐसे मिशनरी में मस्त चोदने के बाद बबलू ने अपना लंड निकाला चूत से. और उसने अब डोली को खड़ा कर दिया पलंग पकड़ा के. वो अब खड़े खड़े डोली को चोदने लगा था. डोली भी अपने कुल्हें हिला के मजे से ले रही थी उसके लौड़े को.

और फिर बबलू ने पलंग में लेट के अपने लौड़े को ऊपर की और किया. और बोला, चल आजा मेरे लंड पर बैठ जा मैं तेरे को लन्दन दिखाता हूँ. डोली बबलू के लंड को थोड़ा हिला के उसके ऊपर बैठ गई. और वो फिर से अपनी गांड को जोर जोर से हिला के चुदवाने लगी. कुछ ही देर में बबलू हांफने लगा था और डोली को भी पसीना चूत गया था.

और दोनों की चोदने की स्पीड भी एकदम बढ़ चुकी थी. डोली उछल उछल के पुरे लंड को अपनी बुर में ले रही थी. और बबलू उसके बूब्स को मसल के पूरा धक्का दे रहा था.

तभी बबलू ने जोर की अह्ह्ह की और बोला, ये ले मेरे लौड़े का पानी तेरी भोसड़ी में भर दिया.

डोली थक के उसके ऊपर झुकी और उसने बबलू के होंठो से अपने होंठो को लगा दिया!

loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age