माँ की दो फ्रेंड्स के साथ हॉट सेक्स किया

loading...

हेलो दोस्तों यह स्टोरी मेरे सेक्स एक्सपीरियंस के बारे में है, जो मैंने मेरी मां की दोस्तों के साथ किया था. एक थी अनुजा और दूसरी उषा.. वह मुंबई में रहती थी, दोनों भी बहुत ही सेक्सी थी, अनुजा बहुत ही गोरी और स्लिम थी. उषा भी कुछ कम नहीं थी. उसके बूब्स देखते ही मेरा लंड खड़ा हो जाता था, उसके गोरे-गोरे बूब्स की साइज ३६-३८ होगी.

अभी मैं मेरी कहानी को शुरुआत करता हूं, उन दिनों मेरी फैमिली ट्रिप के लिए गए थे,  कोचिंग के कारण मैं घर में ही रुक गया. एक दिन शाम को मेरी मां ने मुझे कॉल किया.

loading...

मां – तुम अनुजा और उषा आंटी को जानते हो ना?

loading...

मैं – हां, लेकिन क्यों?

मां – कुछ नहीं वह दोनों मुज़े सरप्राइज़ देने के लिए अपने घर आ रही है, उसने मुझे कॉल किया था.

मैं – आप क्या बोली फिर??

मां – मैंने उन को घर पर आने के लिए कहा, क्योंकि मैं कल शाम तक आ रही हु.

मैं – ओके.

शाम को ६ बजे घर की बेल बजी, मैंने दरवाजा खोला उसके बाद तो मेरी आंखें खुली की खुली रह गयी. अनुजा रेड कलर की पंजाबी ड्रेस में थी तो उषा ने ब्लैक कलर की साड़ी पहनी हुई थी, वह दोनों पटाखा लग रही थी. मैं तो अब उनके हुस्न का दीवाना बन गया था. मैंने हम सबके लिए चाय बनाई और उनके साथ बातें करने लगा. शाम को मैं खाना खाने के लिए उन्हें होटल में ले गया, अब हम अच्छे दोस्त बन गए थे, उनसे बातें करके मुझे समझ में आया कि दोनों की अपने बच्चों के साथ रहती है.

उषा के पति दो साल पहले एक्सपायर हो गए थे, और अनुजा के पति ज्यादातर घर से बाहर ही रहते थे. मुझे इन दोनों के लिए बहुत बेड फिल हुआ.. रात को मैं जब अपने रुम में सो रहा था तो अचानक मुझे फील हुआ कि कोई मेरे रुम के बाहर खड़ा था. फिर मैंने जानबूझकर आंख बंद कर दी, थोड़ी देर बाद कोई मेरे रुम में इंटर हो गया, अब वह मेरे बेड पर आकर बैठ गया. थोड़ी देर बाद मेरी पेंट पर से हाथ फेरने लगा, मेरी आंखें बंद होने के कारण मैं नहीं जानता था की वह कौन है? फिर उसने मेरी पेंट में हाथ डालकर मेरा लंड बाहर निकाला, तो मुझ से कंट्रोल नहीं हो रहा था.. मैंने आंखें खोली तो देखा अनुजा ने मेरा लंड पकड़ा हुआ है, अब वह डर गई.

मैं – यह आप क्या कर रही है?

अनुजा – प्लीज मत चिल्लाना वरना उषा जाग जाएगी.. तुम मुझे बहुत अच्छे लगते हो मैं तुम जो बोलोगे वह करुंगी, खाली मुझे लंड चूसने दो.

मैं तो उसी वक्त का इंतजार कर रहा था, मैंने उसे परमिशन दे दी, वह मेरा लंड चूसने लगी. मेरा लंड दोनों हाथों में पकड़ कर दो जोर-जोर से हिलाने लगी, मेरे पेनिस के बोल्स को चाटने लगी, बाद में मैंने उसे बेड पर घोड़ी बनाया और मेरा मोटा लंड उसकी गांड में डाल दिया, वह बहुत जोर से चिल्ला के इंजॉय करने लगी.

अनुजा – ओह्ह्ह औउ इह हहह औ यस्सस उम्म्म.

इतने में उषा वहां आ गई.. मैं तो डर गया था. मुझे लगा कि सब खत्म हो गया.. अनुजा शर्म के मारे नीचे देखने लगी, उसी वक्त भी मेरा लंड अनुजा की गांड में ही था, तभी उषा हमारे पास आकर बोली.

उषा – मैं यह सब बोल दूंगी तेरी मां को..

हम दोनों डर गए.

तो वह बोली मैं नहीं बोलूंगी लेकिन मेरी शर्त है.

मैं – मैं आप जो बोलोगे वह करूंगा..

उषा – तुम्हें मुझे सेटीसफाय करना पड़ेगा..

मैं तो दंग रह गया यह सुनकर.

मैंने – उसे कहा हा..

फिर उसने मेरा लंड अनुजा की गांड से बाहर निकाला और उस पर थूकने लगी, अब मेरा लंड उसके मुंह में था. उसने मुझे बेड पर लेटा दिया और मेरा वीर्य पीने लगी.

तभी मैन्ने पास में बैठी अनुजा को मेरे ऊपर बुलाया, वह आकर मेरे मुंह के बल बैठ गई अब उसकी चूत मेरे मुंह में थी में चूत को चूसने लगा, तभी उषा जोर जोर से मेरे लंड को हिलाने लगी और अचानक से वह मेरे लंड पर चढ़ गई और उस पर कुदने लगी..

उषा – सच में तेरा लंड तो बहुत बड़ा है, मुझे इतना मजा पहले कभी नहीं आया था.

थोड़ी देर बाद वह थक के उतर गई, तब मैंने अनुजा को फिर से घोड़ी बनाया और उसे चोदने लगा, तभी उषा ने अनुजा को उसके पास बुलाया उसका मुह पकड़कर वह अपनी चूत पर लाने लगी, लेकिन अनुजा शरमा रही थी.

उषा –  प्लीज तू मेरी दोस्त है ना, तू चाट कर तो देख तुझे मजा आएगा..

अब अनुजा उषा की चूत में जीभ डाल कर चाटने लगी. पीछे से मैं अनुजा को जोरो से झटके देने लगा.

बाद में मैं जाकर उषा पर लेट गया, मैं उसे किस करने लगा. फिर उसने मेरा लंड पकड़ कर उसकी चूत में डाल दिया, अबी मैं पूरी ताकत से उस पर टूट गया..

उषा – अरे आज क्या मेरी चूत फाड़ देगा क्या??

मैं – आज तो तुम दोनों रांडो को में बहुत ठोकूंगा. तुम्हारी चूत की प्यास को मेरा लंड आज शांत कर देगा, तुम खाली मझ लो.

तभी अनुजा मेरे सामने आकर मुझे किस करने लगी, मैं भी उसे चूमने लगा, मैं उसे फ्रेंच किस करने लगा उसके मुंह में  मेरी पूरी जीभ दे दी वह भी बेशर्म की तरह उसे खींचने लगी.

उषा – तू तो बेड पर बहुत बेस्ट हो.. मुझे तेरे साथ रिलेशन रखने में कोई प्रॉब्लम नहीं है..

अनुजा – हां, सही है, इसके लंड ने मेरी चूत की प्यास बुझा दी. जब कभी टाइम मिलेगा तो तुम हम दोनों रांडो के लिए टाइम निकालोगे ना?

मैं – अब तो मैं तुम दोनों को हमेशा साथ में ही चोदुंगा. मुझे भी थ्रीसम सेक्स में बहुत मजा आया, तुम दोनों इस उमर में भी कमाल हो, मैं तो आपको हमेशा किस करूंगा.

उसके बाद वह दोनों मेरे लंड के सामने आकर बैठ गई..

अनुजा मेरा लंड पकड़ कर उसे हीलाने लगी, अब मेरा वीर्य निकल गया. तभी उषा ने आके वह वीर्य मुह में ले लिया, दोनों मेरा लंड चूसने लगी उसके बाद में उन दोनों के बीच में ही सो गया.

loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age