मकानमालकिन आंटी के साथ मजेदार सेक्स

loading...

हेलो दोस्तों मेरा नाम राहुल हे और मैं गुजरात के अहमदाबाद का रहनेवाला हूँ. मैं साड़े पांच फिट इन्चा और एवरेज बॉडीवाला हूँ. मेरे लंड की लम्बाई 6 इंच हे. आज ये मेरी पहली सेक्स कहानी हे जिसे मैंने अपनी तरफ से अच्छी तरह से लिखने की पूरी कोशिश की हे.

मैं एक किराए के मकान में रहता हूँ. और इस मकान की ओनर एक औरत हे. उसके पति ने 8 10 पहले उसे छोड़ दिया था. उसका फिगर 30 28 32 हे और उम्र में करीब 44-45 की हे. उसकी बॉडी एकदम मस्त हे जिसे देख के कोई भी खुश हो जाए. उसकी एक बेटी हे जो हॉस्टल में रह के अपनी कोलेज की पढ़ाई करती हे.

loading...

वैसे पहले जब मैं यहाँ रहने के लिए आया तो मेरे दिमाग में आंटी को ले के कोई बुरे इरादे नहीं थे. मैं आंटी के मकान में निचे रहता हूँ और वो फर्स्ट फ्लोर पर रहती हे. मैं आंटी को घर के सामान वगेरह की खरीदी में काफी मदद करता था. एक दिन मैं अपने कमरे में बैठ के पोर्न क्लिप्स देख रहा था. और तभी आंटी ने मुझे आवाज दे दी. मैंने दरवाजा खोला तो वो सामने खड़ी हुई थी. मैंने उसे अन्दर बुलाया.

loading...

उसने मेरे रूम पार्टनर के बारे में पूछा जो की बहार गया हुआ था.

आंटी: विशाल कहा हे?

मैं: आंटी वो बहार गया हे कुछ काम से अब शाम को आएगा. आप को उसका कुछ काम था?

आंटी: नहीं राहुल मैं ऐसे ही पूछ रही थी बस.

फिर आंटी चली गई. और मैंने फिर से अपनी पोर्न क्लिप्स को चालु कर दिया और देखने लगा. विशाल ने शाम को मुझे कॉल किया की उसको कुछ काम पड़ गया इसलिए अब वो कल ही आएगा घर पर वापस. और उसने आंटी को भी कॉल किया की मेरा खाना मत बनाना आज आप.

वैसे नॉर्मली आंटी हम दोनों का खाना दे के जाती थी. आज आंटी ने कहा वैसे भी विशाल नहीं हे तो तुम मेरे कमरे में ही आ के खाना खा लेना. तब मुझे पता नहीं था की काफी टाइम से आंटी को सेक्स नहीं मिला था और वो उसके लिए ही भूखी थी. वो सब बात मुझे बाद में पता चली.

आंटी के साथ खाने के बाद बातें होने लगी.

आंटी: राहुल मुझे कुछ रंगोली की डिजाइन चाहिए थे. हमारी पड़ोस की रेखा बता रही थी की इंटरनेट पर मिलती हे.

मैं: हाँ मिलती हे ना आंटी,. अभी आप के लिए डाउनलोड कर लेता हूँ.

और फिर मैंने अपना लेपटोप ला के आंटी के लिए कुछ नयी रंगोली की डिजाइन डाउनलोड कर ली. आंटी मेरे बगल में ही बैठ के मेरे लेपटोप के स्क्रीन पर डिजाइन देखने लगी. उसका क्लीवेज मेरे एकदम सामने था. ना चाहते हुए भी मेरा सब ध्यान वहां चला गया. आंटी ने भी मुझे उसका क्लीवेज देखते हुए पकड लिया. लेकिन उसने कुछ भी नहीं कहा और मैं अपना काम करता रहा. आंटी के बूब्स एकदम बड़े और सेक्सी थे.

और आंटी के बदन के ऐसे नज़ारे देख के मैं अपने लंड के ऊपर कंट्रोल नहीं कर सका. आंटी ने मेरे खड़े हुए लंड को भी देख लिया था. लेकिन उसने कोई भी प्रतिक्रिया नहीं दी और मेनेज कर लिया. फिर मैं अपने कमरे में चला गया और आंटी के बूब्स और गांड को याद कर के लंड को हिलाने लगा.

दो बार लंड को हिलाने के बाद भी जैसे आग नहीं बुझ रही थी आज तो. और तभी मेरे कमरे के दरवाजे के ऊपर नोक हुई. मैंने उठ के दरवाजा खोला तो मकानमालकिन ही सामने खडी हुई थी. मैं उसे देख के एकदम शोक हो गया. आंटी ने मुझे ऊपर से निचे देखा. फिर वो बोली, विशाल नहीं हे तो नींद नहीं आ रही होगी हे ना?

मैं: हां आंटी सोने की ट्राय कर रहा हूँ.

आंटी: चलो मेरे कमरे में सो जाना आज की रात.

और ये कहते हुए वो एकदम स्माइल दे रही थी मुझे.

मैं: आप को इस से प्रॉब्लम तो नहीं हे ना आंटी?

वो बोली, जरा भी नहीं मुझे तो ख़ुशी होगी ऊपर से.

और मैं समझ गया की आंटी भी मेरे लंड का गाजर अपनी मुनिया में लेना चाहती थी. आंटी के कमरे में गया. वो कपडे बदलने के लिए चली गई. कुछ ही देर में वो एकदम पतली नाइटी पहन के बहार आई. मैं उसके बोबे और गांड को देख के और भी उत्तेजित हो गया. सच में ऐसी लग रही थी की चुदाई कर के ही लंड को शान्ति मिले!

आंटी के कमरे में एक बड़ा किंग साइज़ बेड था और मैं उसके ऊपर लेटा हुआ था. आंटी भी मेरे पास आ के लेट गई. मेरा लंड ऐसा खड़ा हुआ जो पहले कभी नहीं हुआ था. आधी रात तक ना मैं सो सका ना ही आंटी!

फिर आंटी एकदम से मेरे करीब आ गई और उसने मेरे लंड को टच कर लिया. मैंने उसको देखा और वो स्माइल कर रही थी. मैंने उसको आँख मारी. आंटी अपने हाथ से लंड को सहला रही थी. आंटी अब खड़ी हुई और अपनी नाइटी को उतार के मेरे पास में वापस लेट गई.

अब उसकी हिम्मत और सेक्स का खुमार और भी बढ़ा हुआ था. उसने मेरी पेंट को खिंचा और फिर मेरे शर्ट को भी. उसकी साँसे फूली हुई. मेरा लंड और साँसे दोनों फुला हुआ था. आंटी ने मेरे लंड को सीधे ही अपने मुहं में ले लिया और उसे डीपथ्रोट देने लगी. फिर वो बोली, सच में तुम्हारा लंड तो बहुत ही बड़ा हे. मेरा हसबंड का भी इस से छोटा था.

मैंने कहा, आंटी आज से मेरा लंड आप के लिए ही हे एन्जॉय कीजिये.

आंटी ने वापस लंड को मुहं में भर लिया और सक करने लगी. मैंने आंटी के बड़े तरबूच जैसे बूब्स को अपने हाथ में ले लिया और उन्हें मसलने लगा.

फिर मैंने आंटी की टांगो को खुलव दिया और और उसकी चूत के अन्दर ऊँगली डाल दी. आंटी जोर जोर से मोअन कर रही थी और कह रही थी की मैं बरसो से प्यासी हूँ लंड लेने के लिए. मैंने आंटी को किस कर लिया और मेरा लंड जैसे स्वर्ग में था.

आंटी ने मेरे माथे को अपने बूब्स के ऊपर दबा दिया. मैंने उसकी एक नीपल को ऊँगली से हिला रहा था. दुसरे हाथ से उसकी चूत को चोद रहा था. और दूसरी निपल को अपने होंठो से प्यार दे रहा था. आंटी को उतना सुख मिल रहा था की उसकी ख़ुशी का कोई ठिकाना ही नहीं था.

फिर मैंने आंटी की चूत में अपना लंड इ दिया. वो बहुत ही प्यासी थी और कस कस के मुझे चोदने के लिए कह रही थी. मैंने भी आंटी को अलग अलग पोज में चुदाई का पूरा सुख दिया. वो गांड हिला हिला के बड़े ही मजे से सेक्स का आनंद दे रही थी मुझे. और मैं उठा उठा के उसे पेलता गया.

आंटी झड़ गई लेकिन उसने कहा की चोदो मुझे और. मैं भी थक सा गया था जब मेरा वीर्य उसकी चूत में निकल पड़ा. फिर हम दोनों एक दुसरे को किस करते हुए बिस्तर में लेट गए. आंटी ने कुछ देर के बाद फिर से मेरा लंड खड़ा किया और घोड़ी बन के चुदवा लिया. फिर हम दोनों एक दुसरे की बाहों में ही सो गए!

सुबह में आंटी ने बड़े ही सेक्सी ढंग से मुझे गुड मोर्निंग कह के जगाया. और सुबह में भी वो लंड लेने के लिए रेडी ही थी. मैंने आंटी को खिंच के उसके होंठो के ऊपर किस कर ली और उसके बूब्स को मसलने लगा. फिर वो बोली चलो नहा लेते हे पहले.

बाथरूम में आंटी ने मेरे लंड के ऊपर और बाकी के बदन पर साबुन लगा दिया.

आंटी: राहुल तुम सच में बड़ा मस्त सेक्स करते हो, मजा आ गया रात को तो.

मैं: आंटी मैं ये सब पोर्न क्लिप्स और मूवीज देख के सिखा हुआ हे.

आंटी: नोटी हो तुम!

मैं: आंटी आज मैं आप का ऐसा मसाज करूँगा की आप को पूरी लाइफ वो याद रहेगा.

आंटी: जल्दी से कर दो राहुल, मैं उसके लिए उत्सुक हूँ!

मैं: रुको.

मैं आंटी को निचे तोवेल बिछाकर उसके ऊपर लिटा दिया. फिर मैंने उसकी बॉडी का तेल, शहद और दूध से मस्त मसाज किया. मैंने एंड में उसकी चूत में और बूब्स में शहद लगा के चाटा. फिर मेरे लंड के ऊपर आंटी ने शहद लगा के उसे अपने मुहं में ले लिया और चूसने लगी. मैंने शहद वाले लोडे से ही आंटी की चूत को छोड़ा. उसको भी ऐसे बाथरूम के अन्दर लंड ले के बहुत मजा आ रहा था.

हम दोनों की साँसे उखड़ चुकी थी और एक दुसरे में खो के हम मस्त चोदन करने लगे थे. आंटी के बूब्स के ऊपर मैंने सारा वीर्य निकाल दिया और फिर वीर्य से उसके बूब्स का मसाज किया. आंटी एकदम हॉट थी और उसे ये सब नये नए हथकंडे अच्छे लग रहे थे.

फिर नहाने के बाद आंटी ने हम दोनों के लिए लंच बना लिया. शाम तक हम दोनों का सेक्स का काम चलता रहा. दोपहर का राउंड तो पूरा रोलप्ले के लिए ही रहा. एक में आंटी पुलिसवाली बनी, तो फिर टीचर बन के मेरा लंड उसने अपनी चूत में और गांड में लिया. मैंने आंटी को कहा की हम अब डेली पोर्न क्लिप्स देख के चोदेंगे.

आंटी को भी मेरा ये आइडिया बड़ा सही लगा!

loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age