मेरी निन्नी भाभी धंधेवाली बन गई

loading...

फ्रेंड्स मेरा नाम कमलेश राठोड हे और आज मैं अपनी भाभी निन्नी की कहानी आप को सुनाने के लिए आया हूँ. मेरे बड़े भाई साहिल की बीवी हे निन्नी भाभी और इन दोनों की शादी को अभी कुछ डेढ़ साल जितना वक्त हु हुआ हे. निन्नी भाभी एकदम फेशनेबल हे और उसे नयी नयी फेशन के कपडे पहनना बड़ा पसंद हे. उसके साथ ही उसे बहार घुमने का भी चस्का हे. मेरे भाई साहब की तनख्वाह उनकी 10-6 जॉब में इतनी नहीं हे की निन्नी भाभी के सब सौख को वो पूरा कर सके!

और भैया की कम सेलरी की वजह से निन्नी भाभी के मौज सौख पुरे नहीं होते थे. शादी के ऑलमोस्ट एक साल होने के बाद भी भैया उन्हें कभी बहार घुमाने के लिए नहीं ले गए थे और ना ही कोई महंगा गिफ्ट भैया ने भाभी के लिए बनवाया था. और यही बातों की वजह से भैया और भाभी के बिच में झगड़े भी होने लगे थे. एक दिन निन्नी भाभी ने भैया से लड़ते हुए कहा की जब तुम्हारे में मुझे पालने की ताकत नहीं थी फिर मेरे से शादी क्यूँ की. और अगर मुझे पाल नहीं सकते तो अभी मुझे डिवोर्स दे दो. और वो दोनों लड़ने लगे.

loading...

भैया ने कहा, अगर तुम्हे कपडे और फेशन का सौख हे तो फिर जाओ काम करो और अपने मौज सौख को पुरे करो.

loading...

और भाभी ने ये बात को दिमाग में भर लिया और एक कम्पनी के अन्दर काम देख लिया. और कुछ दिनों में तो भाभी की जॉब की असर उसके मौज सौख के ऊपर दिखने लगी. भाभी ने अपने लिए एक बहुत ही महंगा हीरे का हार लिया. और फिर तो भाभी के पैसे की चमक ने सब को चौंका दिया. वो हर महीने 10 12 पैर नए कपडे लेती थी. हर महीने भाभी की शोपिंग की लिस्ट बढती ही चली गई. भैया ने तो जैसे लगाम को अपने हाथ से छोड़ ही दिया था क्यूंकि उन्होंने ही जॉब के लिए कहा था और भाभी अब जॉब करती थी इसलिए कुछ कह भी नहीं सकते थे वो.

एक दिन निन्नी भौजी से मिलने के लिए ओई दो आदमी आये. भाभी ने मुझे कहा की ये मेरी कम्पनी के लोग हे और मुझे अपनी ब्लाउज से 500 का नोट निकाल के दिया और बोली जाओ नाशता और कोल्ड ड्रिंक ले आओ. वो दोनों बड़े ही रईस लग रहे थे. स्यूट बूट पहना था. मैं नाश्ता ले के आया तो भाभी उसे प्लेट में सजाने लगी.

भाभी ने मुझे कहा, देवर जी आप बुरा मत मानना लेकिन ये एक प्राइवेट मीटिंग के जैसा हे. आप प्लीज घर में सब को बता देना की एक दो घंटे के लिए कोई परेशान न करे. मैंने कहा ठीक हे भाभी जी.  और फिर भाभी ने अपने कमरे के दरवाजे को अन्दर से बंद कर दिया. पुरे 3 घंटे तक वो दोनों भाभी के कमरे में ही थे. और फिर वो बहार आये.

और फिर तो ऐसी प्राइवेट मीटिंग्स चलने लगी. घर पर हर दुसरे तीसरे दिन कोई न कोई आता था. और भाभी मेरे पास ही खाने पिने की चीजें मंगवाती थी. मुझे अब पूरा डाउट सा होने लगा था की भाभी साली ऐसे कौन सा काम करती हे की उसे घर पर मीटिंग के लिए मिलने लोग आते हे.

और एक दिन मैंने कीहोल से देखा तो अन्दर का द्रश्य देख के मेरे होश ही उड़ गए. अन्दर सोफे के ऊपर भाभी बिच में बैठी हुई थी. वो दोनों भाभी के बालों में हाथ घुमा रहे थे और उसके बूब्स से खेल रहे थे! इसका मतलब साफ़ था की मीटिंग के बहाने भाभी घर में पराये मर्दों के लंड लेती थी.

मैंने पूरा सिन देखा. अब वो दोनों भाभी के हाथ के ऊपर किस करने लगे. फिर वो दोनों ने भाभी को बहुत किस किये. भाभी ने दो घंटे तक दोनों से दो बार अपनी चूत मरवाई. मैं बिच बिच में इधर उधर हो आता था और फिर से भाभी के गंदे काम को देखता था.

चुदाई के बाद भाभी ने अपने कपडे पहन लिए और वो दोनों भी कपडे पहन के खड़े हो गए. उन दोनों में से एक ने मेरी भाभी को पैसे की एक गड्डी दे दी. मैं समझ गया की अब मेरी भाभी ने अपनी चूत चुदवाने का धंधा चालु कर दिया हे पैसे के लिए!  और यहिव वजह थी की उसके चारों तरफ पैसे की चमक दमक दिख रही थी. मैंने शाम को भैया आये तो उन्हें एकांत में ले जा के भाभी के इस गंदे काम की बात कर दी! भैया भाभी के पास गए.

भैया: निन्नी, तुमने कब से ये नीच काम चालू करदिया! तुमको जरा भी शर्म नहीं आई ये सब करते हुए और तुम्हारी इतनी हिम्मत की घर के अदर ही ये सब करती हो.

भाभी ने भी तड़ाक से भैया को मुहतोड़ जवाब दे दिया, और बोली: और तुम कौन से शर्म के भरे हुए हो. बीवी को खर्ची के पैसे शादी के बाद कितनी बार दिए? सब्जी, और चावल के सिवा भी काम होता हे वाईफ को. अरे झांट बनाने के लिए क्रीम के पैसे भी तुमने एक बार दिए हे क्या मुझे जो अब शराफत की भाषण मुझे देने आ गए हो! और अब जब मैं कमाने लगी हूँ तो गांड जल गई हे तुम्हारी!

ये सुन के भैया को बड़ा गुस्सा आया और उन्होंने मेरी भाभी को खूब पिटा. भाभी को मार मार के भैया ने उन्के गाल सुजा दिए.

भैया: साली रंडी बोल धंधा करेगी आगे से?

भाभी: आगे से भी करुँगी और पीछे से करुँगी, और अब तो और भी करुँगी.

भाभी को फिर से मारा भैया ने. शाम को भाभी सीधे पुलिस स्टेशन चली गई और उसने पुरे घर के लोगो के ऊपर दहेज़ की दफा लगवा दी! भैया ने भाभी को खूब मारा था और जो निशान बने हुए थे वो सबूत का काम कर गए. और भाभी ने बहुत पैसे कमाए थे इसलिए कुछ पैसे उसने पुलिसवालों को दे दिया. कुछ ही देर में दरोगा हमारे घर आ गए और उन्होंने भैया, मेरे पापा और मुझे दनादन लाठियों से खूब मारा. हम लोग सभी बहुत डरे हुए थे पुलिस से. पुलिस वाले हमें पकड़ के ले गए. और फिर तिन दिन के बाद निन्नी भाभी ने ही हमारी जमानत भी करवाई और छुड़ा के घर ले आई.

कुछ ही दिनों के अन्दर मेरे घर के सभी लोग भाभी से बहुत डरने लगे थे. भैया भाभी को अब घर से निकाल भी नहीं सकते थे, ना ही उन्के ऊपर हाथ उठा सकते थे. भाभी ने तो भैया को कह दिया की देखो मेरे कुछ क्लाइंट्स बहुत ऊपर तक पहुँच वाले हे. अगर कुछ इधर उधर किया तो मैं पिटवाउंगी तुम्हे उन लोगों से. अब घर की मालकिन मेरी भाभी हो गई थी और हम सभी लोग उन्के नोकर.

और फिर भाभी से मिलने के लिए दो दिन के बाद 2 मर्द आये. भाभी ने मुझे बुला के पैसे दिए और बोली जा इनके लिए कुछ नाश्ता ले आओ. मेरा भी मन कर रहा था की मैं भाभी के साथ कुछ करूँ. वो दोनों मर्द अपने हाथ बियर की बोटल्स ले के आये थे. भाभी ने ही उन्हें बियर निकाल के दी और अन्दर बर्फ डाली.

दोनों में से एक आदमी अपने सिने के ऊपर एकदम स्टाइल से हाथ घुमा के कहा, निन्नी डार्लिंग आज की दोपहर को रंगीन कर दो हमारे लिए.

दूसरा बोला: हाँ निन्नी मेरी जान, आज हम दोनों को खूब चुदाई का मजा दो. पैसे हम तुम्हे खूब देंगे मेरी जान.

वैसे भाभी को ये सब करते हुए देखना मेरे लिए कुछ नया नहीं था. मैं छोटा था उम्र में लेकिन भाभी के अंग अंग में भरी हुई चुदाई की प्यास को मैं देख सकता था. भाभी पैसे के लिए तो चुदवाती ही थी. और शायद उसे अपनी यौवन की प्यास बुझाने के लिए भी उसके क्लाइंट्स की जरूरत थी. मेरा लंड भी अब भाभी को चोदने के लिए खड़ा हो रहा था.

अब वो दोनों मर्दों ने मेरी भाभी को नंगा करना चालू कर दिया. पहले एक ने भाभी के ब्लाउज के बटन खोले और फिर ब्रा भी उतार दी. फिर वो भाभी के दूध को चूसने लगा.

“वाह निन्नी तेरे बूब्स तो बड़े ही सेक्सी और कसे हुए हे, धंधेवालीयों के चुंचे ऐसे नहीं होते हे!”

दुसरे ने भी भाभी की दुसरे दूध को अपने मुहं में दबा लिए. भाभी के दोनों निपल्स उसके इन क्लाइंट्स के मुहं में थे और वो चूस रहे थे. भाभी ने दोनों के माथे पकड के अपने दूध के ऊपर दबा रही थी. मेरे मन में ख़याल आया की अगर मेरे पास भी बहुत सब पैसे होते तो मैं अपनी भाभी को चोदने के लिए पैसे देता! अब भाभी ने सोफे के ऊपर बैठ के दोनों क्लाइंट के लंड को अपने हाथ में पकड़ लिए और उन्हें हिलाने लगी. भाभी एकदम ही क्लासिक रंडी लग रही थी ऐसे में. उन दोनों ने अपनी पेंट की ज़िप खोल के लंड को बहार निकाल दिए निन्नी भाभी की सहूलियत के लिए. भाभी दोनों को कस कस के हिला रही थी.

भाभी की ये असली धंधेवाली जैसी हरकत से उसके दोनों क्लाइंट को बड़ा ही मजा आ रहा था. वो दोनों अभी भी मेरी निन्नी भाभी के दूध को पी रहे थे. भाभी के अन्दर चुदास और अन्तर्वासना ऐसी चढ़ी थी की वो अपने होंठो को दांतों से काट रही थी. फिर वो दोनों ने भाभी को खड़ा कर के उसकी साडी और बाकि के कपडे खोल के पूरा नंगा कर दिया.

फीर दोनों में से एक बोला, चलो ना मेरी जान मस्त गांड हिला के डांस कर के दिखाओ.

दुसरे ने भी उसकी हाँ में हां मिलाई.

भाभी ने अपनी टीवी के ऊपर एक इंग्लिश गाना लगा दिया और वो अपने बड़े चूतडों को हिला हिला के नाचने लगी. वो दोनों भाभी का नंगा नाच देख के बड़े पागल हो गए और अपने लंड का मर्दन करने लगे. वो दोनों साथ में बियर पी रहे थे. जैसे जैसे उन्के ग्लास खाली होते थे तो भाभी उसके अंदर और भी बियर डाल देती थी.

भाभी अपने थिरकते हुए बदन दिखा के ही दोनों के लंड को आधे मदहोश कर चुकी थी. और फिर भाभी बोली, बोलो दोनों में से पहले किसका चुसुं?

पहले वाला बोला, डार्लिंग हम दोनों साथ में चोदने आये हे कोई पहला या दूसरा नहीं हे. दोनों को साथ में चुसो!

भाभी घुटनों के ऊपर बैठ के दोनों के पास बिल्ली के जैसे क्रॉल कर के आई. दोनों के लंड एकदम कडक थे. वो दोनों के लंड को भाभी मजे से चूसने लगी. कभी वो पहले वाले के लौड़े को चुस्ती थी और फिर दुसरे वाले के लौड़े को भी.

निन्नी भाभी ने दोनों के लंड को थूंक से लथपथ सा कर दिया कुछ मिनिट में ही. और वो दोनों की ऐसी सिसकियाँ निकल रही थी जैसे मेरी धंधेवाली भाभी उन्हें चोद रही हो ना की वो भाभी को.

और फिर निन्नी भाभी ने एक के लौड़े को मुठी में बंद कर के उसे मुठ मारी. फिर वो खड़ी हुई और उसके लंड के ऊपर बैठ गई धीरे से. क्लाइंट का लंड आराम से उसकी चूत में घुस गया. निन्नी भाभी ने एकदम मजे से अपनी गांड को ऊपर उठा के वापस निचे कर दी. भाभी की सेक्सी गीली चूत में क्लाइंट का लंड फिट बैठ गया था. अब वो भाभी के दूध को मसल रहा था. दुसरे वाला उस वक्त बियर पीते हुए अपने लंड को हिला रहा था.

निन्नी भाभी उछल उछल के उसके लंड को अपने बुर में डलवा के निकलवाती थी. और वो अपने बूब्स और गांड को ऐसे सेक्सी ढंग से हिला रही थी. दुसरे वाले ने फिर खड़े हो के कहा, निन्नी मैं गांड मारूंगा तुम्हारी!

निन्नी भाभी ने आँख मार के कहा, आजा ना!

वो सोफे के आगे आया और अपने लंड को उसने निन्नी भाभी की हिलती हुई गांड पर लगा दिया. फिर थोडा बियर डाल के उसने अपने लंड को गांड में घुसेड दिया. एक लंड आगे चूत में लिया था भाभी ने और पीछे दुसरे लंड को डलवा के वो गांड भी मरवा रही थी.  तीनो को इस सेक्स का बड़ा मजा आ रहा था.

अब कुछ देर ऐसे चोदने के बाद दोनों क्लाइंट ने अपनी जगह बदल ली. जो गांड मार रहा था वो चूत में घुसाने लगा. और चूत में डाल के खड़े हुए क्लाइंट ने गांड में दे दिया.

मस्त चुदाई की मस्ती की मस्ती पूरी 20 मिनिट तक चली. और फिर दोनों ने अपने लंड निकाल के निन्नी भाभी के छेदों से बह रहे वीर्य को देखा. निन्नी भाभी ने टिश्यू ले के अपनी चूत और गांड को साफ़ कर ली.

वो दोनों अपने कपडे पहनने लगे. मैं भी वहां से हट गया.

दोस्तों भाभी का घर पर पूरा कंट्रोल हे और वो नए नए क्लाइंट को घर पर लाती हे. और उन्के लंड भैया वाले बेडरूम में लेटी हे!

loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age