मुहबोली बहन की चुदाई

मेरा नाम अंकित है और मैं चंडीगढ़ में रहता हूं. मेरी उम्र २५ साल है और लंड इंच लंबा और २.५ इंच मोटा है. इस स्टोरी में मैं आप को बताऊंगा कि मैंने कैसे प्रिया नाम की लड़की को पहले अपनी मुंह बोली बहन बनाया और फिर उसकी चुदाई भी कर दी.

यह बात एक साल पहले की है मैं फेसबुक के माध्यम से  प्रिया का फ्रेंड बना था. प्रिया की उमर २१ साल की थी और फिगर ३४-२५-३६ था. उसकी बॉडी इतनी सेक्सी  थी कि उसे हाथ लगाते ही मजा आ जाए. उसका बदन गोरा चिट्टा था और मम्मे बड़े बड़े थे. फेसबुक पर नॉर्मल से स्टार्ट हुई और फिर हमने नंबर भी एक्सचेंज कर लिए प्रिया मुझे रिस्पेक्ट देती थी और जल्दी ही उसने मुझे भैया कहना शुरू कर दिया.

उसके मुंह से भैया सुनना अच्छा नहीं लगता था पर फिर भी मैंने अपनी फीलिंग पर कंट्रोल रखा. मेरा मन प्रिया को चोदने का था, क्योंकि प्रिया भी चंडीगढ़ में स्टडी कर रही थी, तो जल्दी ही हमने साथ घूमना भी शुरू कर दिया, कुछ मंथ बीत गए और एक दिन हमने आउट ऑफ स्टेशन जाने का प्लान बनाया.

फाइनली कुल्लू जाना डिसाइड हुआ. वीकेंड पर हम कुल्लू के लिए निकल पड़े. हमने रात को नाइट सर्विस वाली बस में स्लीपर कोच ले लीया. रात के ९ बजे बस चंडीगढ़ से चल पडी. मैं और प्रिया एक ही स्लीपर बोक्स में थे.

मैंने पर्दा लगा लिया, मैं मन ही मन सोचने लगा इसे कैसे पटाऊं? कुछ देर बातें करने के बाद प्रिया को नींद आने लगी और वो लेट गई मेरी तरफ अपनी गांड करके. सोते हुए प्रिया बहुत हॉट लग रही थी और क्योंकि मेरी पूरी उसके साथ टच रही थी  तो मेरा लंड तन कर खड़ा हो गया. १० मिनट बाद मैं प्रिया की गांड की तरफ मुंह करके लेट गया. ११ बजे बस्ती की लाइट ऑफ हो गई और मेरे दिमाग की लाइट ऑन हो गई. मैंने धीरे से अपना हाथ प्रिया की बूब्स पर रख दिया और प्रिया के साथ सट कर लेट गया.

मिनट बाद मैंने अपना हाथ धीरे से प्रिया की टी शर्ट में डाला. जैसे ही मेरी उंगलियों ने प्रिया के सॉफ्ट  बूब्स को टच किया मेरे अंग अंग में करंट दौड़ गया. वासना मेरे दिमाग पर छा गई थी, मेरी उंगलीया प्रिया की निप्पल तक पहुंच गई थी. प्रिया अभी भी सो रही थी. इधर मेरा लंड नीचे से प्रिया की गांड पर घुसने को बेकरार था. उसकी गांड के साथ सटा हुआ था. कुछ देर बाद प्रिया की नींद खुली थोड़ी सी मैं डर गया और हाथ उठा लिया मैंने आंखें बंद कर ली, प्रिया ने करवट ली और पीठ के बल लेट गई.

उसके बाद मैंने अपनी एक टांग उसकी की टांग पर रख दी और अपने हाथ उसके बुब्स पर रख दिया, मैंने उसके बूब्स को हल्का सा प्रेस किया तो प्रिया के मुंह से सिसकारी निकल गई मैं समझ गया यह भी मजे ले रही है. मैंने धीरे से उसकी टी शर्ट ऊपर की और उसके बुब्स को मसलने लगा, प्रिया गरम आहें भर रही थी. यह देख कर मैं जोश में आ रहा था, मैंने अपनी टी शर्ट और लोअर उतार दिया धीरे से.

फिर मैंने प्रिया कि टी शर्ट पूरी ऊपर कर दी और उसकि ब्रा की हुक खोल दी. हुक खुलते ही ब्रा को मैंने निकाल दिया. फिर मैं उसकी ब्रा को कीस करने लगा और मेरा लंड सेक्स के लिए पागल होने लगा. मैंने धीरे धीरे प्रिया के बूब्स चूसना शुरू किया. प्रिया आंखें बंद करके सिसकारियां भर रही थी.

१५-२० मिनट बूब्स चूसने के बाद मेरे से रहा नहीं गया और मैंने अपना अंडरवेअर भी उतार दिया और एकदम प्रिया के ऊपर आ गया.

अब मैं प्रिया की चुदाई हर हालत में करने वाला था. मैं जट से प्रिया की शोर्ट पैंटी के साथ ही घुटनों से नीचे कर दी और अपने लंड को प्रिया की चूत पर टिका दिया. मेरी इस हरकत से प्रिया सहम गई और उसने आंखें खोल दी और बोली भैया नहीं यह गलत है. लेकिन मेरे पर हवस का शेर सवार था. मैंने आव देखा ना ताव प्रिया का मुह मेने अपने लिप से बंद कर दिया और एक जोर का झटका मारा और लंड को प्रिया की चूत में डाला तो लंड फिसल गया क्योंकि प्रिया वर्जिन थी और उसकी चूत की सील भी बंद थी.

यह पता चलते ही मैंने डबल जोर से धक्का मारा लंड से. मेरा लंड प्रिया की चूत की सिल तोड़ता हुआ आधा अंदर घुस गया, प्रिया तड़पने लगी और उसकी आंखों से आंसू आने लगे. पर मेरा मन मस्त चुदाई का था. मैंने फिर जोर से झटका मारा और मेरा लंड प्रिया की चूत को चीरता हुआ अंदर घुस गया.

वह तड़पने लगी और मैने लंड  अंदर बाहर करना जारी रखा, मैंने स्पीड बढ़ा दी. प्रिया के मुंह से आवाज आने लगी दर्द हो रहा है कमीने… उतर जा निकल रहा था धीमा धीमा क्योंकि मैंने उसका मुह में अपने लिप्स से कवर किया हुआ था. मैंने कहा प्रीया चुप करो. मुझे तुम्हें चोदने दो. प्रिया बोली आप मेरे भाई हो.. ऐसा मत करो.. प्लीज रुक जाओ. मैं नहीं रूका और मैंने प्रिया की १० मिनट तक चुदाई किया.

१० मिनट बाद प्रिया का दर्द कम हुआ और वह इंजॉय करने लगी. ऊऊहो अह्ह्ह ओह्ह एस मुझे चोद और चोद दिया अपनी बहन को और चोद साले फक मी बेबी इस से मेरा जोश बढ़ गया और मैंने और जोर से चोदना शुरू कर दिया. २५ मिनट की चुदाई के बाद मैं और प्रिया ठंडे हो गए. पर मेरा मन अभी नहीं भरा था. १० मिनट में प्रिया के बूब्स का रस पिता रहा और १० मिनट में मेरा लंड खड़ा हो गया.  मैंने लंड को प्रिया से मुंह में डाल कर चुसवाया.. प्रिया के होंठ लगते ही लंड एकदम टाइट हो गया.

मैंने प्रिया को जट से उल्टा किया और उसकी गांड पर लंड टिका दिया. वह कुछ समझ पाती उससे पहले ही मैंने खुशामत मार कर लंड उसकी गांड में घुसा दिया.. प्रिया की गांड दर्द से फट गई.. मैंने उसके मुंह पर हाथ रखा और १० मिनट उसकी गांड की चुदाई की. १० मिनट बाद मेरा फिर छूट गया. मेरे हटते ही प्रिया सीधी हुई और मुझे दो तीन थप्पड़ मार दिए.. मैंने प्रिया को अपनी बाहों में भर लिया और उसके साथ लिप लॉक कर लिया..

१५ मिनट स्मूच के बाद मैंने फिर प्रिया की चुदाई की. बजे तक चोदने के बाद हम दोनों थक कर सो गए. सुबह कुल्लू पहुंच कर मैंने होटल रूम और बाथरूम में फिर प्रिया की चुदाई की.. हर वीकेंड में उसे चोदता हूं.. अपने फ्लैट पर बुलाकर. दुनिया के लिए हम भाई बहन हैं लेकिन असल में हम दोनों सेक्स के भूखे बदन है. मैं एक साल से अपने मुंह बोली बहन प्रिया को चोद रहा हूं.. और आगे भी लड़कियों को बहन बनाकर चोद दूंगा..