नाईटी खोल चाची को चोदा

वो २०१५ के दिसम्बर का महिना था और मैं अपने चाचा जी के यहाँ रहने के लिए गया था. मेरे चाचा के व्यापारी हैं जिसकी वजह से वो अक्सर अपने घर से बहार रहते हैं. मैं अपनी चची के बारे में आप लोगो को पहले बता दूँ. वो दिखने में बहोत सुन्दर हैं और उनको देखने के बाद किसी का मन भी कर जाए अपने लंड को हिलाने को. उनका काम्प्लेक्न फेयर हैं और हाईट भी अराउंड ५ फिट ४ इंच की हैं.

और मेरी इस चाची की फिगर तो एकदम ही फाडू हैं अराउंड 32 30 34 की. और चाची नॉर्मली काफी टाईट कपडे पहनती हैं जिस से उनके बूब्स बहार की तरफ निकलते रहते हैं..

दिसम्बर के मंथ की ठंड थी और चाचा जी किसी काम से लुधियाना गए हुए थे. एक दिन किया हुआ मेरी चाची ने कहा आजा बेटा तू मेरे कमरे में चल सोने के लिए. क्यूंकि हमारी पूरी फेमली चाचा के यहाँ शिफ्ट हुई थी तो हमारे रूम में थोड़ी जगह कम थी क्यूंकि काफी सामान भी रखा हुआ था.

तो उनके कहने पर मैं उनके साथ सोने के लिए चला गया. लेकिन उस वक्त मेरे दिल में कोई गलत इरादा नहीं था अपनी चाची को चोदने का. जिस रात मैं चाची के कमरे में सोने गया तो जब मैंने उन्हें नाईटी में देखा मेरा मन उसी दिन चाची को चोदने का करने लगा. फ्रेंड्स क्या बताऊँ वो क्या माल लग रही थी विथ कट स्लीव्स नाइटी एंड डीप क्लीवेज जिसमे से उनके चुंचे आधे से भी उपर बहार दिख रहे थे.

तो उस रात क्या हुआ मैंने अपनी चाची को बिच में सोने के लिए मन कर दिया वरना वो ज्यादातर कोने में सोती हैं और बिच में उनका लड़का सोता हैं. उस रात मुझे पूरी रात चाची को चोदने के सपने आते रहे. ऐसे ही एक दो दिन चलता रहा और मैं चाची की चूत चूसने के लिए और चोदने के लिए बेताब सा हो गया था. लंड को हिलाने की एवरेज की भी माँ बहन हो गई थी. नॉर्मली हफ्ते में ३-४ बार मुठ मारता था मैं लेकिन अब तो दिन में १-२ बार हाथ से हिलाना पड़ रहा था

फिर एक दिन मैंने देखा की मेरी चाची ने कपबोर्ड के पीछे जा के अपनी पेंटी उतारी और यह देखते ही मेरी नजर चाची की नजर से मिल गई और उन्होंने कोई रिएक्शन नहीं दिया. उस रात वो नॉर्मली मेरे साथ सोने आ गई बट कुछ रिएक्शन नहीं दिया तो मैं भी नॉर्मली सोने की एक्टिंग करने लगा. रात के करीब २ बजे मुझे महसूस हुआ की कोई मेरे लंड को टच कर रहा हैं. मैंने जब हलकी सी मूवमेंट कर के देखा तो पता लगा की चाची अपने गांड को मेरे पर टच करा रही थी और उनका पेट भी खुला हुआ था.

मैंने इस बात का पूरा फायदा उठाया और अपने एक हाथ से चाची की कमर को पकड ली और फिर मैंने अपना एक पेर चाची के पैरो के बिच में डाल दिया जिस से उन्हें लगे की मैं सो रहा हूँ. अब मेरा लंड चाची की गांड को टच हो रहा था और वो पूरा कडक भी था.

ऐसे ही १०-१५ मिनिट चलता रहा. फिर चाची ने हिम्मत कर के मेरे हाथ को अपने हाथ से खिंच के अपने कडक बूब्स पर रख दिया. नाईटी के अन्दर उसने कोई ब्रा नहीं पहनी थी और नाईटी का सिल्की टच और उनके चुन्चो का मखमली टच मुझे और भी उत्तेजित कर रहा था. मैंने हलके हाथ से चाची के बूब्स का मर्दन चालू कर दिया क्यूंकि चाची की प्यासी चूत का सिग्नल मुझे मिल चूका था. चाची हलकी सिसकियाँ ले रही थी और मैं उसके बूब्स के साथ साथ उसकी निपल्स को भी अपनी उँगलियों से नचा रहा था.

चाची ने अब करवट बदली और हम दोनों की आँखे मिली. वो कुछ कहती उस के पहले ही मैंने अपने होंठो को उनके होंठो से लगा के किस कर लिया. चाची भी किस में मेरा साथ दे रही थी और मेरा बूब्स दबाना तो चालू ही था उस वक्त भी. मैंने चाची के एक हाथ को पकड़ के अपने लंड पर रख दिया. चाची ने कुछ नहीं किया बस मेरे लंड को मुठी में बंध कर लिया. थोड़ी देर किसिंग करने के बाद मैंने अपना एक हाथ चाची की चूत पर रखा नाईटी के ऊपर से और पाया की चाची की चूत पूरी गीली हो गई थी.

फिर मैंने नाईटी के ऊपर से ही उनकी चूत को सहलाना चालू कर दिया और वो पागल हुए जा रही थी. फिर उन्होंने मुझे ६९ पोज़ीशन के लिए कहा तो मैं फट से मान गया. चाची मेरे लंड से खेल रही थी और मैं उनकी चूत को प्यार कर रहा था. चाची की चूत एकदम क्लीन शेव्ड थी बिना किसी बाल के और छेद भी एकदम कसा हुआ यानि की टाईट था.

मैंने जैसे ही उनकी चूत में ऊँगली डाली तो उनकी एकदम चीख निकल गई और वो दर्द से रोने लगी. पर मैं भी कहा रुकनेवाला था मैं भी उनकी चूत के अन्दर ऊँगली को घुमाने लगा और फाइनली एक टाइम आ गया जब मैंने उनका जी-स्पॉट ढूँढ लिया और वो मदहोश सी हो गई.

अब वो बोलने लगी की मयंक तू ही आज मेरी चूत की प्यास को बुझाएगा तेरे चाचा तो मेरे लिए टाइम ही नहीं निकालते हैं. फिर मैं भी नार्मल पोजीशन में आ गया और चाची को बेड पर लेटे आगे की तरफ मोड़ लिटा और उनकी टाँगे खुलवा दी. अब मैंने चाची की नाईटी को उतार दिया. चाची नाईटी के अन्दर पूरी नंगी थी. उनके बदन से लेडीज़ परफ्यूम की महक आ रही थी जो एकदम होर्नी फिलिंग दे रही थी मुझे. मैंने अपने लंड को पहले थोडा चूत के ऊपर घिसा जिस से चाची जोर जोर से सिसकियाँ रही थी. फिर मैंने अपने लंड को हलके से अन्दर किया तो चाची ने जोर से सिसकियाँ लेना चालु कर दिया और उसकी साँसे भी बढ़ गई थी वो बोलने लगी मयंक फक मी हार्ड, आज मुझे अपनी रानी बनाकर छोड़ो बस, आह्ह्ह अन्दर डालो इसे मुझे बहुत मजा आ रहा हैं. मैंने चाची के निपल्स को अपने मुहं में भरा और अपने लंड का जोर का ज़टका दे दिया. चाची मुझसे लिपट पड़ी और मुझे बेतहाशा कंधे पर, होंठो पर, नाक पर, गाल पर चुम्मे देने लगी. मेरा लंड पूरा चाची की प्यासी चूत में था!

चाची को मैंने अपने से दूर किया और अपने कमर से झटके देने लगा. चाची भी मस्तियाई हुई थी और वो अपनी कमर को हिला के झटके ले रही थी अपने बुर के अन्दर. चाची जोर जोर से कुल्हे हिला के कह रही थी, और जोर से मयंक, और जोर से मारो अपना लौड़ा मेरे अन्दर.

मैंने चाची का कन्धा पकड़ा और उसको एकदम हार्ड फक करने लगा. चाची ने अपना बुर पूरा खोला और लंड के ज़टके खा गई. १० मिनिट की चुदाई के बाद मेरा निकलने को था. मैंने चाची से पूछा, कहा निकालू अपना माल चाची जी?

चाची ने कहा, मुझे तुम्हारे वीर्य की गर्मी अपने अन्दर महसूस करनी हैं. और मुझे तुम्हारे बच्चे की माँ भी बनना हैं.

मैंने चुदाई की स्पीड बढ़ा दी और फिर मेरे लंड का सब पानी चाची की चूत में ही छोड़ा, गर्म गर्म पानी चूत में ले के चाची ने मुझे कस के अपनी बाहों में जकड़ लिया. २ मिनिट के बाद मेरा लंड जब सिकुड़ के अपनेआप उसकी चूत से निकला तो चाची ने उसे चाट के साफ़ कर दिया. मैंने चाची को मस्तक पर चूम के कहा, आई लव यु चाची जी.

चाची ने नाइटी पहनते हुए कहा, आई लव यु टू मयंक, आज से मैं तुम्हारी गर्लफ्रेंड हूँ अब चाची मत कहना, चाची सब के सामने कह सकते हो लेकिन अकेले में डार्लिंग कहो, या फिर मुझे नाम से बुलाओ!

दोस्तों उस फर्स्ट नाईट में ही मुझे चाची की गांड बी मारने को मिली थी. अब मैं अक्सर उसे चोदता हूँ, चाची की एक बेस्ट फ्रेंड जानकी को भी मैंने चोदा हैं जिसकी कहानी फिर कभी आप को बताऊंगा!

10 Replies to “नाईटी खोल चाची को चोदा”

  1. Hii I am 40y clean shave decent male from Delhi and I have gud experience 3sum with my nice couple frnds I am interested in couple for 3sum or single female for 1on1 plz add or whatsup me if u interested in me 8375861021

Comments are closed.