पड़ोसन मल्लू लेडी के साथ पहला सेक्स

loading...

हेल्लो दोस्तों मेरा नाम राहुल है और मैं बंगलौर सिटी से हूँ. आज मैं अपनी एक देसी सेक्स कहानी ले के आया हूँ आप लोगो के लिए. मैं बंगलौर में सर्जापुर में रहता हूँ. आज की ये कहानी मेरे पड़ोस में रहने आई एक नयी पड़ोसन की है जिसको मैंने चोदा था. वो सेक्स लाइफ से खुश नहीं थी और मेरा लंड ले के उसे शान्ति सी मिल गई थी.

तो जब वो पहले ही दिन अपना सामान पैकर्स और मूवर्स वालो के साथ सामान उतरवा रही थी तब मैंने उसको देखा था. और उसने भी मुझे देखा ब्रीफ मोमेंट के लिए. और फिर कुछ दिन निकल गए और मैं कभी कभी उसको देख पाटा था. और मुझे इन दिनों में पता चला की उसके दो बच्चे है. और वो उन्हें ड्राप और पिक करने के लिए बस स्टॉप पर आती थी.

loading...

कहानी में आगे बढ़ने से पहले उसके बारे में बता दूँ आप दूँ. वो दिखने में एकदम खुबसुरत थी. करीब 5 फिट 8 इंच की हाईट थी. और वो एक मल्लू औरत थी. और उसके बदन के कर्व्स एकदम मस्त थे उसकी उम्र के हिसाब से. वैसे दो बच्चे होने के बाद बदन लचीला हो जाता है लेकिन इस औरत के किस्से में ऐसा नहीं था.

loading...

एक दिन मैंने सोचा की इस लेडी के साथ आज तो इंट्रो कर ही लेना है. और जब वो काम्प्लेक्स की तरफ जा रही थी तो मैने उसे देख के स्माइल दी और अपना परिचय दिया. उसने अपना नाम दिव्या बताया और बोली की मैं हाउसवाइफ हूँ. मैंने एज पूछी तो बोली की एक औरत को कभी उसकी एज नहीं पूछते है! हम दोनों हंस पड़े. उसने बताया की मेरे हसबंड जॉब करते है और मेरे दो बच्चे है.

थोड़ी ऐसे ही बात हुई और मैंने उसको हेल्प ऑफर की और अपना नम्बर दे दिया. उसने भी अपना नम्बर मुझे दिया और फिर थोड़ी कैसुअल बातें हुई हमारी.

उसने फिर मुझे मेरे बारे में पूछा की मैं क्या करता हूँ. तो मैंने कहा की मैं 20 साल का हूँ और अपनी बिजनेश की डिग्री के लिए पढाई कर रहा हूँ. उसने कहा अच्छी बात है.

मैं उसके साथ बाते करते हुए उसके बड़े नारियल के जैसे बूब्स को ही देख रहा था जो कपडो के पीछे भी छिपाए नहीं छिप रहे थे. और जब वो चलती थी तो उसकी गांड इतनी बड़ी और सेक्सी लगती थी की पीछे से लंड को अन्दर पार्क कर के पूरा दिन गांड को चोदा जाए. वो इस उम्र में भी एकदम फीट थी.

और कभी कभी मैं जब उसके घर के पास से गुजरता था तो अन्दर से लड़ने की और चिल्लाने की आवाजें आती थी. और मुझे पता चला की उसकी और उसके हसबंड के बीच में अक्सर लड़ाई होती रहती थी.

एक दिन मेरे से रहा नहीं गया. मैंने उसके हसबंड को ऑफिस जाते हुए देखा और उसको मेसेज किया व्हाटसएप्प पर. और मैंने उसे पूछा लड़ाई के बारे में. लेकिन उसने उस बात का कोई भी जवाब नहीं दिया मुझे.

और उस दिन ही मैंने लेटर ओन और वो बहुत ही उदास लग रही थी. मैंने उसे पूछा तो उसने बोला की मैंने मेसेज देखा तो था लेकिन जवाब देना का=इ सिचुएशन नहीं थी.

मैंने उसको पूछा की क्या हुआ था और क्या वो ठीक है. तो उसने कहा की चलो मेरे घर में चल के ही बात करते है,

और वो मुझे ले के अपने घर में चली गई. उसने मुझे बताया की मेरी और मेरे हसबंड की बनती नहीं है और उसकी वजह से वो बहुत दुखी थी. उसने मुझे बोला की मेरे पति लेट आते हैं काम से और जब वो आते है तो एकदम से थके हुए होते है और सो ही जाते है और मेरा ध्यान नहीं रखते है.

मैं समझ गया की वो क्या कह रही थी. उसे वो एक्शन नहीं मिल रहा था. वो एकदम इमोशनल हो गई थी इसलिए मैंने उसे एक टाईट हग दिया. और वो बहुत खुश थी की मैंने उसके साथ आराम से बात की. तो मैंने उसको कहा की आप को कुछ भी काम हो मेरे को बता देना मैं यही पर हूँ आप के लिए. और फिर मैं उसके घर से चला आया अपने घर पर.

अगले दिन मुझे उसका मेसेज आया और उसने बोला की मैं घर पर अकेली एकदम बोर हो रही हूँ. उसका हसबंड जॉब पर था और बच्चे स्कुल में गए हुए थे. उसने मुझे बोला की तुम चाहो तो मेरे घर पर आ सकते हो.  उसने कहा मेरे घर पर ही आ के लंच कर लो और हम मूवी देखेंगे बाद में. मैं वैसे ही फ्री था इसलिए मैं चला गया. मन में ये भी था की चांस मिला तो उसे चोद भी लूँगा. मैं मस्त नाहा के उसके घर गया था, अच्छे कपडे डाले थे और परफ्यूम भी जाने से पहले पहले. मुझे आज अंदर से लग रहा था की कुछ होगा!

उसके घर पहुँच के मैंने डोर को नोक किया. उसने दरवाजा खोला और आज वो एकदम मस्त ब्लेक साडी में थी. और बड़ी ही सेक्सी लग रही थी. मैंने उसको पूछा आप कही जा रही हो क्या? तो उसने कहा नहीं बस मुझे साडी पहनना अच्छा लगता हैं इसलिए पहनी हुई है.

उसने मुझे बैठने के लिए कहा और फिर हम बातें करने लगी. और मैंने आज दो तिन बार उसकी खूबसूरती की तारीफ़ की तो उसे ब्लशिंग आने लगी थी. और फिर मैं हिम्मत कर के उसकी तरफ सरकने लगा था. और फिर मैंने एकदम डरते हुए उसको कहा की मैं आप को एक हग देना चाहता हूँ. वो मान गई और मेरे साइन से लिपट गई.

और उसने मुझे छोड़ा ही नहीं. और मैंने उसकी नावेल को हाथ से सहलाने लगा. और उसके मुहं से हलकी हलकी सी मोअन निकल रही थी जैसे की उसे भी ये सब अच्छा लग रहा था. मुझे जैसे आगे बढ़ने के लिए ग्रीन सिग्नल मिला हुआ था तो मैंने अब उसको एक किस कर लिया. पहले पहले उसने थोडा रेसिस्ट किया लेकिन फिर मुझे किस करने दी.

और फिर वो मुझे अपने रूम में ले के गइ और मैंने उसे वहां पर भी बहुत किस की. फिर उसकी साड़ी उतारी और ब्लाउज को भी. उसके बूब्स कदम परफेक्ट साइज़ के थे जिसके ऊपर डार्क निपल्स थी जिसे कोई भी चुसना चाहेगा.

मैंने भी बिना कोई वक्त गवाए उसके बूब्स को चूसा और उसे मोअन करने पर मजबूर सा कर दिया. अब इस मल्लू लेडी ने मेरा अंडरवियर निकाला और निचे झुक के बड़े ही प्यार से मेरे लंड को चूसने लगी. वो लंड के साथ साथ मेरे अंडकोष भी मुहं में ले के मजे दे रही थी.

अब मैंने उसकी पेंटी को निकाल दिया उसकी चूत इतनी मस्त थी की मुझे खाने का मन हो गया. वो क्लीन शेव्ड नहीं थी लेकिन एकदम साफ़ सुथरी जरुर थी. मैंने अपनी जबान को उसकी चूत में घुसा दिया और उसके अन्दर से निकलते हुए ज्यूस के साथ चाटने का मजा लेने लगा. वो मेरा लंड अपनी चूत में लेने को बोली तो मैंने कहा सोरी मैं कंडोम तो लाया ही नहीं. वो बोली बिना कंडोम के ही कर लो कोई बात नहीं, मुझे पता है की तुम गंदे नहीं हो.

मैंने अपने लंड को उसकी सेक्सी चूत पर लगाया और हलके से पुश किया. उसका पति उसे उतना चोदता नहीं था इसलिए उसका छेद एकदम टाईट ही था. मैंने उसके कंधे पकडे और जोर का धक्का दिया. वो कराह उठी और अपने दर्द को दबाने के लिए उसने अपने होंठो को दांतों के निचे दबा दिया. मेरा लंड उसकी चूत में जा घुसा था और वो जोर से अह्ह्ह्ह अह्ह्ह उईईइ अम्म्मम्म्म्म अह्ह्ह कर रही थी.

मेरे झटके चालु हो गए और मैं कभी उसके होंठो पर तो कभी उसके बोबो के ऊपर किस करते हुए उसकी चूत को जोर जोर से पेल रहा था. वो भी अपने बदन को मेरे लंड के झटको के साथ हिलाते हुए मजे दे रही थी. उसके नारियेल के जैसे बड़े देसी बूब्स हिल रहे थे जिन्हें देख के मेरा लंड और भी खड़ा होने लगा था.

फिर वो बोली आज बहुत दिनों के बाद मुझे किसी ने इतने मजे दिए है सेक्स के.

मैंने उसके मुहं पर एक किस किया और कहा आप को जब ऐसे मजे लेने हो मुझे बोल देना.

वो खुश हो के अपनी गांड को एक्स्ट्रा झटके दे रही थी. और फिर पांच मिनिट की चुदाई के बाद मेरे लंड का वीर्य निकल के उसकी चूत की संकरी गलियों में बह गया. वो खुश हो के मुझे चूमने लगी. कुछ देर तक हम दोनों ऐसे ही एक दुसरे को चुमते हुए पड़े रहे. और फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत से निकाला तो उसकी एक और आह निकली. वो मुझे बाथरूम में ले गई और मेरे लंड पर साबुन लगा के साफ़ कर दिया सब कुछ उसने. और फिर मैं अपने घर पर आ गया.

दोस्तों इस मल्लू लेडी के साथ मेरा आज भी अफेयर है. और हम दोनों सेक्स के अलग अलग दाव आजमाते रहते है. कभी कभी वो मुझे सुबह से ही अपने घर में घुसा लेती है. मेरे लिए वो डोसा बनाती है और मैं उसे पूरा दिन चोदने के बाद शाम को ही उसके घर से बहार निकलता हूँ. मुझे खर्चा पानी और चुदाई के लिए चूत मिल गई है मस्त!

loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age