साली ने चुदवाया बीवी प्रेग्नेंट थी तब

loading...

अनामिका को सातवाँ महिना जा रहा था. लेकिन वो मइके में नहीं जाना चाहती थी. क्यूंकि वहां पर बाथरूम जाने के लिए सीढियाँ चढ़नी पड़ती थी और उसे प्रेग्नन्सी में ये सब करने के लिए डॉक्टर ने मना किया था. अनामिका की छोटी बहन यानी की मेरी साली बिंदु ने अपना ग्रेज्युएशन ख़त्म कर लिया था. ससुराल वाले उसके लिए लड़का देख रहे थे. और मेरी सास ने उसे यहाँ अनामिका की देखभाल के लिए भेजा था.

वापी में मेरी पोस्टिंग थी एक केमिकल प्लांट में. और कम्पनी वालो ने शहर के बीचोबीच एक अपार्टमेंट के अन्दर मुझे सेकंड फ्लोर के ऊपर एक 3 बीएचके अलोट किया था. हम तीनो के लिए वो जरूरत से ज्यादा ही बड़ा था. अनामिका फर्स्ट टाइम प्रेग्नेंट थी और उसे बहुत सब आशायें थी. मैं भी उसके लिए बहुत सब सीडी वगेरह ले के आता था जिसमे उसे प्रेग्नन्सी रिलेटेड जानकारी मिले. बिंदु ने घर का सब जिम्मा अपने सर उठा लिया था. कामवाली खाना बनाने के सिवा सब काम करती थी. लेकिन वो उसे भी हाथ बटाने लगती थी. सब कुछ सही ही चल रहा था वैसे.

loading...

बस एक तकलीफ थी मुझे! और वो ये की इतने महीनो से मैने सेक्स बिलकुल भी नहीं किया था. और इस वजह से मुझे 15-20 दिनों के बाद हस्तमैथुन कर के अपने लंड के आवेगों को शांत करना पड़ता था. यहाँ दमन पास में ही है जहाँ शराब और शबाब दोनों मिलता है. लेकिन मैं अनामिका को कमिटेड था इसलिए किसी और के साथ सेक्स करना नहीं चाहता था. और हस्तमैथुन इसलिए करता था की कहीं मेरे दिमाग पर ये सब आवेगों का कब्ज़ा न हो जाए.

loading...

दिल्ली और यूपी से बहुत सब स्टाफ था यहाँ प्लांट में. और वो लोग अक्सर बहार रंडीबाजी करते थे. इसलिए वो लोगों के मुहं से अक्सर मुझे ये सब बातें जानने को मिलती थी.

एक दिन शाम के टी ब्रेक में मैं, प्रहलाद भाई और शांतनु बैठे हुए थे. शांतनु मशीन ओपरेटर है और काफी यंग है हमसे. उसने बात निकाली. उसने बताया की कल दमन गया था और वहां एक सेक्सी कोलेज गर्ल की बजाई. प्रहलाद पटेल सूरत के गुज्जू है उन्हें ये सब जानने में बड़ी दिलचस्पी सी थी. इसलिए शांतनु से सब डिटेल पूछने लगे. शांतनु ने उन्हें बताया की वो एक कोलेज गर्ल थी करीब 19 साल की. और कैसे उसने ब्लोव्जोब, और वजाइनल सम्भोग किया वो सब बाते उसने चाय बिस्कुट के साथ बता दी.

ब्रेक ख़त्म हुई और मेरा लंड कडक हुआ. एक घंटा और काम करने के बाद मैं घर गया. नहा तो लिया लेकिन चैन नहीं मिला. सोचा अनामिका के पास जा के माइंड को डाइवर्ट कर लूँ. लेकिन वो सोई हुई थी और बिंदु ने बोला की दीदी अभी 10 मिनिट पहले ही सोयी थी.

मेरा बेड दिन में बगल के खाली कमरे में था. क्यूंकि बिंदु अपनी दीदी के पास में ही होती थी इसलिए मैं दिन में वो कमरे में बहुत कम ही आता था. वहां गया और सोचा की सुस्ता लेता हूँ थोडा सा. लेकिन लेटने पर शांतनु की सेक्सी बातें याद आ गई. और मुझे ना चाहते हुए भी हाथ  का हथियार निकालना पड़ा अपने लंड के लिए!

बस एक गलती कर दी मैंने, दरवाजे को बंद करना भूल गया. और जब लंड को बहार निकाल के हिला ही रहा था की पता नहीं बिंदु कहा से टपक पड़ी. उसने दरवाजा धडाम से खोला और मैं बिस्तर के ऊपर पेंट को घुटनों तक कर के उकडू सा बैठा था और मेरे हाथ में मेरा लंड था. मुझे देख के वो एकदम चौंक गई और उसके मुहं पर उसका एक हाथ आ गया.

वो हंसी को कंट्रोल नहीं कर सकी और बोली, जीजू डोर तो बंद कर दिया करो.

मैंने फट से पेंट पहनी और वो बोली, शाम को चिकन करी बना रही हूँ, आप के लिए चपाटी बनाऊ क्या?

मैंने कहा जैसे तुम्हे ठीक लगे. मेरे जवाब देने की भी हिम्मत नहीं थी. मैं सहम गया था.

वो वहां से चली गई. मेरा दिल जोर जोर से धडक रहा था की कहीं वो अपनी दीदी को ना बोल दे ये सब. मैं उसे समझाने के लिए किचन में गया. उसने चिकन चढ़ाया हुआ था और प्याज काट रही थी. मैं उसके पास गया तो वो अब भी मुझे देख के हंसने लगी.

उसके पास खड़े हो के मैंने कहा, बिंदु, प्लीज दीदी को मत बोलना?

वो और हंसी और बोली, क्या ना बोलूं आप अपने बाजे को बजा रहे थे वो?

मैं शर्मा गया और बोला, प्लीज बी सिरियस यार, कुछ मत बोलना अनामिका को.

वो मेरी तरफ देख के बोली, मुझे क्या मिलेगा चुप रहने के बदले में?

मैंने कहा, जो चाहिए वो?

वो चाक़ू को स्टेंड पर रख के बोली, पक्का, प्रोमिस?

मैंने कहा, हां.

मुझे ऐसा था की या तो वो किसी होटल में खाने के लिए या तो फिर कोई गिफट के लिए कहेगी. लेकिन उसने जो कहा वो मेरे दिमाग में एकदम अटक सा गया.

उसने कहा मैं आप के साथ सेक्स करना चाहती हूँ जीजू!

बाप रे मेरी इस जवान साली को क्या हुआ था!

मैंने कहा, नहीं ये सही नहीं है बिंदु.

वो बोली, क्या सही नहीं हैं?

मैंने कहा अनामिका लव्स मी और मैं भी उसे बहुत प्यार करता हूँ.

वो बोली, मैं भी आप दोनों से बहुत प्यार करती हूँ. लेकिन ये आप को ऐसे हालत में देख के ना ही मैं खुश हूँ ना दीदी.

मैंने कहा, क्या मतलब हैं तुम्हारा दीदी से?

उसने कहा, जीजा जी उसे पता है की आप कितनो दिन से सेक्स के लिए भूखे है. मैं जब आई तभी दीदी ने कहा था की आप को सेक्स किये एक ज़माना हो गया है. और उसे ये भी पता है की आप के लिए अपने आप पर कंट्रोल कर पाना बड़ा मुश्किल है.

मेरे दिल में बीवी के लिए प्यार और भी बढ़ गया. लेकिन तभी बिंदु ने अपने हाथ को मेरी पेंट के ऊपर से लान के ऊपर रख दिया और उसको दबा दिया. शांतनु की बातों ने दिन में ही लंड खड़ा कर दिया था और अब साली के लंड को पकड़ने से मैं आवेगों को रोक नहीं पाया जरा भी.

मैंने उसे पकड लिया और वो मुझे एकदम से किस करने लगी. मैंने उसे कंधे से पकड़ा और उसके होंठो को किस करने लगा. वो मामियां रही थी और मेरे होंठो को एकदम जोर से चूस रही थी.

मैंने बिंदु को कहा, जल्दी से करना होगा मैं नहीं चाहता अनामिका को कुछ पता चले!

बिंदु घुटनों के ऊपर बैठी और उसने फट से मेरे लंड को बहार निकाल के चुसना चालू कर दिया.. वो एकदम कस कस के लंड को मजे से चूसने लगी थी. और मैंने उसके बालों में हाथ फेर के उसे अन्दर तक लंड दे रहा था.

पांच मिनिट तक उसने मजे से लंड को चूसा और फिर मैंने उसे खड़ा कर दिया. वो किचन का प्लेटफोर्म पकड के खड़ी हो गई. पीछे से उसकी ट्रेक पेंट को निकाल के मैंने अपना लंड उसकी पिलपिलाती हुई चूत में घुसा दिया. वो अह्ह्ह कर उठी. मैंने उसकी कमर को पकड़ा और उसे जोर जोर से चोदने लगा. वो एकदम सेक्सी आवाजे निकाल रही थी. मैंने उसे कहा धीरे से बोलो अनामिका उठ ना जाए.

वो सिर्फ उह्ह्ह कर के फिर से गांड को हिलाने लगी जोर जोर से. मैंने हाथ आगे कर के उसके बूब्स को पकडे और उन्हे दबाते हुए चोदने लगा.

2 मिनिट के बाद ही मेरे लंड का पानी उसकी चूत में निकल गया. उसने लंड निकलवा के अपनी पेंट चढ़ा ली ऊपर. और वो अपने चिकन बनाने के काम में लग गई.

अनामिका नहीं उठी थी और मेरा काम भी हो गया था साली की चुदाई करने का!

loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age