मीना को बिच के पास रूम में चोदा

loading...

मेरा नाम यश हे और मेरी उम्र 30 साल हे. मैं मुंबई में रहता हूँ और पिछले कुछ समय से इस साईट के ऊपर सेक्स की कहानियाँ पढ़ रहा हूँ. मेरी पहले एक गर्लफ्रेंड थी जिसका नाम ललिता था. मैंने उसको बहुत चोदा पर पिछले दिसम्बर में हमारा ब्रेकअप हो गया. वो अपने रस्ते चली और मैं अपने रस्ते.

मेरी लम्बाई पांच फिट और दस इंच हे और दिखने में मैं थोडा सांवला सा हूँ. मेरी बॉडी कोई हीरो जैसी नहीं हे लेकिन एवरेज हे. थोडा सा पेट बहार को आया हुआ हे. मैं एक कंपनी में सीनियर सेल्स पोस्ट पर हूँ. हम लोग वेस्ट रीजन की सेल्स स्ट्रेटेजी बनाते हे और फिल्ड में भी काम करता हूँ मैं सेल्स एग्जीक्यूटिवस के साथ में कभी कभी.

loading...

फिल्ड के दिनों ही में मेरी मुलाक़ात मीना से हुई. वो भी हमारे जैसे सेल्स फ़ोर्स में थी. सेल्समेन लोग अच्छे खाने के और नाश्ते के प्लेस जानते हे. मेरा वरली वाला सेल्समेन मुझे जिस केफेटरिया में ले के जाता था वही मीना भी आती थी. ऐसे ही हल्लो सल्लो और हाई साय होती थी कभी. मीना के साथ जो लड़का आता था वो मेरे सेल्समेन का दोस्त था तो हम लोग अक्सर एक ही टेबल के ऊपर बैठते थे.

loading...

कभी कबार साथ में लंच भी होता था. मीना मेरे में इंटरेस्टेड लग रही थी. और फिर हमने कुछ दिनों में नम्बर्स भी दे दिए थे एक दुसरे को. सच कहूँ तो कभी हिम्मत ही नहीं हुई आगे बढ़ने की. फिर मीना ने जॉब क्विट कर दिया और मेरा और उसका टच लॉस्ट हो गया.  तिन महीने के बाद मैंने उसे फेसबुक के ऊपर देखा और रिक्वेस्ट भेज दी. उसने उसी दिन मेरी रिक्वेस्ट एक्सेप्ट भी कर ली.

और फिर हम दोनों के बिच में नार्मल चेटिंग चालू हो गई. उसने मुझे बताया की उसका नम्बर बदल गया था. उसने मुझे अपना नया नम्बर दिया. फिर कुछ ही दिनों में हमने मिलने का फिक्स कर लिया. मेरी ऑफिस उसके घर के करीब में ही थी. उसने मुझे एक रेस्टोरेंट में मिलने के लिए कहा. वही पास में जुहू बिच भी था. हमने रेस्टोरेंट में मिलने के बाद कुछ समय बिच पर निकाला. फिर हम दोनों के बिच में ऐसे ही बातें होने लगी थी. कभी कभी तो हम दोनों लेट नाईट तक बातें करते थे.

और फिर एक दिन हम दोनों के बिच के शर्म का पडदा जैसे हट गया. दरअसल चेटिंग के बिच में हमने मेरिज वाली बातें छेड़ दी. मुझे पता चला की मीना की शादी बहुत समय पहले हुई थी लेकिन उसका पति सनकी था इसलिए उसने ख़ुशी से डिवोर्स ले लिया. मैंने उसे कंसोल किया.

उस समय हलकी बारिश हो रही थी और हम दोनों बातें कर रहे थे. मैंने मीना को कहा देखो जो भी होता हे अच्छे के लिए ही होता हे. चलो अच्छा हुआ की तुम्हारा उस आदमी से पीछा तो छुट गया. और मैंने उसको कहा की देखो मीना तुम अपनेआप को कभी भी अकेला मत समझो, मैं तुम्हारे साथ हूँ और कुछ भी काम हो मुझे बेझिझक बता दिया करो.

मीना उस दिन से मेरे साथ खुल सी गई. हम दोनों के बिच में हलकी हलकी रोमांटिक चेटिंग होने लगी थी. जैसे की मैं किस कर रहा हूँ तुम्हे वगेरह वगेरह.

फिर एक दिन मीना ने मुझे मिलने के लिए बुलाया. मैं उसे पास के एक गार्डन में ले के गया. वो जगह पर सभी कपल्स ही आते थे. वहां पर मैंने मीना का हाथ पकड़ के उसे अपनी बाहों में ले लिया और फिर उसके गाल के ऊपर एक किस दे दिया. मीना भी मेरा पूरा साथ दे रही थी. मैंने उसके कंधे को दबाया और फिर अपने होंठो को उसके होंठो से लगाया. उसके होंठ आइसक्रीम के जैसे सॉफ्ट थे और उन्हें किस करने का बहुत मजा आ रहा था मुझे. कुछ देर तक किसिंग करते हुए फिर मैं अपने हाथ को उसके बूब्स के ऊपर ले गया. धीरे धीरे मैं उसके बूब्स प्रेस कर रहा था और उसकी सलवार के ऊपर से उसकी चूत को भी टच कर रहा था. मीना को भी अच्छा लग रहा था.

फिर तो ऐसी मुलाकातें हमारे बिच में अक्सर होने लगी थी. वो सामने से मुझे बुलाती थी और मैं भी ख़ुशी ख़ुशी उसके बूब्स दबाने और चूत को टच करने के लिए चला जाता था. सच कहूँ तो मीना से ऐसे मिल के आने के बाद लंड को हिलाने में मजा आता था. अब मैं बेसब्री से उस मौके की तलाश में था की जब उसकी चूत को चोद सकूँ!

फिर एक दिन मैंने उस से कहा की हम बिच पर चलते हे. मुझे पता था की जुहू बिच के थोडा आगे एक जगह थी जहां पर कपल के लिए रूम्स मिलते थे. हम लोग बिच पर गए और फिर मैंने उसे किस करना चालू किया और उसके बूब्स भी प्रेस करने लगा. उस दिन उसने सफ़ेद टी शर्ट पहना था और निचे ब्लू जींस. उसके बूब्स बहुत ही टाईट थे और मुझे बहुत मजा आ रहा था उन्हें प्रेस करने में.

फिर यहाँ वहां देख के उसके शर्ट के एक बटन को खोला मैंने और उसके लिप्स को किस करते करते उसके ले तक पहुँच गया. फिर मैंने उसके बूब्स के ऊपर किस किया. मीना भी गरम हो चुकी थी. मैं लगातार उसके बूब्स को चूम रहा था ऊपर से और वो अजीब सी आवाजें निकाल रही थी.

मैं देखा बाजू में थोड़ी दूर और भी कपल्स बैठे थे. मैंने मीना को कहा की हमें यहाँ से कही और जाना चाहिए. उसने पूछा की कहा जा सकते हे. मैंने उसे भरोसा दिलाया. और फिर हमने एक रूम ले लिया पुरे दिन के लिए. जैसे ही रूम में घुसे मैंने उसे किस करना चालू कर दिया. मैं पागल हो चूका था और वो भी. पागलो की तरह हम किस कर रहे थे एक दुसरे को.

फिर मैंने उसके शर्ट के बटन ओपन किये और उसके बूब्स को ब्रा पर से ही किस करने लगा. और साथ में मैं उन्हें प्रेस भी कर रहा था. फिर मैंने उसके शर्ट को निकाल दिया और उसकी ब्रा की स्ट्रिप को पकडक इ पीछे से हुक खोल के उसको भी निकाल दिया. फिर  मैं मीना के निपल्स को चूमने लगा और उसके बूब्स को दबाने लगा. मैं मीना के सेक्सी निपल्स को जोर जोर से पिंच कर के सक कर रहा था और वो जोर जोर से मोअन करने लगी थी. फिर मैने अपने रुमाल को निकाल के मीना की आँखे बंद कर दी. फिर उसे निचे घुटनों के बल बिठा दिया अपने सामने मैंने.

फिर अपनी जींस की ज़िप को खोल के मैंने अपने लंड को बहार निकाला. वो समझ तो गई थी की क्या बहार आने वाला था लेकिन कुछ बोली नही. मैंने लंड को उसके सामने रख दिया और उसे चूसने के लिए कहा. उसने मुहं को खोला और मैंने अपने हाथ से मुहं में दे दिया उसको.

मीना को लंड मुहं में लेने में जैसे बड़ा मज़ा आ रहा था. वो पुरे लोडे को आगे तक डाल के सक कर रही थी. और एक हाथ से उसने मेरे लंड को पकड़ के हिलाना चालू कर दिया था. और फिर लंड को चूसते हुए वो मेरे लंड के निचे की दो गोटियों को भी दबा रही थी और चूस रही थी. गोटियाँ मुहं में देने से मुझे और भी होर्नी फिल होने लगा था. मेरे लंड का फ़ोर्स जमा हुआ और लंड के अंदर से ढेर सारा पानी निकल के उसके मुहं में भर गया.

10 मिनिट तक मैं उसके बदन के ऊपर हाथ घुमाता रहा. मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया. उसके बाद मैंने उसकी जींस और पेंटी उतारी और अपने लंड को धीरे धीरे उसकी चूत में डालने लगा. शरु शरु में मीना को काफी दर्द हुआ और वो सिसकियाँ रही थी.

बहुत टाईट थी उसकी चूत क्यूंकि वो डिवोर्स थी और किसी के साथ उसने सेक्स नहीं किया था सालो से. वो चिल्लाने लगी थी, अह्ह्ह यश प्लीज अह्ह्ह धीरे से करो, दर्द हो रहा हे!

मैंने थूंक लगा के उसकी चूत को चिकना किया तो लंड धीरे धीरे इन्सर्ट हुआ. जब एक बार लंड अन्दर चला गया तो मैंने फिर अपने लंड के धक्के लगाने चालू कर दिए. कुछ देर में मीना को भी मेरे लंड से मजा आने लगा. वो आह्ह अहह कर रही थी. और मैं उसके बूब्स को पकड़ के जोर जोर से उसकी चुदाई करने लगा था.

कुछ देर की चुदाई के बाद मेरा पानी मीना की चूत में ही निकल गया. हम एक दुसरे के ऊपर लेट गए और लंड अपनेआप ही सिकुड़ के उसकी चूत से निकल गया! वो काफी खुश थी मेरा लंड ले के!

Share this Story:
loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age