शराफत गयी तेल लेने

हेल्लो दोस्तों में जयदीप हु और मेरी उम्र २२ साल हे और मेरी बोडी थोड़ी मोटी हे और में अपनी पहली कहानी लेकर आया हु. मुझसे कोई गलती हो तो माफ़ कर देना.

यह बात २ साल पहले की हे. दोस्तो अपनी लाइफ में सिंगल होने के कारण मेरा जुकाव लडकियों और सेक्स के तरफ ज्यादा था. मी सोचता था की कोई मिल जाए जिसके साथ में अपनी भूख को शांत कर सकू, और किस्मत के चलते मुझे वह मौका भी मिल गया था.

में हेदराबाद अपने दोस्त से मिलने गया हुआ था, यह घटना वही की हे. हम लोक बहुत वक्त के बाद मिले थे तो दिन भर इधर उधर की बाते करने के बाद मेने उसे बोला अपनी गर्ल फ्रेंड से तो मिलाओ तो उसने अगले दिन एक दारू पार्टी का प्लान बनाया जिसमे हम दोनों उसकी गर्ल फ्रेंड और उसकी एक फ्रेंड थी.

अगले दिन हम ने सारी तयारी कर ली थी सुनील का खुद का प्रायवेट फ्लेट था तो जगह की कोई भी पप्रोबेल्म नहीं थी. ८ बजे वह दोनों आ गयी थी और बहत खुबसुरत लग रही थी.

सुनील की गर्ल फ्रेंड प्रेरणा का फिगर ३४-३०-३४ था और एकदम गोरी थी टाईट टॉप जींस पहन रखा था. उसकी फ्रेंड रेनू की फिगर ३०-२८-३४ थी वह थोड़ी सावली थी और उसने फ्रोक पहन रखा था. हम लोगो ने हेंड शेक किया फिर थोड़ी देर बाते की और फिर पहले स्माल पेग बनाया उसके बाद ज्यादा मजा करने ले लिए ट्रुथ एंड डेर खेलना शुरू कर दिया था.

सबसे पहले सुनील पे जाकर बोतल रुकी उसने रेनू से पूछा की ट्रुथ और डेर तो उसने डेर एक्सेप्ट किया. हम लोगों ने उस को प्रेरणा को किस करने के लिए बोला. उसे किस करता देख मेरा तो खड़ा हो गया और मैन्ने नोटिस किया रेनू की भी हालत खराब हो रही है और वही से मेरे दिमाग में ख्याल आया की इसपे ट्राय किया जाए.

फिर गेम चलता रहा. तिन पेग के बाद सब को नशा हो गया. मैं और सुनील खाना निकालने गए तो मैंने उससे पूछा रेनू सिंगल है तो उसने बोला तुझे कुछ करना है? तो बता तो मैंने हां बोल दिया. उसने बोला ठीक है मैं कुछ करता हूं.

 

खाने के साथ पिने के लिए एक स्ट्रोंग  बनाकर सुनील ने सबको दिया और प्रेरणा को अपनी गोद में बिठा लिया खिलाने के लिए. उसे देख कर रेनू की भी सेक्स की भूख जाग गई.

दारु खत्म होने के बाद सब को बहुत चढ़ चुकी थी. सुनील प्रेरणा को लेकर दूसरे रुम में चला गया मे औए रेनू बातें करने लगे. फिर सुनील के रूम से मॉनिंग की आवाज आने लगी, शायद सुनील ने उसे जोर से आवाज करने को बोला था.

रेनू ने अपनी नजर नीचे कर ली. मैं उसके पास गया और उससे पूछा क्या बात है इसमें शर्माने जैसा कुछ नहीं उसने बोला ऐसा नहीं मैं फटाक से बोल पड़ा ओह्ह अपनी चुदाई याद आ गई. मेरे मुह से ऐसा सुन कर वह पहले तो मुझे घूरने लगी.

पर फि उसकी आंखों से आंसू आने लगे, बोलने लगी वह वर्जिन है उसको सेक्स का बहुत मन करता है पर डर लगता है, उसे  दर्द सहन नहीं होगा, इसके चलते उसका ब्रेकअप हो गया. मैंने उसे गले से लगा लिया और बोला मैं समझ सकता हूं. फिर उसको टाइट बाहों में लिया उसकी बहुत गर्म हो चुकी थी.

मैंने धीरे से उसके बालों में हाथ डाल के पीछे खीचा और एक किस कर दिया गई पहले तो उसने रिस्पोंस नहीं दिया, पर मेरे कहने पर ट्रस्ट मी कुछ नहीं होगा, उसने कीस करना शुरु कर दिया. हमने ५ किस मिनट किया. फिर मैंने उसके बूब्स को  दबाना शुरु कर दिया.

उस से बूब्स बहुत सॉफ्ट थे और एकदम राउंड थे, उसने सिसकारी भरी..

और बोली प्लीज यह मत करो. मैंने बोला सुनील सुबह से पहले बाहर नहीं आने वाला  में टेंशन मत लो और लाइट ऑफ करके अपने ऊपर चादर डाल दिया. धीरे धीरे बूब्स दबाने  लगा उसकी सिसकारी सुन कर मुझे बहुत जोश आ रहा था. मेने उसे किस किया और जोर से बूब्स दबा दिए उसने मेरे होंठ काट लिया और पूरी तरह हिल गयी. उसकी आंखों में एक अलग चमक थी.

मैंने उसका टॉप उतार दिया उसने व्हाईट ब्रा पहनी थी उसमें उस के  संतरे जैसे बूब्स जो लाल हो चुके थे बहुत अच्छे लग रहे थे. मैंने ब्रा भी उपर की और एक बूब्स चूसने लगा और दूसरा दबाने लगा और एक हाथ से उसकी फ्रोक भी उतार दी. अब वह बस एक पेंटी में थी. उसकी पेंटी गीली हो गई थी. मैंने उसे अपने ऊपर लिटाया और किस करने लगा.

ऐसे ही ३० मिनट चलता रहा और मैंने उसकी पैंटी निकाली, एकदम चिकनी चूत थी उसकी उस पर बाल बिल्कुल नहीं थे. मैंने उसे किस किया और चाटने लगा. उसकी हालत खराब हो गई वह अकड गई और उसका पानी निकल गया. वह शर्माकर चेहरा छुपाने लगी और में अपने कपड़े उतारने लगा अंडरवेअर छोड़ सब उतार दिया. मैंने उसे बोला इसे तुम खुद उतारो.

तो वह बोलने लगी मैं अंदर नहीं ले पाऊंगी. मैंने उसे समझाया एक बार कोशिश करो जहां तुम बोलो तो मैं रुक जाऊंगा. अंडरवियर उतारते ही मेरा खड़ा हो गया. उसने बोला यह तो छोटा है उसके बॉयफ्रेंड से.

तो मैंने समझाया इसी लिए तुम आराम से ले सकती हो. मेरा सिर्फ ४ इंच का है, पर फिर भी उसे डर लग रहा था, मेने हेयर आयल अपने लंड और उसकी चूत पर लगाया और धीरे से डालने की कोशिश की, पर वह फिसल गया, वह सच में वर्जिन थी.

फिर उसे  सोफे पर लेटा के  गांड के नीचे तकिया लगा दीया और चूत पर रगडते हुए उसे किस करने लगा. जब वह किस में खो गई तो अचानक पूरी ताकत से मेने अंदर डाल दिया, वह उसकी सील तोड़ता हुआ अंदर चला गया, वह तड़प उठी पर मैंने उस के ओठ कस के दबा लिए, वह रो रही थी.

मैं उसका सिर सहलाने लगा, वह थोड़ी शांत हुई तो मैंने एक और धक्का लगाया और पूरा अंदर चला गया. उसके खून की गर्मी में महसूस कर पा रहा था. धीरे धीरे अंदर बाहर करने लगा.

अब उसे भी थोड़ा मजा आना चालू हुआ तो मैंने स्पीड बढ़ाई और वह मौन करने लगी, उसकी आवाज से मुझे जोश अ रहा था और में पूरी ताकत से अंदर तक धक्का मार रहा था. फिर १० मिनट की चुदाई के बाद दोनों जड़ गए और वैसे ही सो गए.

सुबह उठ कर देखा तो पिलो खून से लाल थी. जाने से पहले हम ने पिलो हटा दी और नाहा के फ्रेश हो गये. रेनू से चला नहीं जा रहा था. मेने उसे दिन में यही रहने के लिए मना लिया.

7 Replies to “शराफत गयी तेल लेने”

Comments are closed.