ब्ल्यू फिल्म दिखा के ताऊ जी ने ताई को चोदा

दोस्तों मेरा नाम अभिषेक शर्मा है और मैं महाराष्ट्र के लातूर में रहता हूँ. मेरी उमर अभी 22 साल की है. और मेरे लंड का साइज़ 6 इंच का है. आज मैं आप को अपने आँखों से देखी हुई एक चुदाइ के बारे में बताने के लिए आया हूँ. और ये बात हे मेरी ताई जी की. उनका नाम शकुन्तला है. चलिये अब टाइम वेस्ट ना करते हुए सीधे कहानी पर आता हूँ. दोस्तों जैसे की मैंने बताया की मेरी ताई बड़ी ही सेक्सी औरत है. और उन्हें देख कर किसी भी मर्द का लंड खड़ा हो जाए ऐसा उनका रूप है. ताई की उम्र 34 साल की है. लेकिन इस उम्र में भी वो काफी जवान लगती है. उसके बूब्स तने हुए और नुकीले है. और जब वो ब्लाउज पहनती है तो उसकी तंग चोली में ये बड़े सेक्सी बोबे एकदम ही क़यामत ढाते है.

बात तब की है जब गर्मियों का मौसम था. और मैं हमारी छत के ऊपर सो रहा था. ताई जी वगेराह निचे सोते है और बाकी के सब लोग छत पर सोते है. आज मेरे को नींद ही नहीं आ रही थी. गर्मी की वजह से और मच्छरों की वजह से मेरी नींद उडी हुई थी. प्यास बी लगी थी. तो मैंने सोचा की निचे जा के पानी पी लेता हूँ. मैं जब निचे आ रहा था तो मैंने देखा की ताई जी के कमरे की लाईट जल रही थी. वो लाईट टीवी की लग रही थी. पहले तो मैंने ध्यान नहीं दिया लेकिन जब मैं कमरे के पास से निकला तो मैने देखा की कमरे के टीवी की लाईट तो जल रही थी लेकिन उसका साउंड बंद था.  अब साउंड बंद कर के भला कोई क्या देखता है टीवी के ऊपर? आप के मन में भी वही चीज आई जो उस वक्त मेरे दिमाग में आई थी. मैंने चुपके से कमरे में झाँका तो मेरा शक 200 प्रतिशत सच निकला. अंदर मेरी ताई जी और ताऊ जी बैठ के टीवी के ऊपर नंगी ब्ल्यू फिल्म देख रहे थे. मैं खुद भी कभी कभी ऐसे ब्ल्यू फिल्म देखता था.

मैंने सोचा की साला मेरे को भी नींद तो नहीं आ रहा है तो मैं भी यहाँ इस ब्ल्यू फिल्म को देख लेता हु, और फिर मुठ मार लूँगा तो शायद नींद आ जाएगा. ये सोच के मैं एक खिड़की के पास खड़ा हो गया जहाँ से अंदर की ब्ल्यू फिल्म मेरे को दिख रही थी. ताऊ जी मेरी ताई को उठाने की कोशिश कर रहे थे लेकिन वो उठ नहीं रही थी. लेकिन ताऊ जी भी हटने वाले तो नहीं थे. अब भला ब्ल्यू फिल्म देखने के बाद भी चोदने को ना मिले ऐसा थोड़ी होता है. उनकी जिद्द के सामने ताई की नहीं चली. शकुन्तला ताई खड़ी हो गई और ताऊ जी ने उसकी साडी को खोल दिया और फिर ताई ने खुद ही अपने पेटीकोट को उतार दिया. ताई का सेक्सी बदन ब्रा मे काफी सेक्सी लग रहा था. लेकिन जल्दी ही वो ब्रा भी उतर ही गई. मुझे ताई जी का वस्त्रहरण देखने में काफी मजा आ गया. थोड़ी ही देर में ताऊ जी ने वो बड़े बूब्स को हाथ में के दबाना चालू कर दिया. वो एकदम कस कस के बूब्स को दबा रहे थे जिस से ताई शकुन्तला भी मदहोश होने लगी थी.

अब ताऊ जी से भी रहा नहीं जा रहा था. वो अब ताई जी की पेंटी उतारने लगे. मैंने आज से पहले किसी को चुदाई करते हुए लाइव नहीं देखा था. अब धीरे धीरे ताऊ जी ने पेंटी को उतार दिया.शकुन्तला ताई की चूत एकदम मस्त थी. वो किसी गुलाब के फुल के जैसी ही थी. ताऊ जी ने अपनी एक ऊँगली को उस चूत पर लगा दिया. और धीरे धीरे कर के वो ऊँगली को चूत में घुसाने लगे. उनकी पूरी ऊँगली चूत में डाल के वो उसे आगे पीछे कर रहे थे. ताई जी के मुहं से अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह निकल रहा था. और ताऊ जी उन्हें मुहं पर ऊँगली रख के चुप रहने का इशारा कर रहे थे. अब ताई जी की टांगो को खोल के ताऊ जी ने चूत को चुसना चालु कर दिया. ताई जी भी काफी हॉट हो चुकी थी. वो अपने हाथ से ताऊ जी के माथे को अपनी चूत पर जोर से दबा रही थी. उसकी चलती तो वो ताऊ जी को पूरा ही चूत में घुसा लेती! हिंदी पोर्न स्टोरीज डॉट कॉम 

ताऊ जी जोर जोर से अपनी जबान से चूत को चूस रहे थे और उसे ऊँगली से भी चोद रहे थे. इसलिए जल्दी ही ताई जी का पानी निकल गया और वो ढीली हो गई. शकुन्तला ताई जी ने ताऊ जी का लंड पकड़ा और मजे से उसे अपने मुहं में डाल के चूसने लगी. और वो लंड ऐसे चूस रही थी जैसे चोकोबार की ककैंडी खा रही हो. चूसते चूसते ही ताऊ जी ने मुहं में सारा के सारा पानी निकाल दिया. ताई को ये अच्छा नहीं लगा लेकिन!

फिर ताऊ जी ने ताई को निचे लिटाया और पीछे से अपने खड़े लंड को चूत में लगाया. लेकिन लंड पहले धक्के पर फिसल गया. तो ताऊ जी ने फिर से ट्राय किया तो हल्का सा लंड चूत में चला ही गया और ताई जी के मुहं से अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह ओह निकल गई. तो ताऊ जी ने एक और जोर का धक्का लगाया और उनका पूरा लंड अब आराम से ताई की गीली चूत में चला ही गया. और अब ताऊ जी शकुन्तला ताई की मजे से चुदाई करने लगे.

5 मिनिट के बाद ताऊ जी ने लंड निकाल लिया और उसके उपर पता नहीं कौन सा आयल लगाया और फिर से उसे चूत में डाल दिया. और धीरे धीरे से चूत में डाला तो ताई जी के मुहं से अह्ह्ह अह्ह्ह्होह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह ईईइ अह्ह्ह्ह निकला. ताऊ जी के लोडे की लम्बाई तो एवरेज थी लेकिन वो मोटा काफी था इसलिए पूरा अंदर जाता था तो ताई की आह्ह्ह आआह्ह निकाल देता था. ताऊ जी ने कुछ देर में पूरा लंड अंदर ही पार्क कर दिया जैसे. और फिर से वो ताई की चूत को चोदने लगे. ताई के मुहं में से फिर वही अह्ह्ह अह्ह्ह ऊऊऊ औऊह की सिसकियाँ निकल गई.

और फिर कुछ देर रुक के ताऊ जी ने जोर का झटका दे दिया. ताई चुप हो गई फिर मदहोश आवाज करने लगी वो और उनको भी अब बहुत मजा आने लगा था. फिर क्या था ताऊ जी की रफ़्तार भी अब धीरे धीरे बढती ही चली गई. वो जोर जोर से चुदाई करने लगे ताई की चूत की. कमरे में से पच पच की आवाजें आ रही थी और ब्ल्यू फिल्म में अब एनाल सेक्स का सिन चल रहा था. हिंदी पोर्न स्टोरीज डॉट कॉम 

और ब्ल्यू फिल्म चल रही थी इसलिए ताऊ जी भी पुरे जोश में ही थे. शायद लंड पर उन्होंने जल्दी न झड़ने के लिए जापानी तेल लगाया हुआ था. मेरा भी ये सब देख के लंड एकदम लाल हो गया था. और मेरा मन कर रहा था जा के ताई को पकड के मैं भी अपना लंड उसकी चूत में डाल दूँ!

लेकिन भला मैं कर क्या सकता था! बस चुपके से देख रहा था और अपने लंड को मसल रहा था. फिर ताऊ जी ने एकदम जोर का धक्का दिया और अपना सारा पानी शकुन्तला ताई की चूत में ही निका दिया. और चिपक के वो लंड को अंदर ही रखे हुए उन्हें किस करने लगे. चूत से ताऊ जी के लंड का पानी जैसे ओवर फ्लो हो के बहार आने लगा था जो मुझे दिखा! (तभी तो मुझे पता चला की उनका छूट गया था!)

मेरे लंड में भी चुदाई की आग सी लगी हुई थी अब तो. और फिर ताऊ जी ने ताई जी के बूब्स को चुसना चालू कर दिया. और ताई जी अब भी काफी मदहोश थी और वो इस चुदाई से पूरी संतुष्ठ नहीं हुई थी शायद. ताऊ जी जोर जोर से बूब्स को दबा रहे थे और ताई जी के मुहं से अह्ह्ह अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह उईइ अह्ह्ह्ह उह्ह्ह की आवाजें निकलने लगी थी.

अब ताऊ जी ने धीरे से लंड निकाल दिया और सहलाने लगे फिर से ताऊ जी उसे हलके हलके हाथो से. थोड़ी देर में वो वापस खड़ा हो गया फिर से. तो ताई को उन्होंने उल्टा किया और उसे एकदम कुतिया के जैसे बना दिया. और पीछे से वो गांड के होल को सूंघने लगे. और फिर उन्होंने अपनी एक ऊँगली को ताई की गांड में डाली ऊँगली अंदर जा नहीं रही थी. लेकिन ताऊ ने थोडा जोर कर के जैसे ही ऊँगली को अंदर फ़ोर्स से डाली तो ताई के मुहं सेदर्द की सीत्कार निकल पड़ी अह्ह्हह्ह्ह्ह! लेकिन ताऊ जी के ऊपर उसका कोई असर नहीं होता हुआ दिखा. वो तो अपनी ऊँगली को ताई की गांड में अंदर बहार कर रहे थे और ताई जी सित्कारें करती ही गई!

और फिर कुछ देर के बाद ताऊ जी ने ऊँगली को गांड के होल से निकाला. और उसकी जगह पर उन्होंने अपने लंड के टोपे को अंदर घुसा दिया. और वो गांड में घुसाने के लिए प्रेशर देने लगे. लेकिन लंड अंदर गांड में घुस नहीं पा रहा था तो उन्होंने और जोर किया और हलके से लंड को थोड़ा सा अंदर घुसा ही दिया. ताई बडबडा उठी निकाल लो अह्ह्ह्हह्ह मार डाला अह्ह्ह्ह मैं मर गई अह्ह्ह! लेकिन ताऊ जी ने एक नहीं सुनी उनकी और प्रेशर को थोडा और बढ़ा दिया.

शकुन्तला ताई की आँखों से आंसू निकलने लगे तो ताऊ ने हल्का लंड बहार निकाल के उन्हें थोड़ी राहत दी. लेकिन फिर से उन्होंने लंड को अंदर घुसा भी दिया और वो ताई की चूत को चोदने लगे. ताई के मुह से सीत्कार निकल रहे थे क्यूंकि वो मोटा लंड उसकी गांड के लिए बहुत दर्दनाक बना हुआ था.

ताऊ जी उसकी एक भी नहीं सुन रहे थे और अपने लंड के धक्के लगा लगा के उसकी गांड को चोद रहे थे. और फिर उनकी रफ़्तार भी बढती चली गई और ताई जी कराहने लगी थी. लेकिन वो भी अब आराम से गांड मरवाने लगी थी.  हिंदी पोर्न स्टोरीज डॉट कॉम 

ये सब कुछ मैं पहली बार देख रहा था. मुझे डर भी लग रहा था की कभी कोई देख न ले मुझे. वो दोनों खिड़की से काफी नजदीक थे इसलिए डर आना लाजमी था.

ताऊ जी दे दना दन वाली चुदाई की स्पीड पर आ गए थे. और कस कस के वो गांड को चोदते गए. ताई के लिए भी लंड अब थोडा कम पेनफुल था इसलिए वो भी सपोर्ट दे के मरवा रही थी गांड को अपनी. और फिर ताई ने खुद अपनी गांड के दोनों कूल्हों को फाड़ा और ताऊ जी को पूरा लंड अंदर घुसाने को बोल दिया उसने.   हिंदी पोर्न स्टोरीज डॉट कॉम 

और ताऊ जी ने जोर जोर से धक्के लगाए और एक जोर का धक्का मारा एंड में. और वो रुक गए. उनका पानी निकलने लगा था. उन्होंने पानी ताई की गांड में ही निकाल दिया. और वो ताई की चूची को दबाने लगे और फिर से लेट गए. मेरा लंड भी पूरा फूल गया था. पानी पिने के बाद मैंने मुठ मार के उसे हल्का किया और सो गया!!!