ट्रेन में अजनबी से चुद गयी

loading...

हेलो दोस्तों मैं रिकी आज से एक बार फिर से आप अपनी स्टोरी सुनाने जा रहा हूं वह मेरी एक फ्रेंड की है जिसका नाम शाइना है तो आगे की कहानी शाइना की जुबानी.

यह बात तब की है जब मैं अमृतसर जा रही थी, चंडीगढ़ से अमृतसर जाने के लिए ४ या ५ घंटे लग जाते हैं, तो उस दिन बुधवार था तो ट्रेन में इतनी भीड़ नहीं थी. तो में ट्रेन में जाकर अपनी सीट ढूंढने लगी, तभी मेरी टक्कर एक लड़के के साथ हुई जो १८-१९ साल का होगा.

loading...

तो मैंने उसे सॉरी बोला और अपनी सीट ढूंढने लगी, मुझे मेरी सीट मिल गयी मेरी सीट टेबल सिट थी एकदम सेंटर में, तो मैं जाकर अपनी सीट पर बैठने लगी. उस टाइम ट्रेन में ज्यादा लोग नहीं थे.

loading...

तो मैं अपनी सीट पर बैठ गई और इतने में ट्रेन चल पड़ी और कुछ देर बाद वही लड़का जो मुझसे टकराया था वह मेरे सामने वाली सीट पर आकर बैठ गया, शायद उसकी वही सीट थी.

मैंने भी इतना ध्यान नहीं दिया.

मैं और मेरी फ्रेंड अक्सर अपने रूम पर ब्लू फिल्में लगा कर देखते हैं तो एकदम से मेरा ब्लू फिल्म देखने का मन कर रहा था.

पहले तो मैं यहां वहां देखा ट्रेन में कम ही लोग थे शायद मोहाली से चढ़ने वाले होंगे. चंडीगढ से मोहाली १५ मिनट की दूरी पर है, तो मैंने अपनी पीछे वाली सीट देखी तो वह भी खाली थी, तो मैंने फिर मैं ब्लू फिल्म लगा दी और देखने लगी, वह फिल्म इतनी सेक्सी थी कि मेरा हाथ ऑटोमेटिकली मेरे लोवर में चला गया और शायद यह की उस लड़के ने नोटिस कर ली.

उसे शायद पता चल गया था कि मैं ब्लू फिल्म देख रही हूं.

फिर इतने में मोहाली आ गया तो मैंने अपना पोर्न बंद कर दिया और आराम से बैठ गई.

इतने में मुझे मेरी टांग पर कुछ महसूस हुआ तो पहले तो मैंने इग्नोर किया, पर जब वह ज्यादा होने लगा तब मैंने नोटिस किया कि यह उस लड़के की टांग थी और वह जानबूझ कर यह सब कर रहा था.

पहले तो मैंने विरोध करने का सोचा पर ब्लू फिल्म देखकर मेरा भी मन हो गया था, तो मैंने कुछ नहीं किया कहा. थोड़ी देर बाद मुझे उसका पैर फील हुआ शायद उसने अब अपना शुज निकाल दिया था और वह मुझे लगातार टच कर रहा था.

फिर मैंने भी मजा लेने का सोचा और मैंने अपना सेंड निकालकर उसकी टांगों को टच करने लगी, इतने में उसने मुझे देखकर स्माइल पास की और मैंने भी.

फिर वह धीरे धीरे ऊपर की तरफ आने लगा और मेरी जांघ तक आ गया और सहलाने लगा, जिससे मैं गरम हो गई थी फिर मैंने अपनी टांगें थोड़ी ऊपर की और उसके लंड तक ले गई, और मुझे महसूस हुआ के उसका लंड खड़ा था और काफी बड़ा भी था.

फिर उसने मुझे वोशरुम में आने को कहा मैं भी चल पड़ी, क्योंकि आग तो दोनों तरफ थी.

फिर मै वोशरुम चली गई इतने में वह भी मेरे पीछे पीछे आ गया, ट्रेन में भीड़ नहीं थी तो दरवाजा पर कोई नहीं खड़ा था, तो हम आसानी से वॉशरूम में घुस गये, वॉशरूम में एंटर करते ही उसने किस करने स्टार्ट कर दी और मैं भी रिस्पांस करने लगी.

फिर वह धीरे धीरे मेरे बूब्स पर आया और बड़े प्यार से मेरे बूब्स टॉप के ऊपर से ही दबाने लगा था और फिर उसने मेरा टॉप भी निकाल दिया और मेरी ब्रा के ऊपर से ही मेरे बूब्स चूसने लगा, मुझे काफी मजा आ रहा था फिर उसने मेरी ब्रा भी उतार दी और मेरे नंगे बूब्स चूसने लगा.

५-१० मिनट बूब्स चूसने के बाद वह नीचे बैठ गया और मेरी नाभी को चाटने लगा और धीरे धीरे मेरी पेंट का बटन खोलने लगा और एक दम से मेरी पैंट मेरे पैरों में गिर गई, और अब मैं सिर्फ लाल पैंटी में थी. उसने पैंटी के ऊपर से ही मेरी चूत चाटी और चूसने लगा, फिर वह मेरी पैंटी को नीचे करने लगा और उसने मेरी पैंटी भी उतार दी और मेरी चूत चाटने लगा और मैं आह्ह औऊ ओह्ह हहह यस्स हश्श हां ओह अहह मोन कर रही थी.

मुझे बहुत मजा आ रहा था फिर वह खड़ा हुआ और अपनी शर्ट खोलने लगा और उसने अपनी शर्ट खोल दी, क्या बोडी थी उसकी? एकदम टाइट बॉडी मैंने उसकी बॉडी को चूमना शुरू कर दिया.

मुझ में एक नशा सा हो गया था और मैं लगातार उसकी बॉडी को चूमें जा रही थी फिर मेरी नजर गई तो उसका लंड पूरा खड़ा था.

फिर मैंने उसकी पेंट का बटन खोला और उसकी पेंट खोल दी, अब वह सिर्फ अंडरवीयर में था. उसका लंड बहुत ही सुंदर लग रहा था. फिर मैं अंडरवेअर के ऊपर से उसका लंड चूसने लगी चूमने लगी, फिर मैंने उसका अंडरवीयर भी निकाल दिया.

क्या बताऊ दोस्तों? उसका लंड ७ इंच बड़ा था और एकदम गोरा था उसके लंड का टोपा तो कमाल का था, उसके लंड की खुशबू ने मुझे पागल ही बना दिया.

में धीरे से उसके लंड के टोपे को चूसने लगी और आह्ह अह्ह्ह ओह हहह औउ ओह हहह करने लगा, और फिर मैंने उसका पूरा लंड मुंह में ले लिया और चूसने लगी. मैं बिल्कुल मस्त हो गई थी और पूरी मस्ती में उसका लंड चूस रही थी, मुझे उसका लंड बहुत ही अच्छा लग रहा था.

और वह तो बस अहः ओह्ह हहह होह यस हश्श ओह हां हप अह्ह्ह ओह्ह हां कर रहा था, मैंने १५ मिनट तक उसका लंड चूसा.

फिर वह खड़ा हुआ और मेरे को किस करने लगा और साथ में मेरी चूत में उंगली डालने लगा.

फिर उसने मुझे उल्टा किया और अपने लंड को मेरी चूत पर रगड़ने लगा, मुझे मजा आ रहा था और मैं उसका साथ दे रही थी. फिर उसने एकदम से ही लंड चूत में डाल दिया और मेरी चीख निकल गई.

वह मुझे चोदने लगा, थोड़ी देर बाद जब मुझे भी मजा आने लगा तो मैं भी साथ देने लगी फक मी आह्ह ओह अहह यस्स श्श्स ओह हह्ह्ह फक मी कहने लगी, उसने मेरी २० मिनट तक चुदाई की फिर वह झड़ गया और मे भी जड़ गयी.

फिर उसने एक बार फिर मेरी चूत चाटी और मैंने उसका लौड़ा, फिर हमने अपने कपड़े पहने और अपनी सीट पर जाकर बैठ गए, फिर हमने बात करनी शुरु की तो उसने अपना नाम रमन बताया, वह जालंधर रहता है, फिर हमने कांटेक्ट भी शेयर कीया.

loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age